written by khatabook | August 18, 2021

कैपिटल गेन टैक्स इंडिया- परिभाषा, प्रकार, छूट और टैक्स बचत

भारतीय कराधान प्रणाली मोटे तौर पर दो प्रकार के करों में विभाजित है- प्रत्यक्ष कराधान और अप्रत्यक्ष कराधान। प्रत्यक्ष कर को मोटे तौर पर आयकर और संपत्ति कर में विभाजित किया गया है। सरकार आयकर में अर्जित आय पर कर लगाती है। उस प्रयोजन के लिए आय के पाँच हेड को वर्गीकृत किया गया है। वह है:

1. वेतन से आय

2. गृह संपत्ति से आय

3. व्यवसाय और पेशे से लाभ और फायदा 

4. पूंजीगत लाभ से आय और

5. अन्य स्रोतों से आय।

इस लेख में हम भारत में पूंजीगत लाभ कर के बारे में विस्तार से जानने जा रहे हैं।

भारत में कैपिटल गेन टैक्स क्या है?

पूंजीगत लाभ पूंजीगत संपत्ति को बेचने से होने वाला लाभ या लाभ है। यह 'पूंजीगत लाभ से आय' हेड के तहत दिखाई देगा और उसी के अनुसार कर लगाया जाएगा। यह कर उस वर्ष में लगाया जाता है जिसमें ऐसी पूंजीगत संपत्ति स्थानांतरित की जाती है। कैपिटल गेन को आगे शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन (STCG) और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) में बांटा गया है।

कैपिटल एसेट क्या है?

पूंजीगत संपत्ति में गृह संपत्ति, भूमि, भवन, वाहन, पेटेंट, ट्रेडमार्क, मशीनरी, पट्टा (leasehold) अधिकार और कई अन्य शामिल हैं। हालाँकि निम्नलिखित चीजे पूंजीगत संपत्ति के अंतर्गत नहीं आते हैं:

1. भारत में ग्रामीण कृषि भूमि।

2. स्पेशल बेअरर बॉन्ड 

3. सरकार द्वारा जारी स्वर्ण बांड।

4. व्यवसाय या पेशे के लिए रखा गया कोई भी कच्चा माल या स्टॉक।

5. व्यक्तिगत प्रकृति की वस्तुएं।

हालांकि निम्नलिखित व्यक्तिगत चल संपत्ति हैं फिर भी उन्हें पूंजीगत संपत्ति माना जाता है:

1. आभूषण

2. चित्र, पेंटिंग, मूर्तियां या कला का कोई भी काम

3. पुरातत्त्व संबंधी संग्रह

पूंजीगत लाभ कर लगाने की शर्तें

पूंजीगत लाभ पर कर लगाने के लिए कुछ बुनियादी शर्तें हैं। वे इस प्रकार हैं:

1. एक पूंजीगत संपत्ति होनी चाहिए।

2. संबंधित अवधि के दौरान ऐसी पूंजीगत संपत्तियों का हस्तांतरण होना आवश्यक है।

3. ऐसे हस्तांतरण पर लाभ या फायदा होना चाहिए। यदि कोई नुकसान होता है तो कर नहीं लगाया जा सकता है।

पूंजीगत संपत्ति के प्रकार

पूंजीगत संपत्ति दो प्रकार की होती है। वे अल्पकालिक पूंजीगत संपत्ति यानि शॉर्ट टर्म कैपिटल एसेट और दीर्घकालिक पूंजीगत संपत्ति यानि लॉंग टर्म कैपिटल एसेट हैं। उन्हें नीचे इस प्रकार से समझाया गया है:

1. शॉर्ट टर्म कैपिटल एसेट (STCA)

आम तौर पर शॉर्ट टर्म कैपिटल एसेट एक ऐसी संपत्ति होती है, जिसे 3 साल से अधिक समय तक नहीं रखा जाता है।

हालांकि यह अवधि अब वित्तीय वर्ष 2017-18 से अचल संपत्तियों जैसे भूमि, भवन और गृह संपत्ति के लिए  2 वर्ष तक सीमित कर दी गई है। लेकिन यह 2 साल की अवधि ज्वैलरी, डेट-ओरिएंटेड (debt-oriented) म्यूचुअल फंड आदि पर लागू नहीं होती है।

2. लॉंग टर्म कैपिटल एसेट (LTCA)

आम तौर पर एक लंबी अवधि की पूंजीगत संपत्ति एक ऐसी संपत्ति होती है जिसे कम से कम 3 साल की अवधि के लिए रखा जाता है।

3 साल की होल्डिंग की अवधि के कुछ अपवाद हैं। वे इस प्रकार हैं:

1. भूमि, भवन और गृह संपत्ति जैसी अचल संपत्तियों में यह अवधि 3 वर्ष से घटाकर 2 वर्ष कर दी गई है।

इसका मतलब है कि अगर इन पूंजीगत संपत्तियों को 2 साल से कम समय में बेचा जाता है तो उन्हें अल्पकालिक संपत्ति यानि शॉर्ट टर्म असेट माना जाता है अन्यथा दीर्घकालिक संपत्तिय यानि लॉंग टर्म असेट। ये 2 साल की शर्त ज्वैलरी, डेट ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड आदि पर लागू नहीं होते हैं।

2. दिनांक 10/07/2014 से पूंजीगत संपत्ति की कुछ श्रेणियों के लिए होल्डिंग की अवधि 12 महीने है। इसका मतलब है कि अगर इन पूंजीगत संपत्तियों को 12 महीने से कम समय में बेचा जाता है तो उन्हें अल्पकालिक संपत्ति माना जाता है अन्यथा दीर्घकालिक संपत्ति।

ऐसी संपत्ति हैं:

  1. शेयर जो भारत में मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं।
  2. प्रतिभूतियां जो भारत में मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं।
  3. यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया की इकाइयां।
  4. इक्विटी ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड की इकाइयाँ।
  5. जीरो-कूपन बॉन्ड।

महत्वपूर्ण बिंदु- कोई संपत्ति यदि उपहार, वसीयत या विरासत (Will or Inheritance) द्वारा अर्जित की जाती है तो पूंजीगत संपत्ति के प्रकार और उसी पर लाभ निर्धारित करने के लिए पिछले धारक की होल्डिंग की अवधि को जोड़ा जाता है।

शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन पर टैक्स की दरें

निम्नलिखित से आप एलटीसीजी कर की दर और एसटीसीजी कर की दर के साथ पूंजीगत लाभ कर के बारे में आसानी से जान सकते हैं-

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स रेट

  • इक्विटी शेयरों या इक्विटी-ओरिएन्टेड फंडों की इकाइयों की बिक्री पर- 1 लाख रुपये से अधिक होने पर 10% । यानी 1 लाख रुपये तक के ऐसे शेयरों के LTCG पर कोई टैक्स नहीं लगता है। 
  • इक्विटी शेयरों या इक्विटी-ओरिएन्टेड फंडों की इकाइयों की बिक्री को छोड़कर - 20%

शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स रेट

  • जब प्रतिभूति लेनदेन कर यानि सिक्योरिटी ट्रांजेक्शन टैक्स (STT) लागू होता है - 15%
  • जब प्रतिभूति लेनदेन कर लागू नहीं होता है तो इस तरह के अल्पकालिक पूंजीगत लाभ को आयकर रिटर्न में जोड़ा जाता है और कर का भुगतान मूल आयकर स्लैब दरों के अनुसार किया जाता है।

इक्विटी और डेट म्यूचुअल फंड पर टैक्स लगाना 

डेट और इक्विटी ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड के लिए टैक्स ट्रीटमेंट अलग है। अगर कोई फंड 65% इक्विटी में भारी निवेश करता है तो उसे इक्विटी ओरिएंटेड फंड कहा जाता है। वरना इसे डेट ओरिएंटेड फंड कहते हैं। आइए उनकी टैक्स दरों के बारे में जाने।

फंड का प्रकार

11 जुलाई 2014 से लागू 

10 जुलाई 2014 को या उससे पहले

 

STCG

LTCG

STCG

LTCG

डेट ओरिएंटेड म्युचुअल फंड

व्यक्तिगत स्लैब दरों के अनुसार

इंडेक्सेशन के साथ 20% पर टैक्स

व्यक्तिगत स्लैब दरों के अनुसार

बिना इंडेक्सेशन के 10% टैक्स या इंडेक्सेशन के साथ 20% टैक्स, दोनों में जो भी कम हो

इक्विटी ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड

दर 15% 

-

दर 15% 

-

डेट म्यूचुअल फंड की होल्डिंग अवधि 3 वर्ष है। यदि उन्हें 3 साल से अधिक समय तक रखा जाता है तो वे दीर्घकालिक पूंजीगत संपत्ति के योग्य होते हैं और जब इसे बेचा जाता है, तो इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन/लॉस कहा जाता है। इसके विपरीत यदि इसे 3 वर्ष से कम समय के लिए रखा गया है, तो यह एक अल्पकालिक पूंजीगत संपत्ति है और इसकी बिक्री पर इसे अल्पकालिक पूंजीगत लाभ/हानि के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। अल्पकालिक पूंजीगत लाभ के मामले में यह आय में जुड़ जाता है और फिर स्लैब दरों के अनुसार कर लगाया जाता है।

कैपिटल गेन कैलकुलेशन 

पूंजीगत लाभ कर की गणना कैसे करें? यह समझने से पहले आइए कुछ महत्वपूर्ण टर्म्स के बारे में जानते हैं:

1. फुल वैल्यू ऑफ कंसीडरेशन यानी प्रतिफल का पूरा मूल्य- यह पूंजीगत संपत्ति की बिक्री या हस्तांतरण के परिणामस्वरूप विक्रेता द्वारा प्राप्त राशि है। यह उस वर्ष में कर लगाया जाता है जिसमें राशि प्राप्त न होने पर भी ऐसा स्थानांतरण होता है।

2. कॉस्ट ऑफ एक्विजिशन यानि खरीद की लागत- यह वह राशि है, जिसका भुगतान संपत्ति खरीदते समय किया गया था।

3. कॉस्ट ऑफ इंप्रूवमेंट यानि सुधार की लागत- वे पूंजीगत संपत्ति में परिवर्तन करने के लिए किए गए खर्च हैं। यदि इस तरह के सुधार 01/04/2001 से पहले किए जाते हैं तो इसे अनदेखा कर दिया जाता है।

इंडेक्सेशन: अधिग्रहण की लागत और सुधार की लागत को लागत मुद्रास्फीति सूचकांक के अनुसार लंबी अवधि में अनुक्रमित किया जाता है।

अधिग्रहण की अनुक्रमित लागत ( इंडेक्स कॉस्ट ऑफ एक्विजिशन): अधिग्रहण की लागत को उस वर्ष की लागत मुद्रास्फीति सूचकांक से गुणा किया जाता है जिसमें संपत्ति को स्थानांतरित किया गया था। इसे उस वर्ष के लागत मुद्रास्फीति सूचकांक (कॉस्ट इनफ्लेशन इंडेक्स) से विभाजित किया जाता है, जिसमें संपत्ति पहले विक्रेता के पास थी या 2001-02, दोनों में जो भी बाद में हो।

सुधार की अनुक्रमित लागत (इंडेक्स कॉस्ट ऑफ इंप्रूवमेंट): सुधार की लागत को उस वर्ष की लागत मुद्रास्फीति सूचकांक से गुणा किया जाता है, जिसमें संपत्ति को स्थानांतरित किया गया था। इसे उस वर्ष के लागत मुद्रास्फीति सूचकांक से विभाजित किया जाता है, जिसमें इंप्रूवमेंट हुआ था।

शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन का कैलकुलेशन

फुल वैल्यू ऑफ कंसीडरेशन

घटा (-):

  1. स्थानांतरण के संबंध में किया हुआ खर्च 
  2. अधिग्रहण की लागत
  3. सुधार की लागत

= शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन/लॉस

लॉंग टर्म कैपिटल गेन का कैलकुलेशन

फुल वैल्यू ऑफ कंसीडरेशन

घटा (-):

  1. इस स्थानांतरण के संबंध में किया हुआ खर्च
  2. अधिग्रहण की अनुक्रमित लागत
  3. सुधार की अनुक्रमित लागत

= लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन/लॉस

इस पूंजीगत लाभ/हानि से लाभ को कम करने के लिए धारा 54, 54EC, 54F और 54B की छूट का दावा किया जा सकता है और इस पर कर छूट या कम कर लगाया जाता है।

शेयरों की बिक्री के मामले में कुछ खर्चों को ब्रोकर के कमीशन के रूप में ज्ञात प्रतिफल (कंसीडरेशन) के पूर्ण मूल्य से घटाया जा सकता है। प्रतिभूति लेन-देन कर यानि सिक्योरिटी ट्रांजेक्शन टैक्स (STT) कटौती योग्य खर्चे नहीं है।

आप सुविधा के लिए कैपिटल गेन टैक्स कैलकुलेटर का भी उपयोग कर सकते हैं।

पूंजीगत लाभ से छूट

पूंजीगत लाभ के कुछ वर्गों के अनुसार कर बचत हो सकती है, जैसे:

धारा 54: आवासीय गृह संपत्ति की बिक्री राशि से दूसरा आवासीय गृह संपत्ति की खरीद पर

1. यह छूट तब प्राप्त की जा सकती है, जब एक आवासीय घर की संपत्ति बेची जाती है और आय को एक या दो आवासीय घर की संपत्ति खरीदने में निवेश की जाती है। पहले यह शर्त सिर्फ एक हाउस प्रॉपर्टी की खरीद के लिए थी।

2. दो आवासीय घर की संपत्ति खरीदने में जीवन में सिर्फ केवल एक बार और केवल 2 करोड़ रुपये के पूंजीगत लाभ तक की अनुमति है।

3. निवेश राशि पूंजीगत लाभ की संख्या होनी चाहिए।

4. छूट पूंजीगत लाभ की संख्या तक सीमित है भले ही संपत्ति की खरीद लागत अधिक हो।

शर्तेँ

1. नई संपत्ति बिक्री से एक साल पहले या दो साल बाद खरीदी जानी चाहिए।

2. यदि संपत्ति निर्माणाधीन है तो उसे तीन साल में पूरा किया जाना चाहिए।

3. नई संपत्ति कम से कम 3 साल के लिए होनी चाहिए अन्यथा छूट वापस ले ली जाएगी।

धारा 54F: गृह संपत्ति के अलावा किसी भी संपत्ति की बिक्री पर पूंजीगत लाभ

1. यदि आवासीय गृह संपत्ति के अलावा अन्य लंबी अवधि की संपत्ति बेची जाती है, तो इस छूट का उपयोग किया जा सकता है।

2. पूरी बिक्री राशि का निवेश किया जाना चाहिए।

3. नई संपत्ति बिक्री से एक साल पहले या दो साल बाद खरीदी जानी चाहिए।

4. यदि कोई संपत्ति निर्माणाधीन है, तो उसे तीन वर्षों में पूरा किया जाना चाहिए।

5. नई संपत्ति कम से कम तीन साल के लिए खरीददार के पास होनी चाहिए अन्यथा छूट वापस ले ली जाएगी।

6. यदि संपूर्ण बिक्री प्रतिफल का निवेश किया जाता है तो संपूर्ण पूंजीगत लाभ पर छूट दी जाती है। यदि एक हिस्से का निवेश किया जाता है तो एक समानुपातिक (proportionate) राशि पर छूट दी जाती है।

धारा 54EC: विशिष्ट बॉन्ड में पुनर्निवेश पर संपत्ति की बिक्री पर कैपिटल गेन टैक्स 

1. यदि पूंजीगत लाभ कुछ बॉन्ड में निवेश किया जाता है तो धारा 54EC का लाभ उठाया जा सकता है।

2. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) या ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड (RECL) में 50,00,000 रुपये तक की राशि का निवेश किया जा सकता है।

3. पैसा 5 साल बाद भुनाया जा सकता है; अगर इसे पहले भुनाया जाता है तो छूट वापस ले ली जाती है। पहले यह सीमा 3 साल के लिए थी।

धारा 54B: कृषि के लिए उपयोग की गई भूमि के हस्तांतरण से पूंजीगत लाभ

1. अगर किसी व्यक्ति/उनके माता या पिता/एचयूएफ ने 2 साल के लिए कृषि भूमि का उपयोग किया है और फिर भूमि को स्थानांतरित कर दिया है तो ऐसी बिक्री से पूंजीगत लाभ धारा 54B के लिए योग्य हैं।

2. छूट की राशि होगी:- पूंजीगत लाभ या निवेश की गई राशि, जो भी कम हो।

3. कृषि भूमि में पुनर्निवेश 2 वर्ष में किया जाना चाहिए।

4. नई कृषि भूमि कम से कम 3 साल के लिए पास होनी चाहिए अन्यथा छूट वापस ले ली जाएगी।

5. यदि आप 2 वर्षों में निवेश नहीं कर सकते हैं तो आप योजना के अनुसार बैंक की किसी भी शाखा में रिटर्न दाखिल करने की तिथि से पहले राशि जमा कर सकते हैं। जमा राशि का उपयोग छूट के लिए किया जा सकता है और यदि यह अप्रयुक्त रहता है यानि इसका उपयोग नहीं होता है, तो इसे पूंजीगत लाभ के रूप में माना जाएगा।

कृषि भूमि के लिए कर बचत

ऐसे कुछ मामले हैं जहां कृषि भूमि से पूंजीगत लाभ छूट प्राप्त है या पूंजीगत लाभ में नहीं माना जाता है।

1. ग्रामीण भारत में कृषि भूमि को पूंजीगत संपत्ति यानि कैपिटल असेट के रूप में नहीं माना जाता है और इसलिए इस पर कोई पूंजीगत लाभ कर नहीं है।

2. यदि आपका व्यवसाय कृषि भूमि को स्टॉक के रूप में खरीद और बेच रहा है तो वह व्यवसाय या पेशे से लाभ के तहत कर योग्य हैं।

3. यदि शहरी कृषि भूमि अनिवार्य रूप से अधिग्रहित की जाती है, तो उसे कर से छूट प्राप्त है।

यदि आपकी कृषि भूमि इन तीन श्रेणियों के अंतर्गत नहीं आती है, तो आप धारा 54B के तहत छूट प्राप्त कर सकते हैं।

निष्कर्ष

भारत में पूंजीगत लाभ कर कई शर्तों, प्रकार, अपवादों और छूटों के कारण समझने के लिए सबसे जटिल अवधारणाओं में से एक है। आप उपलब्ध छूटों और अन्य कानून प्रावधानों द्वारा अपनी पसंद की रणनीतिक योजना बनाकर कर बचा सकते हैं। इस लेख में हमने आपके लिए इन अवधारणाओं को सरल बनाने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपने भारत में पूंजीगत लाभ कर के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर ली है।

अधिक जानकारी के लिए Khatabook डाउनलोड करें!

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. क्या मैं किसी अन्य हेड के तहत शॉर्ट टर्म कैपिटल लॉस को समायोजित कर सकता हूँ?

शॉर्ट टर्म कैपिटल लॉस को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन या लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन के साथ ही सेट ऑफ किया जा सकता है। और लॉन्ग टर्म लॉस को सिर्फ लॉन्ग टर्म गेन के साथ ही सेट ऑफ किया जा सकता है। किसी अन्य हेड में सेट ऑफ की अनुमति नहीं है।

2. हाउस प्रॉपर्टी के बिक्री पर लॉंग टर्म कैपिटल गेन की दर क्या है?

   20% की समान दर

3. लागत मुद्रास्फीति सूचकांक यानि कॉस्ट इनफ्लेशन इंडेक्स क्या है?

लागत मुद्रास्फीति सूचकांक की गणना कीमतों को मुद्रास्फीति दर से मिलाने के लिए की जाती है। सरल शब्दों में समय के साथ मुद्रास्फीति की दर में वृद्धि से कीमतों में होने वाली वृद्धि।

4. पूंजीगत संपत्ति यानि कैपिटल असेट के प्रकार क्या हैं?

पूंजीगत संपत्ति दो प्रकार की होती है- लंबी अवधि की पूंजीगत संपत्ति (लॉंग टर्म कैपिटल असेट) और अल्पकालिक पूंजीगत संपत्ति (शॉर्ट टर्म कैपिटल असेट)।

5. शेयरों पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स क्या है?

15% की फ्लैट दर चार्ज किया जाता है।

6. शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स की कैलकुलेशन कैसे करें?

शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन = कंसीडरेशन का पूरा मूल्य (-)खरीद की लागत (-)इंप्रूवमेंट की लागत (-) बिक्री से संबंधित खर्च।

ऐसे एसटीसीजी पर संबंधित पूंजीगत लाभ कर की दर वसूल की जाती है।

7. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स की गणना कैसे करें?

दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ = कंसीडरेशन का पूर्ण मूल्य (-) खरीद की अनुक्रमित लागत (-) इंप्रूवमेंट की अनुक्रमित लागत (-)बिक्री से संबंधित खर्च ।

इस तरह के लाभ पर संबंधित एलटीसीजी कर की दर वसूल की जाती है।

8. सीआईआई (CII) का आधार वर्ष क्या है?

वित्तीय वर्ष 2001-02 सीआईआई का आधार वर्ष है। आधार की संख्या 100 है।

Related Posts

None

ठेकेदार को टीडीएस भुगतान पर गाइड (धारा 194सी)


None

धारा 80 के तहत कटौती: धारा 80C, 80CCC, 80CCD और 80D आयकर


None

अपने आयकर रिटर्न को ई-सत्यापित करने के लिए चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका


None

धारा 80EE: आयकर अधिनियम 1961 के तहत होम लोन कर प्रोत्साहन


None

आयकर अधिनियम के तहत मूल्यह्रास


None

आय प्रमाण पत्र ऑनलाइन कैसे प्राप्त करें – प्रक्रिया और प्रारूप


None

शेयर बेचने से होने वाली आय पर टैक्स भुगतान के बारे में जाने


None

वेतनभोगी व्यक्तियों को आयकर भत्ते और कटौती की अनुमति


None

व्यापार और पेशे के लिए अनुमानित कराधान