Home अकॉउंटिंग एंड इन्वेंटरी अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स ,उदाहरणों के साथ समझें
Three Golden Rules of Accounting - Khatabook

अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स ,उदाहरणों के साथ समझें

by Khatabook

अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स उन बेसिक रूल्स को रिप्रेजेंट करते हैं जो किसी बिज़नेस के फाइनेंसियल ट्रांसक्शन्स की दिन-प्रतिदिन की रिकॉर्डिंग को नियंत्रित करते हैं। यह ट्रडिशनल आकाउंटिंग रूल्स, गोल्डन रूल्स बुककीपिंग के रूल्स या क्रेडिट और डेबिट के नाम से भी जाना जाता है, ये अकॉउंटिंग रूल्स अकॉउंटिंग रियल्म में एक रोल निभाते हैं। वे जर्नल बुक में एंट्रीज को दर्ज करने का आधार बनाते हैं जिसके बिना पूरी की पूरी अकॉउंटिंग गड़बड़ हो जाएगा।

यह समझने के लिए कि अकॉउंटिंग के रूल्स कैसे काम करते हैं, हमें पहले अकॉउंटस के प्रकार को जानना होगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये रूल्स एक विशेष अकॉउंट प्रकार के आधार पर लेनदेन पर लागू होते हैं।

टाइप्स ऑफ़ अकॉउंटस

हिसाब के गोल्डन रूल्स के अनुसार, तीन प्रकार के अकॉउंटस हैं: पर्सनल, रियल और नॉमिनल।

#1. पर्सनलअकॉउंट:

इनअकॉउंट का सम्बन्ध व्यक्तियों से हैं। ये व्यक्ति मनुष्य या आर्टिफीसियल व्यक्ति हो सकते हैं। मूल रूप से, व्यक्ति तीन प्रकार के होते हैं:

  • पर्सनल:  राम का अकॉउंट , जॉन का अकॉउंट आदि जैसे व्यक्तियों को रेप्रेसेंटिंग करते हैं
  • आर्टिफीसियल पर्सन: पार्टनरशिप फर्मों, एसोसिएशनस या फिर ऐबीसी ट्रस्ट, ऐक्स वाई जेड इंडस्ट्रीज लिमिटेड , और टाटा एंड संस आदि जैसी कंपनियों को रेप्रेसेंटिंग करते हैं
  • प्रतिनिधि व्यक्ति: व्यक्ति या व्यक्ति के समूह का प्रतिनिधित्व करते हैं जैसे वेतन देय ए / सी, प्रीपेड व्यय ए / सी, और बकाया वेतन ए / सी आदि।

#2. रियल अकाउंटस:

ये वह लेजर अकाउंटस, हैं जो एक बिज़नेस इंटरप्राइजेज से संबंधित सभी संपत्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। रियल अकाउंटस, को आगे दो प्रकारों में विभाजित किया गया है- तंजीबल और नॉन तंजीबल ।

  • तंजीबल रियल अकाउंटस में ऐसी संपत्ति शामिल होती है जिनका फिजिकल एक्सिस्टेंस होता है, जैसे कि प्रोपर्टी अकाउंट , इन्वेंट्री अकाउंट, फ़र्नीचर अकाउंट, इन्वेस्टमेंट अकाउंट, आदि
  • नॉन तंजीबल रियल अकाउंटस में सभी नॉन फिजिकल एसेट्स जैसे ट्रेडमार्क अकाउंट, पेटेंट अकाउंट, गुडविल अकाउंट, कॉपीराइटअकाउंट , आदि के सभी अकाउंटस शामिल हैं।

#3. नोमिनल अकाउंट :

ये अकाउंटस किसी बिज़नेस के एक्सपेंसेस, लोस्सेस, गेन्स और रेवेनुएस को रिप्रेजेंट करते हैं। नोमिनल अकाउंट में वेतन अकाउंट, रेंट अकाउंट, बिजली खर्च अकाउंट, तनख़्वाह अकाउंट,  ट्रैवेलिंग एक्सपेंसेस अकाउंट,और कमीशन रिसीव्ड अकाउंट शामिल हो सकते हैं।।

अकॉउंटिंग के तीन गोल्डन रूल्स

अब सभी प्रकार के अकाउंटस को समझने के बाद, आइए जानें कि लेनदेन के लिए एकाउंटिंग रूल कैसे लागू होते हैं। नीचे दिए गए एक्सप्लनेशन मे एकाउंटिंग के प्रकार और उनके रूल्स, उदाहरणों के साथ हैं।

पर्सनल अकाउंट:

पर्सनल अकाउंट एक व्यक्ति द्वारा अपनी जरूरतों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक अकाउंट है। यदि किसी व्यक्ति / लीगल बॉडी / ग्रुप के व्यक्ति के बिज़नेस से कुछ मिलता है, तो वह एक रिसीवर है, बिज़नेस की पुस्तकों में, उसके अकाउंट को डेबिटेड के रूप में रेप्रेसेंटेड किया जाता है अल्टेरनेटिवेली ,यदि कोई व्यक्ति लीगल बॉडी /व्यक्ति का ग्रुप के बिज़नेस लिए कुछ देता है, तो वह एक गिवर है। बिज़नेस की पुस्तकों में उनके अकाउंट को क्रेडिट के रूप में दर्शाया गया है।

अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स 1

उदाहरण: आपने श्याम से 10,000 रुपये का सामान खरीदा।

इस लेन-देन में, आप सामानों के एक रिसीवर हैं, इसलिए आपके खाते की पुस्तकों में, आप अपने पर्चेस अकाउंट को डेबिट करेंगे और श्याम को क्रेडिट। चूंकि श्याम सामान का गिवर है, इसलिए उसके अकाउंट को क्रेडिट किया जाएगा।

डेट अकाउंट डेबिट क्रेडिट
XX/XX/XXXX पर्चास अकाउंट .रुपये 10,000/-
अकाउंट पेयबल रुपये 10,000/-

रियल अकाउंट

रियल अकाउंट रूल के अनुसार, यदि किसी बिज़नेस को कुछ मिलता है (संपत्ति या माल), तो अकाउंटिंग एंट्री में, इसे डेबिट के रूप में दर्शाया जाता है। यदि बिज़नेस से कुछ निकलता है, तो अकाउंटिंग एंट्री में, इसे क्रेडिट के रूप में दर्शाया जाता है।

अकॉउंटिंग का 2 गोल्डन रूल

उदाहरण:  यदि आपने नकद 10,000 रुपये में फर्नीचर खरीदा था।

इस लेन-देन में, फर्नीचर अफेक्टेड अकाउंट A / c और कैश हैंअकाउंट । फर्नीचर बिज़नेस में आता हैं, तब डेबिट फर्नीचर होता है। नकद कारोबार से बाहर हो जाता है, इसलिए, काश अकाउंट क्रेडिट करते हैं।

डेट अकाउंट डेबिट क्रेडिट
XX/XX/XXXX फर्नीचर अकाउंट रुपये. 10,000/-
कैश अकाउंट रुपये . 10,000/-

नॉमिनल अकाउंट:

नॉमिनल अकाउंट रूल के अनुसार, यदि किसी भी बिज़नेस में एक्सपेंस या लोस्स होता है, तो बिज़नेस की पुस्तकों में, इसकी अकॉउंटिंग एंट्री को Debit के रूप में दर्शाया जाएगा। दूसरी ओर, यदि बिज़नेस किसी भी लेनदेन पर सेवाएं प्रदान करके इनकम या प्रॉफिट प्राप्त करता है, उसकी अकॉउंटिंग एंट्री को क्रेडिट के रूप में दर्शाया जाता है।

उदाहरण: मान लीजिए कि आपने अपने ऑफिस के रेंट के रूप में 1,000 रुपये का भुगतान किया।

रेंट का एक्सपेंस आपके बिज़नेस के लिए एक खर्च है; इसलिए, इसे बिज़नेस की पुस्तकों में डेबिट किया जाना चाहिए।

डेट डेबिट डेबिट क्रेडिट
XX/XX/XXXX रेंट अकाउंट 1,000/-रुपये
कैश अकाउंट . 1,000/-रुपये

अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स से कुछ टेकअवे

अकॉउंटिंग के गोल्डन रूल्स पूरी अकॉउंटिंग प्रक्रिया की कॉर्नरस्टोन हैं। लेनदेन की रिकॉर्डिंग के लिए आधार प्रदान करके, ये रूल्स फाइनेंसियल स्टेटमेंट्स की सिस्टेमेटिक प्रेजेंटेशन में मदद करते हैं। उनका उपयोग करके, कोई भी आसानी से एक्सएक्सपेंस एंड इनकम रिकॉर्ड कर सकता है, जिससे बिज़नेस अकॉउंटस की किताब के बेहतर मैनेजमेंट की सुविधा मिलती है। इन रूल्स को लागू करने के लिए:

  • सबसे पहले, लेनदेन में शामिल अकाउंट के प्रकार का पता लगाएं।
  • जाँच करें कि क्या Value बढ़ी है या घटी है।
  • एक बार जाँच हो जाने पर, सावधानीपूर्वक डेबिट और क्रेडिट के गोल्डन रूल्स को लागू करें।

इसलिए, यदि आप अपने बिज़नेस के अकाउंट की पुस्तकें अप टू डेट और एक्यूरेट रखना चाहते हैं, तो इन गोल्डन रूल्स का पालन करे।

Related Posts

Leave a Comment