written by | March 22, 2022

MSME समाधान के बारे में विस्तृत जानकारी

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (MSMED) अधिनियम 2006 में सूक्ष्म और लघु व्यवसायों (MSEs) को देर से भुगतान करने से कैसे डील किया जाय उसके उपाय शामिल है।अगर खरीदार सप्लायर को  गुड्स / सर्विस लेने के 45 दिनों के भीतर या निर्धारित दिनों के भीतर पेमेंट नहीं दे पाता है तो खरीदार को देय राशि पर सप्लायर को तीन गुना तक चक्रवृद्धि ब्याज यानी कंपाउंड इंटरेस्ट देना पड़ता है। यह अमाउंट मासिक रूप से भारतीय रिजर्व बैंक तय करता है।

राज्य सरकारें एक सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद (MSEFC) बनाती हैं, जो विलंबित भुगतानों के संदर्भ प्राप्त करने और रिकॉर्ड दाखिल करने से संबंधित मुद्दों का समाधान करती हैं (अध्याय 20 और 21)। कोई भी सूक्ष्म या लघु बिजनेस जिनके पास वैध उद्योगआधार (UAM) है, वे पेमेंट के संबंध में केस फाइल कर सकते हैं। MSE यूनिट द्वारा दिए गए केस को जांचने के बाद राज्य सरकार की MSEFC खरीदार को उचित पेमेंट करने का निर्देश करती है।

साथ ही यह MSED Act 2006 के आधार पर है। कानून के हिसाब से, हर एक केस जिसको MSEFC को दिया गया है उसे 90 दिनों के भीतर कंसीडर करना चहिए।

क्या आप जानते है ? 32% से ज्यादा MSMEs पिछले 2 दशकों से संचालित है और 1.5% पिछले 5 दशकों से।

MSME समाधान पोर्टल

MSME के मंत्रालय ने एक पहल की है जिसको MSE यूनिट के नाम से भी जाना जाता है,  जो एक सप्लायर को अपने राज्य / केंद्र शासित प्रदेशों के MSME के साथ प्रोडक्ट या सर्विस लेने वाले खरीदार के खिलाफ ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने की अनुमति देता है। MSEFC काउंसिल मामले को देखेगी और अगर शिकायत सही हुई तो अपने संबंधित विभागों ,CPSEs, केंद्रीय मंत्रालय, राज्य सरकार और दूसरी संबंधित विभागों द्वारा करवाई करेगी।

  • उधमी/ MSEs लेट से हुए पेमेन्ट का ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस प्लेटफार्म का उपयोग कर सकते है। आवेदन करने के लिए यूजर के पास एक उद्योग आधार संख्या होनी चहिए जो वास्तविक आधार कार्ड से वैलिडेट किया गया हो।
  • केस के स्टेटस को देखना: MSME और उद्यमी लेट पेमेंट के लिए किए गए ऑनलाइन आवेदन की स्टेटस को देखने के लिए पोर्टल का उपयोग कर सकते है।
  • पेंडिग पेमेंट डैशबोर्ड: पोर्टल MSEs और CPSEs , केंद्रीय मंत्रालय, राज्य सरकार के बिच पेंडिंग पेमेंट की जानकारी देगा। संबंधित मंत्रालय के PSE, CEO और सेक्रेटरी देर से हुए पेमेंट का ट्रैक रखेंगे और समाधान के लिए उचित निर्देश देने के लिए जिम्मेदार होंगे।

राज्य सरकार द्वारा स्थापित किये जाने वाले प्रावधान

सूक्ष्म और लघु उद्यमों को देर से पेमेंट का समाधान 2006 के अधिनियम, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (MSMED) में एक प्रावधान में दिया गया है। यह प्रावधान इस अधिनियम के अध्याय 15-24 के भीतर आता है। सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद (MSEFC) की स्थापना प्रत्येक राज्य सरकार द्वारा रेफरेंस लेने और लेट पेमेंट के रिकॉर्ड दाखिल करने के मुद्दों को हल करने के लिए की जानी चाहिए। यह जानकारी MSMED अधिनियम के अध्याय 20 और 21 में भी स्पष्ट रूप से बताई गईं है।

MSEFC द्वारा की जाने वाली सहायता

एमएसई इकाई द्वारा प्रस्तुत मामले की समीक्षा करने के बाद, राज्य का MSEFC MSMED अधिनियम 2006 के प्रावधानों का पालन करते हुए आवश्यक राशि और मिले ब्याज के भुगतान के लिए खरीदार यूनिट को निर्देश जारी करेगा।

कौन आवेदन कर सकता हैं?

वैध उद्योग आधार (UAM) नंबर वाला कोई भी सूक्ष्म या लघु व्यवसाय या वैध उद्योग आधार (UAM)/उद्यम रजिस्ट्रेशन वाला कोई भी व्यक्ति गुड्स / सर्विस के खरीदार/खरीदार के खिलाफ अपने राज्य/केंद्र शासित प्रदेश के संबंधित MSMED के साथ ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकता है। MSMED काउंसिल इन आवेदनों पर बहुत सावधानी से विचार करेगी। ये आवेदन संबंधित केंद्रीय मंत्रालयों, CPSEs , विभागों और राज्य सरकारों के लिए भी उपलब्ध होंगे।

यदि खरीदार गुड्स या सर्विस की स्वीकृति के 45 दिनों के भीतर सप्लायर को गुड्स / सर्विस की सप्लाई के लिए भुगतान नहीं करता है, तो खरीदार को चक्रवृद्धि ब्याज के साथ-साथ मासिक ब्याज का भुगतान आरबीआई की पब्लिश बैंक दर के तीन गुना पर करना होगा। इस प्रावधान का उल्लेख 2006 MSMED अधिनियम के अध्याय 16 में किया गया है। राज्य सरकारों को एंटरप्रेन्योर मेमोरेंडम, एमएसईएफसी नियम, (अध्याय 16 का ii) और एमएसईएफसी संविधान (अध्याय 16 का iii) दाखिल करने के लिए सभी प्राधिकरणों को सूचित करना आवश्यक है।

MSMED अधिनियम 2006 के प्रावधानों के अनुसार, सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों ने केंद्र सरकार के प्राधिकरणों को एंटरप्रेन्योर मेमोरेंडम, MSEFC नियम और MSEFC संविधान दाखिल करने के लिए नोटिफाई किया है। इसमें 33 राज्य/केंद्र शासित प्रदेश (अरुणाचल प्रदेश, असम और मणिपुर को छोड़कर) शामिल हैं। इन सभी राज्यों ने MSEFC नियमों को अधिसूचित कर दिया है और सभी 36 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने MSEFC की स्थापना की है।

कानून के अनुसार, एमएसईएफसी की प्रत्येक सिफारिश पर रेफरल की तारीख से नब्बे दिनों के भीतर विचार किया जाना चाहिए।

यदि अपीलकर्ता (जो सप्लाइर नहीं है) अपील दायर करना चाहता है, तो कोई भी अदालत किसी भी MSEFC डिक्री या अवार्ड को रद्द करने के आवेदन पर तब तक विचार नहीं करेगी जब तक कि अपीलकर्ता (जो सप्लायर नहीं है) ने एमएसईएफसी को बताई (levied) गई राशि का 75 प्रतिशत भुगतान नहीं किया है।

MSMED एक्ट 2006 में प्रावधानों को बनाने के लिए कौन जिम्मेदार है?

MSEFC जिसका नेतृत्व राज्य/ केंद्र शासित के उद्योग निर्देशक करते है जो MSE यूनिट्स के चार्ज को भी संभालते है वो इस कानून के प्रावधानों के लिए जिम्मेदार है। राज्य/ केंद्र शासित प्रदेशों को आग्रह किया जाता है की वो गारंटी करे MSE फैसिलिटेशन काउंसिल नियमित रूप से मिलता हो और लेट पेमेंट की समस्या को 90 दिनों के भीतर खतम करता हो जैसा की MSMED एक्ट 2006 में भी कहा गया है।

MSME समाधान पोर्टल

MSME मंत्रालय ने अपने राज्यों या क्षेत्रों में संबंधित MSEFC के साथ प्रोडक्ट और सर्विस के खरीदार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए सप्लायर के लिए ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किया है। MSEFC काउंसिल इन पर विचार करेगी और तय करेगी कि इनके साथ क्या करना है। सक्रिय कदम उठाने के लिए संबंधित केंद्रीय मंत्रालय, विभाग, सीपीएसई, राज्य सरकारें और अन्य इस जानकारी को देख सकेंगे।

पेमेंट नही करने या देर से पेमेंट करने के मामले में, अधिनियम की धारा 16 कहती है कि खरीदार को सप्लायर को मासिक रिमाइंडर के साथ ब्याज का भुगतान करना होगा। ब्याज आरबीआई की बैंक दर से तीन गुना कंपाउंडेड होती है। यदि अपीलकर्ता सप्लायर नहीं है, लेकिन फिर भी अपील दायर करने का निर्णय लेता है, तो अदालत द्वारा मामले का फैसला करने से पहले उन्हें पहले लगाए गए राशि का 75% अलग रखना (set aside) होगा।

छोटे और मध्यम आकार के उद्यमों (SME) को दिया गया मुआवजा

MSME द्वारा दायर मामले की जांच के बाद, राज्य का MSEFC खरीददार को ब्याज के साथ देय राशि के पेमेंट के लिए आदेश जारी कर सकता है।

MSME समाधान पोर्टल पर आवेदन कैसे जमा करें?

MSMEs के लिए MSMEs समाधान पोर्टल पर आवेदन करने का तरीका नीचे दिया गया है:

  • MSME समाधान की वेबसाइट पर जाएँ।
  • होमपेज के ऊपर बाईं ओर 'Case Filing for Entrepreneur/MSE Units' ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • एक नई विंडो खुलकर आएगी। 'उद्योग आधार संख्या(Udyog Aadhaar Number)' और 'उद्यम पंजीकरण संख्या'(Udyam Registration Number) में से कोई एक चुनें।
  • उद्योग आधार/उद्यम रजिस्ट्रेशन नंबर और अपना मोबाइल नंबर दर्ज करने के बाद 'मान्य उद्योग आधार' या 'उद्यम पंजीकरण मान्य करें' (Validate Udyog Aadhaar' or 'Validate Udyam Registration) बटन पर क्लिक करें।
  • उद्योग आधार/उद्यम नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन करने के लिए उपयोग किए गए ईमेल पते पर एक ओटीपी (OTP) ईमेल किया जाएगा।
  • ओटीपी भरें और देर से भुगतान के लिए आवेदन जमा करें।
  • डॉक्यूमेंट्स को अपलोड करने के बाद आवेदन जमा करें (रेस्पोंडेड के वर्क ऑर्डर का PDF डॉक्यूमेंट्स और उस वर्क ऑर्डर के लिए आपके द्वारा बनाया गया इनवॉइस)।

निष्कर्ष:

सूक्ष्म, लघु और मध्यम आकार के उद्यम (MSME) क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। इस क्षेत्र ने देश की समृद्धि, निर्यात बढ़ाने और बिना स्किल वाले लोगो के लिए रोजगार , ग्रेजुएट हुए छात्र और अल्परोजगार लोगों के लिए बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर पैदा किए है। यह बैंकों को MSME बिजनेस को लोन देने के लिए कई ऑप्शन भी देता है। सरकार को बेहतर नियमों को लागू करके अधिक से अधिक MSME रजिस्ट्रेशन लाभों पर एमएसएमई के महत्व पर विशेष ध्यान देना चाहिए, जो वित्तीय संस्थानों को कम ब्याज दरों पर अधिक लोन देने की अनुमति देते हैं जिससे क्षेत्र की दीर्घकालिक विकास सुनिश्चित होती है।

नए अपडेट, समाचार ब्लॉग और सूक्ष्म, लघु और मध्यम व्यवसायों (MSMEs), बिजनेस टिप्स,इनकम टैक्स, GST, वेतन और अकाउंटिंग संबंधित आर्टिकल के लिए  Khatabook को पढ़े।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न: क्या एमएसएमई मंत्रालय MSME समाधान पोर्टल के माध्यम से जमा किए गए आवेदनों पर कार्य करता है?

उत्तर:

नहीं, MSME समाधान ऑनलाइन प्लेटफॉर्म MSME मंत्रालय द्वारा बनाया गया था ताकि एमएसई के लिए ऑनलाइन देर से भुगतान के लिए आवेदन दाखिल करना आसान हो सके। MSMED-अधिनियम 2006 की टर्म्स के अनुसार, राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों राज्य क्षेत्रों द्वारा गठित लागू सूक्ष्म और लघु उद्यम सुविधा परिषद (MSEFC) आवेदन को तुरंत ऑनलाइन फॉरवार्ड किया जाता है। देर से भुगतान के लिए आवेदन के लिए केवल MSEFC इन चार्ज ही कार्रवाई करता है।

प्रश्न: MSME भुगतान नियम क्या हैं?

उत्तर:

यदि एग्रीमेंट पेमेंट की समय सीमा नही बताता तो खरीदार को गुड्स / सर्विस को प्राप्त करने के पंद्रह दिनों के भीतर भुगतान करना होगा। कोई भी सूरत में सूक्ष्म या लघु व्यवसाय को देय भुगतान में स्वीकार किए जाने की तिथि से 45 दिनों से अधिक की देरी नहीं हो सकती है।

प्रश्न: क्या एमएसएमई के लिए GST को बाहर रखा गया है?

उत्तर:

जीएसटी अधिनियम बड़ी संख्या में एमएसएमई में शिकायत करने वालो को रजिस्ट्रेशन फीस की छूट देता है, क्योंकि उनका साल का रेवेन्यू जीएसटी अधिनियम में दिए गए सीमा से कम है।

प्रश्न: MSME में शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया क्या है?

उत्तर:

 एमएसएमई समाधान में आवेदन भरने के लिए निम्नलिखित आवश्यकताएं हैं।

  • उद्योग आधार नंबर या उद्योग रजिस्ट्रेशन नंबर।
  • खरीदार के बारे में जानकारी जिसके खिलाफ शिकायत दर्ज की जाएगी।
  • खरीददार का प्रकार।
  • खरीददार का नाम, पता और फोन नंबर।
  • खरीददार का राज्य और जिला।
  • खरीददार का डीआईसी (DIC) केंद्र या मंत्रालय।
  • कुल प्राप्त राशि
  • भुगतान की राशि (पेमेंट ऑब्लिगेशन)
  • इनवॉइस और वर्क ऑर्डर का डिटेल

प्रश्न: MSME समाधान से किसे लाभ हो सकता है?

उत्तर:

कोई भी सूक्ष्म या लघु व्यवसाय जिसके पास वैलिड उद्योग आधार (UAM) नंबर है; खरीदार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए योग्य है। एमएसई यूनिट द्वारा प्रस्तुत केस रिव्यू करने के बाद राज्य का MSEFC MSMED अधिनियम 2006 (अध्याय 20 और 21) के अनुरूप ब्याज के साथ आवश्यक राशि के भुगतान के लिए बायर यूनिट को निर्देश जारी करेगा।

प्रश्न: MSME समाधान क्या है और यह कैसे काम करता है?

उत्तर:

एमएसएमई समाधान सूक्ष्म, सूक्ष्म उद्यम मंत्रालय (MSME) द्वारा डिजाइन किया गया एक पोर्टल है जहां सूक्ष्म और लघु उद्यम (एमएसई) देर से किए गए भुगतान के लिए ऑनलाइन आवेदन जमा कर सकते हैं।

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।