written by khatabook | July 1, 2021

GSTR 9 की देय तिथि बढ़ाई गई: GSTR 9 फाइल करते समय CA के सामने आने वाली सामान्य समस्याएँ

GSTR 9 दाखिल करने के लिए, विशेष वित्त वर्ष के बाद वर्ष की अंतिम तिथि 31 दिसंबर है, जैसे वित्त वर्ष 2020-21 के लिए, यह दिसंबर 2021 है, और वित्त वर्ष 2021-22 के लिए, यह दिसंबर 2022 होगा, लेकिन करदाता के अनुरोध पर, सरकार वित्त वर्ष 2018-19 और वित्त वर्ष 2019-20 के लिए तय तारीख को बढ़ा चुकी है।

वित्त वर्ष 2019-20 के लिए, सरकार ने 28 फरवरी 2021 से GSTR 9 और GSTR 9C दाखिल करने की तय तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च 2021 कर दिया। फिर से, वित्त वर्ष 2019-20 के लिए GST रिटर्न दाखिल करने में CA और करदाताओं के सामने आने वाली कठिनाइयों के कारण, सरकार ने दूसरी बार समय सीमा को एक महीने बढ़ाकर 31 मार्च, 2021 कर दिया है। इसी तरह, वित्त वर्ष 2017-18 और 2018-19 के लिए जीएसटीआर 9 की देय तिथि कई बार बढ़ाई गई है।

GSTR 9 दाखिल करने में CA के सामने आने वाली सामान्य चुनौतियाँ

GSTR 9 दाखिल करने में आने वाली समस्याओं और चुनौतियों और GSTR 9 के विस्तार की आवश्यकता को समझने से पहले, आइए GSTR 9, GSTR 9 C की मूल बातें और GST ऑडिट के लिए CA की आवश्यकता के बारे में जानें:

GSTR 9 और GSTR 9C का क्या मतलब है?

GSTR 9 वार्षिक रिटर्न GST (वस्तु और सेवा कर) व्यवस्था के तहत पंजीकृत करदाताओं द्वारा वार्षिक रूप से दाखिल किया जाता है। इसके अलावा, इसमें अलग-अलग कर शीर्षों के तहत वितरित या एकत्र किए गए आउटवार्ड और इनवार्ड सप्लाई के सभी विवरण हैं। इसे जीएसटी वार्षिक रिटर्न की अंतिम तिथि से पहले दाखिल करना होगा।

GSTR 9 फॉर्म में 6 भाग और 19 खंड होते हैं। करदाता को अपने रिटर्न और खातों की किताबों में पहले से भरे गए विवरण के साथ प्रत्येक भाग को भरना होगा। यह सरल शब्दों में करदाता के मासिक रिटर्न की एक संक्षिप्त प्रति है।

दूसरी ओर, GSTR 9C ऑडिटेड ऐन्यूअल फाइनेंशियल स्टैट्मन्ट (audited annual financial statement) और GSTR 9 का एक संयुक्त विवरण है।

GSTR 9 या GSTR 9C किसे दाखिल करना चाहिए?

2 करोड़ रुपये से अधिक का वार्षिक एग्रीगेट टर्नओवर करने वाले सभी करदाताओं को जीएसटी वार्षिक रिटर्न देय तिथि से पहले वार्षिक रिटर्न दाखिल करना होगा, जबकि 5 करोड़ रुपये से अधिक के एग्रीगेट टर्नओवर वाले करदाताओं को GSTR 9C दाखिल करने की आवश्यकता है।

जीएसटी ऑडिट और CA की आवश्यकता

2 करोड़ से अधिक के वार्षिक टर्नओवर वाले प्रत्येक करदाता को चार्टर्ड एकाउंटेंट या कॉस्ट अकाउंटेंट द्वारा GST ऑडिट करने की आवश्यकता है। यह जीएसटी ऑडिट वार्षिक रिटर्न में करदाता द्वारा घोषित ऑडिटेड फाइनेंशियल स्टैटमेंट और टर्नओवर से मेल खाता है। यह प्रक्रिया लंबी, असुविधाजनक और समय खपत करने वाली है।

2020 महामारी के कारण अधिकांश व्यवसायों और उद्योगों के लिए बहुत कठिन समय था। यही कारण है कि उन्होंने सरकार से जीएसटी वार्षिक रिटर्न के तारीख को बढ़ाने के लिए अनुरोध किया। वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कॉम्प्लेक्स GSTR 9 फॉर्म भरने में CA और करदाताओं दोनों को चुनौतियों का सामना करना पड़ा। इन देय तिथि का बढ़ना उन्हें कुछ राहत दी। सीए के सामने आने वाले मुद्दों को जानने के लिए आगे पढ़ें, जिसके कारण जीएसटी वार्षिक रिटर्न की देय तिथि बढ़ाई गई।

CA के सामने आने वाली सामान्य चुनौतियाँ

GSTR 9 और GSTR-2A की टेबल 8A के इनपुट टैक्स क्रेडिट में मिस्मैच 

क्या होगा जब  GSTR-2A रिटर्न में प्रदर्शित होने वाले ITC और GSTR 9 की तालिका 8A में ITC के बीच कोई मेल नहीं होगा? आईटीसी में इस मिस्मैच के पीछे कई कारण हो सकते हैं। ये सीए और करदाता दोनों के लिए चिंता का विषय हैं। जीएसटी वार्षिक रिटर्न की तारीख बढ़ने पर उन्हें थोड़ी राहत मिली। इस तरह के मिस्मैच होने के कुछ कारण हो सकते हैं:

  • GSTR-2A में दिखने वाला ग्रोस (कुल) वैल्यू और GSTR 9 में संशोधन का ध्यान रखने के बाद तैयार किए गए फाइनल आंकड़े।
  • वित्त वर्ष 2017-18 में की गई सप्लाई का ITC GSTR 9 में ऑटो जेनरेट नहीं होगा, अगर ये 30 अप्रैल 2019 के बाद घोषित किए गए थे।
  • कंपोजिशन स्कीम की अवधि के दौरान किए गए चालान से संबंधित आईटीसी जीएसटीआर 9 में  जेनरेट नहीं होते हैं।
  • इनवॉइस के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट GSTR 9 में जेनरेट नहीं होते हैं, जब सप्लायर राज्य और प्राप्तकर्ता राज्य अलग होते है।

जीएसटीआर 9 और जीएसटीआर 9सी में आईटीसी के लिए आवश्यक विस्तृत डिवीजन

GSTR 9 वार्षिक बिक्री के साथ-साथ वार्षिक खरीद की डेक्लरैशन के लिए कहता है। इन विवरणों को इनपुट (input), इनपुट सर्विस (input service) और कैपिटल गुड्ज़ (capital goods) में विभाजित किया जाता है। इसके लिए विस्तृत आईटीसी विवरण की भी आवश्यकता है, जो एक जटिल प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया एक CA द्वारा की जाती है जो किसी भी मिस्मैच से बचने के लिए करदाता की अकाउंट बुक्स का गहन विश्लेषण और सत्यापन करता है। लेकिन अगर करदाता ने इसका रिकॉर्ड नहीं रखा है, तो जीएसटीआर 9 की तय  तारीख से पहले सही जीएसटीआर 9 फॉर्म दाखिल करना वास्तव में मुश्किल हो जाता है।

GSTR-2A का क्लेम किए गए इनपुट टैक्स क्रेडिट को रिफ्लेक्ट नहीं करना

कई करदाताओं के वित्त वर्ष 2017-18 का GSTR-2A उनके GSTR-3B में उनके द्वारा क्लेम किए गए ITC को रिफ्लेक्ट नहीं कर रहा है। हालांकि, वे सीजीएसटी अधिनियम के तहत योग्य हैं। यह मुद्दा CA के लिए जीएसटीआर 9सी की तय तारीख से पहले वार्षिक रिटर्न दाखिल करने में चुनौतियां लाता है। वे अनिश्चित हैं कि क्या ये इनपुट टैक्स क्रेडिट अयोग्य हो जाएंगे और निकट भविष्य में करदाताओं के लिए और अधिक समस्याएं पैदा करेंगे।

वित्त वर्ष 17-18 में आयात किए गए माल के लिए वित्त वर्ष 18-19 में आईटीसी का क्लेम किया जाना 

हालाँकि, GSTR 9 की तालिका 6 (E) जुलाई 2017 और मार्च 2019 के बीच की गई आयात से की गई खरीद से संबंधित इनपुट टैक्स क्रेडिट के लिए दी गई है। पिछले वित्त वर्ष 2017-18 में आयात से की गई खरीद के लिए वित्त वर्ष 2018-19 में दावा किए गए इनपुट टैक्स क्रेडिट के बारे में अभी भी भ्रम है।

यदि इस प्रकार की डेक्लरैशन के लिए GSTR 9 फॉर्म में एक अलग खंड होता, तो CA और करदाताओं दोनों के लिए एक संयुक्त विवरण तैयार करना आसान होता। यह जीएसटी ऑडिट की तय तारीख से पहले और अधिक सटीक और आसानी से किया जा सकता है।

टेबल 6(बी) और 6(H) के बीच कन्फ़्यूजन 

टेबल 6(B) एक विशेष वित्तीय वर्ष के दौरान आयात और इनवार्ड सप्लाई जो रिवर्स चार्ज के लिए जवाबदेह है को छोरकर प्राप्त सभी इनवार्ड सप्लाई (खरीद और व्यय) और आईटीसी डेक्लरैशन के लिए कहती है।

दूसरी ओर टेबल 6(H) आईटीसी की डेक्लरैशन के लिए पूछती है जो उसी वित्तीय वर्ष के लिए प्राप्त, रीवर्स  या रिडिम गए थे।

कभी-कभी इन डेक्लरैशन के परिणामस्वरूप 6 (बी) और 6 (एच) की दो टेबल  के बीच के आंकड़े ओवर्लैप (overlap) हो जाते हैं। इस प्रकार, GSTR 9 की नियत तारीख से पहले आने वाली चुनौतियों को हल करने और फॉर्म भरने के लिए और अधिक स्पष्टीकरण की आवश्यकता है।

GSTR 9 में RCM लायबिलिटी की डिक्लेरेशन के संबंध में भ्रम

CBIC ने आरसीएम के तहत लायबिलिटी के डिस्क्लोजर के संबंध में 4 जून 2019 को एक प्रेस रिलीज जारी की और 'एडिशनल आउटवर्ड सप्लाई' शब्द का इस्तेमाल किया, जबकि केंद्रीय कर विभाग ने 28 जून 2019 को उसी RCM लायबिलिटी के लिए 'एडिशनल लायबिलिटी' शब्द का उपयोग करते हुए एक एडवाइजरी जारी की।

इन सभी अंतर ने सीए के लिए परेशानी पैदा कर दी, क्योंकि करदाताओं को जीएसटीआर 9 की तालिका 4 (G) के तहत ऐसी बिना डिस्क्लोज़ वाला लायबिलिटी डिक्लेर करने की आवश्यकता थी। हालांकि, ऐसी लायबिलिटी के संबंधित कर हिस्से को तालिका 9 में 'टैक्स पेयबल' के तहत डिस्क्लोज़ करने की आवश्यकता है। इस प्रकार, GSTR 9 देय तिथि का एक्सटेनसन अधिसूचना दोनों के लिए राहत लेकर आई, क्योंकि उन्हें मुद्दों को हल करने के लिए अधिक समय मिल गया।

आउटवार्ड और इनवार्ड सप्लाई के लिए HSN सारांश विवरण

1.5 करोड़ रुपये से अधिक के टर्नओवर वाले प्रत्येक सप्लायर को आउटवार्ड और इनवार्ड सप्लाई, दोनों के लिए GSTR 9 में एक विस्तृत HSN का डिटेल्स डिक्लेर करना होगा। यह वास्तव में उन सप्लायर के लिए एक कठिन काम है, जो इस तरह के रिकॉर्ड बनाए रखने के आदि नहीं थे और उनके लिए अनावश्यक परेशानी का कारण बने। यह समय लेने वाली है और इसके लिए अतिरिक्त प्रयास और आईटी स्किल्ड मैनपावर (IT skilled Man power) की आवश्यकता होती है। यह एक प्रमुख कारण है कि CA चाहते हैं कि जीएसटीआर 9 की तारीख बढ़ाई जाए।

GSTR 9 की टेबल 4F के संबंध में कन्फ़्यूजन 

हालाँकि, GSTR 9 की तालिका 4 (F) में उन सभी लेन-देन को डिक्लेर करने के लिए कहा गया है, जिनके लिए करदाता के पास चालान रिकॉर्ड नहीं है, लेकिन उन्होंने कर का भुगतान किया है। सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार इस तालिका में जानकारी GSTR-1 की तालिका 11(A) से ली जानी चाहिए, लेकिन यह केवल मासिक स्तर की एंट्री के लिए ही संभव है। 

वार्षिक स्तर की डेक्लरैशन  के लिए पूरे वर्ष के दौरान किए गए एडजस्टमेंट को गिना जाना था। इसका मतलब है कि तालिका 4 (F) की जानकारी भी जीएसटीआर -1 की तालिका 11 (B) से लेनी होगी।

GSTR 9C समय लेने वाली और कठिन प्रक्रिया

GSTR 9C वार्षिक रिटर्न में डिक्लेर की गई ऑडिटेड फाइनेंशियल स्टेटमेंट और टर्नओवर को सारांशित करने वाला एक रिकॉन्सिलिएशन (संयुक्त) स्टेटमेंट है। यह रिकॉन्सिलिएशन प्रक्रिया चुनौतीपूर्ण है क्योंकि इसमें कई आइटम को जोड़ने की आवश्यकता हो सकती है।

इसके अतिरिक्त, GSTR 9C को अपलोड करना फिर से एक कठिन प्रक्रिया है क्योंकि इसके लिए कई तकनीकी और समय लेने वाले चरणों की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, सांविधिक लेखा परीक्षक के पते और योग्यता कॉलम में शब्द सीमा उन्हें अपना विवरण सही ढंग से दर्ज करने की अनुमति नहीं देती है।

GSTR 9 दाखिल करते समय CA द्वारा सामना की जाने वाली अन्य सामान्य समस्याएं

  • GSTR 9/9C की तालिका 5(M), 5(N), और 5(O) में नेगटिव वैल्यू की अनुमति है, ये JSON फ़ाइल जनरेट करने की प्रक्रिया को प्रभावित नहीं करते हैं, लेकिन GSTN इसे स्वीकार नहीं करता है और CA के लिए समस्या पैदा करता है।
  • हालांकि, यदि JSON जनरेट हो जाता है और कोई त्रुटि संदेश (error message) प्रदर्शित नहीं होता है, तो फ़ाइल अपलोड नहीं होती है।
  • कई बार, जीएसटीआर 9 दाखिल रिटर्न की 2 अंतिम पीडीएफ प्रतियां जेनरेट हो जाती हैं, जो कि जीएसटीएन पोर्टल द्वारा अब तक हल नहीं की जाने वाली एक समस्या है।
  • DRC-03 फॉर्म की औपचारिकताएं पूरी हो जाने के बाद भी इसके पोर्टल पर दिखाई नहीं देती।
  • GSTR 9C में एक्सपेंस लेजर (expense ledger) में विवरणों को अलग करने की आवश्यकता होती है, जो कि बहुत समय लेने वाली प्रक्रिया है और ज्यादातर मामलों में अप्रासंगिक (irrelevant) लगती है।

निष्कर्ष

भारत सरकार ने अप्रत्यक्ष कर कानूनों में नियमितता लाने के लिए 1 जुलाई 2017 को पूरे भारत में माल और सेवा कर अधिनियम (जीएसटी) पेश किया। नियमित करदाता (रेगुलर टैक्सपेयर) को वार्षिक जीएसटी रिटर्न फॉर्म GSTR 9 दाखिल करना होगा। इसमें एक विशेष वित्तीय वर्ष के दौरान प्राप्त सभी इनवार्ड और आउटवार्ड सप्लाई , टैक्स , रिफंड और आईटीसी का संयुक्त विवरण शामिल है।

हालाँकि, GSTR 9 या GSTR 9C फॉर्म भरना एक ऑनलाइन प्रक्रिया है, लेकिन करदाताओं और उनके CA के लिए आसान नहीं है। ऑनलाइन सिस्टम का उपयोग करते समय और यहां तक कि खातों और रिकॉर्ड की किताबों का मैच करते समय उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इन मुद्दों के कारण, सरकार ने उनके दबाव को कम करने और त्रुटि मुक्त रिटर्न (error-free return) दाखिल करने के लिए जीएसटीआर 9 की तारीख को दो बार बढ़ा दिया है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. जीएसटीआर 9 क्या है?

GSTR 9 वार्षिक रिटर्न है जिसे GST व्यवस्था के तहत सभी पंजीकृत करदाताओं को दाखिल करना होता है। यह एक ऑनलाइन फॉर्म है, जिसके लिए प्रासंगिक वित्तीय वर्ष के दौरान बिक्री, खरीद, भुगतान किए गए कर, रिफंड और आईटीसी की घोषणा की आवश्यकता होती है। इसमें CGST, SGST, IGST और HSN कोड सहित विभिन्न कर शीर्षों के तहत किए गए लेन-देन शामिल हैं।

2. GSTR 9 फाइल करने की जरूरत किसे है?

जीएसटी व्यवस्था के तहत सभी पंजीकृत करदाताओं को (कुछ को छोड़कर) जीएसटीआर 9 दाखिल करना आवश्यक है, जिसमें शामिल हैं

  • कैजुअल टैक्सपेयर
  • करदाता जो भारत का नागरिक नहीं है 
  • इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर
  • करदाता जो धारा 51 या धारा 52 के तहत TDS की कटौती या संग्रह करते हैं 

इसलिए वार्षिक टर्नओवर जो भी हो, जीएसटी के तहत प्रत्येक पंजीकृत व्यक्ति को दंड से बचने के लिए देय तिथि से पहले वार्षिक जीएसटीआर 9 रिटर्न फाइलिंग की औपचारिकताओं को पूरा करना होगा।

3. GSTR 9 और GSTR 9C में क्या अंतर है? 

GSTR 9 एक वार्षिक रिटर्न है जिसे पंजीकृत करदाताओं द्वारा 2 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार के साथ दाखिल करने की आवश्यकता है। दूसरी ओर, GSTR 9C एक रिकॉन्सिलिएशन विवरण है, जिसमें GSTR 9 और ऑडिटेड खाता बही शामिल हैं। GSTR 9C उन पंजीकृत करदाताओं द्वारा दाखिल किया जाना है जिनका 5 करोड़ रुपए से अधिक का टर्नओवर है।

4. वित्त वर्ष 2020-21 के लिए GSTR 9 और GSTR 9C फाइल करने की तय तारीख क्या है?

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए GSTR 9 और GSTR 9C दाखिल करने की तय तारीख 31 दिसंबर 2021 है, लेकिन सरकार कोविड 19 के कारण और करदाताओं या सीए के अनुरोध पर कुछ एक्सटेंशन दे सकती है जैसा की GSTR 9 के समय वित्त वर्ष 2019-20 के लिए दो बार एक्सटेंशन मिल।

5. तय तारीख (due date) क्यों बढ़ाई गई?

वित्त वर्ष 2019-20 के लिए जीएसटीआर 9 दाखिल करने की तय तारीख सरकार द्वारा करदाताओं और सीए के अनुरोध पर बढ़ा दी गई है। यह महामारी के कारण व्यापार में उनके सामने आने वाली कठिनाइयों के आधार पर किया गया था।

6. क्या होगा यदि रिटर्न को तय तारीख को या उससे पहले दाखिल नहीं किया जाता है?

यदि कोई करदाता GSTR 9 की अंतिम तिथि से पहले रिटर्न दाखिल नहीं करता है, तो उसे प्रति दिन रुपए 200 का भुगतान करना होगा, जिसमें से रुपए 100 SGST के लिए जाता है और 100 रुपये CGST के लिए होता है।

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

None

जीएसटी के तहत रिफंड प्रक्रिया: -वह परिस्थितियाँ, जो जीएसटी रिफंड के दावों के लिए बन सकती हैं


None

भारत में जीएसटी का इतिहास - जीएसटी कार्यान्वयन लाभ


None

HSN कोड के साथ भारत में जीएसटी के तहत छूट प्राप्त सामानों की सूची