written by khatabook | July 1, 2021

DRC 03 प्रयोज्यता और अतिरिक्त कर भुगतान करने की प्रक्रिया

जीएसटी में डीआरसी का फुल फॉर्म डिमांड एंड रिकवरी फॉर्म है। ऐसा हो सकता है कि जीएसटी रिटर्न दाखिल करते समय कुछ जीएसटी लायबिलिटी दर्ज नहीं की गई हो। बाद में, जब ऐसी गलतियाँ आपके संज्ञान में आती हैं और आपको गलतियों को ठीक करने की आवश्यकता होती है। ये गलतियाँ आपके ध्यान में दो तरह से आ सकती हैं। या तो आप खुद गलतियाँ देखते हैं और स्वेच्छा से इसे ठीक करते हैं या आपको कारण बताओ नोटिस (SCN) मिलता है। जब आपको कारण बताओ नोटिस (एससीएन) मिलता है, तो आपको  30 दिनों के भीतर इसका भुगतान और आवश्यक सुधार करना चाहिए। सरकार फॉर्म डीआरसी 03 में ऐसी गलती को ठीक करने की सुविधा प्रदान करती है।

फॉर्म डीआरसी 03 में कर भुगतान के लिए प्रयोज्यता

कारण

व्याख्या

1. ऑडिट  / रिकॉन्सिलिएशन स्टेटमेंट

ऑडिटर एक साल के लिए ऑडिट करता है। यदि वह देखता है कि जीएसटी का भुगतान नहीं किया गया है, तो करदाता जीएसटी में फॉर्म डीआरसी 03 के माध्यम से स्वयं भुगतान करेगा। इस भुगतान में कर, ब्याज और दंड शामिल हैं। यह दावा किए गए अधिक क्रेडिट या वास्तविक से कम बिक्री के मामले में हो सकता है।

2. जांच और अन्य

जांच करते समय यदि यह पाया जाता है कि करदाता ने कम कर का भुगतान किया है, तो वह अपनी भूल का समाधान कर सकता है। फॉर्म DRC03 ऐसे भुगतान करने का विकल्प प्रदान करता है।

3. वार्षिक रिटर्न

वार्षिक रिटर्न दाखिल करने से पहले, किसी भी भूल का पता लगाने के लिए एक मिस्मैच रिपोर्ट बनाई जाती है। यदि कोई भूल देखी जाती है, तो करदाता उन्हें प्रदान की गई DRC 03 पेमेंट फेसिलिटी में सुधार कर सकता है।

4. कारण बताओ नोटिस की मांग या प्रतिक्रिया

ऐसे दो मामले हैं, जहां आपको SCN आ सकता है- धारा 73 और धारा 74

जीएसटी में धारा 73(5) में जब वॉलेंटरी कर का भुगतान नहीं किया जाता है या धोखाधड़ी के इरादे के अलावा अन्य मामलों में कम भुगतान किया जाता है।

धारा 74 जब धोखाधड़ी के इरादे के मामले में कर का भुगतान नहीं किया जाता है या कम भुगतान किया जाता है।

तो आप फॉर्म जीएसटी डीआरसी 3 में एससीएन के 30 दिनों के भीतर कर, ब्याज या जुर्माना की राशि का भुगतान कर सकते हैं।

आप SCN प्राप्त करने से पहले भी भुगतान कर सकते हैं। DRC-03 धारा 73(5) GST के अनुसार सेल्फ डेक्लरैशन के आधार पर भुगतान की अनुमति देता है।

5. लाइबिलिटी या आईटीसी का मैच न करना

लायबिलिटी मिस्मैच तब होती है, जब करदाता का GSTR 1 और GSTR 3B बिक्री डेटा एक दूसरे के साथ मेल नहीं खाता है। यहाँ, करदाता जीएसटी डीआरसी 03 में अंतर राशि का भुगतान कर सकता है। इस कारण का चयन तब किया जा सकता है। यदि करदाता को नोटिस प्राप्त हुआ है और वह इस अंतर से सहमत है।

आईटीसी मिसमैच का मतलब है कि GSTR 2A/2B सीजीएसटी नियम 36(4) के अनुसार अतिरिक्त 5% क्रेडिट की अनुमति के बाद GSTR 3B से मेल नहीं खाता है। इसके परिणामस्वरूप कर भुगतान कम हो सकता है। यदि अधिक खरीदारी दिखाई जाती है तो। इस तरह के मिस्मैच के मामले में जीएसटी अथॉरिटी नोटिस भेज सकता है। यदि करदाता सहमत है, तो वह जीएसटी डीआरसी 3 में इस तरह के कारण का उल्लेख करके राशि का भुगतान कर सकता है।

 

आप कर के भुगतान के लिए इलेक्ट्रॉनिक लेजर में बचीं हुई राशि का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन ब्याज और जुर्माने के भुगतान के लिए आप केवल नकद भुगतान कर सकते हैं।

जीएसटी में डीआरसी 3 कैसे दर्ज करें

लॉगिन आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके जीएसटी पोर्टल (www.gst.gov.in) में लॉगिन करें। फिर 'सर्विसेज' टैब के तहत, 'यूजर सर्विसेज' पर जाएं और नीचे दिखाए गए अनुसार 'माई एप्लिकेशन' पर क्लिक करें।

अगले चरण में करदाता के लिए भुगतान करने के लिए तीन मामलों में से चुनाव करना  शामिल है।

आइए प्रत्येक मामले में चरणों को देखें।

केस 1 - कोई भुगतान नहीं किया गया और कोई पेमेंट रेफरेंस नंबर (पीआरएन) जेनरेट नहीं हुआ 

  1. चरण 1 - ऐपलिकेशन टाइप  के तहत, 'इंटीमेशन ऑफ वॉलंटरी पेमेंट - डीआरसी - 03' चुनें और 'न्यू एप्लीकेशन' पर क्लिक करें।

2. चरण 2 - करदाता को दो विकल्पों में से किसी एक का चयन करना होगा-

  • वॉलेंटरी पेमेंट- भुगतान की तिथि आपको एडिट करने का विकल्प दिए बिना दिखाई देगी।
  • SCN के वजह से भुगतान- एससीएन नंबर दर्ज करें। जारी करने की तिथि चुनें और यह भुगतान 30 दिनों में करें।

आप पेमेंट के इंटीमेशन के इस एप्लीकेशन को पूरा होने के किसी भी स्टेप में सेव कर सकते हैं। सेव करने की अधिकतम अवधि 15 दिन है। 15वें दिन के बाद जीएसटी पोर्टल इसे डेटाबेस से हटा देगा।

3. चरण 3- सेक्शन  चुनें, वित्तीय वर्ष चुनें और जिस अवधि के लिए कर का भुगतान किया जा रहा है उसकी शुरुआत और समाप्ति तिथि चुनें।

4. चरण 4- पेमेंट पीरीअड, जीएसटी का प्रकार- सीजीएसटी, एसजीएसटी, आईजीएसटी या यूटीजीएसटी, सप्लाइ का स्थान चुनें। कर, ब्याज और जुर्माना की राशि दर्ज करें। आप  'जोड़ें' बटन पर क्लिक करके अतिरिक्त विवरण शामिल कर सकते हैं। फिर 'प्रोसीड टू पी ' पर क्लिक करें

5. चरण 5 - वॉलंटरी डिटेल्स के लिए पृष्ठ निम्नानुसार 3 सेक्शन में प्रदर्शित होगा:

  • लायबिलिटी डिटेल्स (Liability details)
  • कैश लेजर बैलेंस (Cash Ledger Balance)
  • क्रेडिट लेजर बैलेंस ( Credit Ledger Balance)

लायबिलिटी डिटेल्स (Liability details) - आप इस सेक्शन में अपनी लायबिलिटी देख सकते हैं।

कैश लेज़र बैलेंस (Cash Ledger Balance) - आप उस तिथि के अनुसार अपने इलेक्ट्रॉनिक कैश लेज़र में उपलब्ध नकदी को देख सकते हैं। इसका उपयोग उस भुगतान को एडजस्ट करने के लिए किया जा सकता है, जिसके लिए आप उत्तरदायी हैं। संबंधित टैब के तहत राशि दर्ज करें।

क्रेडिट लेजर बैलेंस (Credit Ledger Balance ) - आप उपलब्ध राशि को खरीद और खर्चे  के क्रेडिट के रूप में देख सकते हैं। करदाता आईटीसी के माध्यम से देय लाइबिलिटी की राशि दर्ज कर सकता है और 'सेट-ऑफ'  बटन पर क्लिक कर सकता है।

6. चरण 6 - 'सेट-ऑफ' पर क्लिक करने के बाद एक पॉप-अप स्क्रीन दिखाई देगी। यह उल्लेख करेगा कि नकद और क्रेडिट शेष राशि का उपयोग करके भुगतान को सफल किया जाता है। फिर 'ओके' पर क्लिक करें, आपको सफल भुगतान के संदेश के साथ एक पीआरएन (PRN) प्राप्त होगा।

यदि पीआरएन  नहीं मिलता  है, तो आप इसे इलेक्ट्रॉनिक लायबिलिटी रजिस्टर (Electronic Liability Register) से प्राप्त कर सकते हैं।

अब सर्विसेज> लेजर> इलेक्ट्रॉनिक लायबिलिटी रजिस्टर पर जाएं

7. चरण 7 - आप जीएसटी में ड्राफ्ट डीआरसी भी देख सकते हैं। 'वॉलेंटरी या एससीएन के कारण  इंटीमेशन ऑफ पेमेंट' के तहत 'प्रीव्यू (Preview)' पर क्लिक करें

8. चरण 8 - यदि आप चाहें तो कोई भी कारण बता सकते हैं और फ़ाइलें संलग्न कर सकते हैं। आपको 'प्लेस' दर्ज करना होगा, 'ऑथराइज्ड सिग्नेटरी का चयन करना होगा और 'फाइल' पर क्लिक करना होगा। फिर आप रेजिस्टर्ड  मेल आईडी या मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी के माध्यम से डीएससी या ईवीसी का उपयोग कर सकते हैं। फाइल करने के बाद आपको एआरएन (ARN) के साथ एक सफल होने का संदेश प्राप्त होगा।

केस 2 - पीआरएन जेनरेट किया गया, लेकिन उसका उपयोग नहीं हुआ और पीआरएन जेनरेट करने के 30 मिनट के भीतर भुगतान किया गया।

1. चरण 1 - आपको 'वॉलेंटरी या एससीएन के कारण  इंटीमेशन ऑफ पेमेंट' स्क्रीन तक केस 1 की तरह ही प्रक्रिया का पालन करना होगा।

2. चरण 2 - 'क्या आपने भुगतान किया है?' ऐसे पूछे गए प्रश्न में 'हाँ' चुनें और पीआरएन दर्ज करें।

3. चरण 3 - आपको एक लिंक मिलेगा 'भुगतान विवरण प्राप्त करें (गेट पेमेंट डिटेल्स )' पर क्लिक करें और किए गए भुगतान के आधार पर सभी विवरण ऑटो-पॉप्युलेट हो जाएगी।

4. चरण 4 - आप 'प्रीव्यू ' पर क्लिक करके ड्राफ्ट डीआरसी 3 जीएसटी देख सकते हैं और आवेदन करने के लिए केस 1 के अनुसार चरणों का पालन कर सकते हैं।

केस 3 - पीआरएन जेनरेट होता है, लेकिन उपयोग नहीं होता है और पीआरएन जेनरेट करने के 30 मिनट के बाद भुगतान किया जाता है

  1. रण 1- आपको 'वॉलेंटरी या एससीएन के कारण इंटीमेशन ऑफ पेमेंट' स्क्रीन तक केस 1 की तरह ही प्रक्रिया का पालन करना होगा।

  1. चरण 2 - 'क्या आपने भुगतान किया है?' ऐसे पूछे गए प्रश्न में 'हाँ' चुनें और पीआरएन दर्ज करें।
  2. चरण 3 - 'गेट पेमेंट डिटेल्स' दिखाई देगा। इसे चुनें और केस 2 के विपरीत विवरण दर्ज करें, जहाँ केस 1 मे विवरण ऑटो-पॉप्युलेट हो गए थे।

सिस्टम दर्ज की गई राशि की जांच करेगा और अगर यह मेल खाता है, तो स्वीकार करेगा।

आप 'प्रीव्यू' पर क्लिक करके ड्राफ्ट डीआरसी 3 जीएसटी देख सकते हैं और आवेदन करने के लिए केस 1 के अनुसार चरणों का पालन कर सकते हैं।

केस 2 और 3 के लिए, यदि पीआरएन का पहले से ही उपयोग किया जा चुका है, तो एक त्रुटि संदेश (error message) प्रदर्शित होता है। फिर करदाता को एक और पीआरएन दर्ज करना होता है, जिसका उपयोग नहीं किया गया हो।

निष्कर्ष

डीआरसी 03 दाखिल करने के बाद, स्टेटस 'पेंडिग फ़ॉर अप्रूवल बाई टैक्स ऑफिसर में बदल जाएगी। करदाता को फॉर्म जीएसटी डीआरसी 04 में एक पावती प्राप्त होगी। जीएसटी के तहत विभिन्न परिदृश्यों के लिए विभिन्न डीआरसी नंबर फॉर्म उपलब्ध हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

स्व-निर्धारण ( self-ascertainment) के आधार पर वॉलेंटरी पेमेंट कैसे कर सकता हूँ?

आप फॉर्म DRC-03 GST का उपयोग करके लायबिलिटी का वॉलेंटरी पेमेंट कर सकते हैं।

आप जीएसटी वेबसाइट मैं पर लॉग इन कर सकते हैं और नीचे दिए गए टैब पर क्लिक करे :

सर्विसेज़ > यूजर सर्विसेज़ > माई एप्लीकेशन> इंटीमेशन ऑफ वॉलंटरी पेमेंट-DRC-03 ऑप्शन 

क्या वॉलंटरी पेमेंट की इंटीमेशन को सेव (save) करने का कोई विकल्प है?

वॉलंटरी पेमेंट की इंटीमेशन के आवेदन को अधिकतम 15 दिनों के लिए सहेजा जा सकता है। इसके बाद, सिस्टम सहेजे गए डेटा को हटा देगा। आप अपने सहेजे गए एप्लिकेशन को इस प्रकार देख सकते हैं:

सर्विसेज़ > यूजर सर्विसेज़> माई सेव एप्लिकेशन ऑप्शन 

DRC 3 GST दाखिल करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक लेजर कैसे प्रभावित होंगे?

इलेक्ट्रॉनिक लायबिलिटी रजिस्टर, इलेक्ट्रॉनिक कैश लेजर और इलेक्ट्रॉनिक क्रेडिट लेजर में शेष राशि एंट्री के अनुसार अपडेट हो जाएगी। एक पीआरएन भी जेनरेट होगा।

SCN में उल्लिखित लायबिलिटी के भुगतान के लिए अपर्याप्त शेष राशि के मामले में मैं क्या कर सकता हूँ?

आप इलेक्ट्रॉनिक कैश लेजर के माध्यम से अपर्याप्त शेष राशि का भुगतान कर सकते हैं। वॉलेंटरी पेमेंट स्क्रीन पर, आप "क्रीऐट चालान " का चयन कर सकते हैं। फिर जीएसटी साइट आपको पेमेंट मोड पर रीडायरेक्ट कर देगी। आप उपयुक्त टैब के अंतर्गत आवश्यक राशि भर सकते हैं और भुगतान कर सकते हैं। एक बार भुगतान करने के बाद, आप इस राशि को अपने इलेक्ट्रॉनिक कैश लेजर में देख सकते हैं। आप इसका उपयोग एससीएन में उल्लिखित लायबिलिटी का भुगतान करने के लिए कर सकते हैं।

क्या मैं SCN में उल्लिखित लायबिलिटी का आंशिक भुगतान (partial payment) कर सकता हूँ?

जीएसटी पोर्टल एससीएन राशियों के लिए आंशिक भुगतान करने की अनुमति नहीं देता है।

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

all about gst

जीएसटी के तहत क्षतिपूर्ति उपकर क्या है?


invoice under gst

जीएसटी के तहत प्रो फॉर्मा चालान क्या है - अर्थ, टेम्पलेट और उपयोग


impact of gst rate

घरेलू उपकरणों और विद्युत मशीनरी पर जीएसटी दर का प्रभाव


gst liability

जीएसटी पोर्टल पर सीएमपी-08 में जीएसटी देयता का भुगतान: स्टेप-बाय-स्टेप गाइड


gst on labour

भारत में श्रम शुल्क पर जीएसटी के बारे में जानिए


exemptions under gst

जीएसटी के तहत किन वस्तुओं को छूट दी गई है?


quaterly returns

जीएसटी: त्रैमासिक रिटर्न फाइलिंग और कर का मासिक भुगतान (क्यूआरएमपी)


gst supply of goods

जीएसटी के तहत माल की आपूर्ति का स्थान


gstr-1

जीएसटी पोर्टल पर शून्य जीएसटीआर 1 रिटर्न कैसे दाखिल करें?