written by khatabook | July 1, 2021

जीएसटी के लेटेस्ट समाचार, सूचना, अधिसूचनाएं और घोषणाएं

राष्ट्रीय और वैश्विक परिवेश में हाल के बदलावों के साथ सरकार जीएसटी कानून, नियमों और विनियमों को बदलती परिस्थितियों के अनुरूप बनाने के लिए कदम उठा रही है। करदाताओं के लिए इसे बेहतर बनाने के लिए सरकार कई बदलाव कर रही है। इसलिए, जीएसटी में हाल के बदलावों से अच्छी तरह वाकिफ होना जरूरी है। जुलाई 2017 की शुरुआत से सरकार अपनी जीएसटी काउंसिल के साथ जीएसटी में नए बदलाव लेकर आ रही है। यह व्यापार के संचालन में जीएसटी कानूनों में आने वाली कमियों को दूर करने में मदद करता है। ऐसे में, सलाहकारों, करदाताओं और इस क्षेत्र से जुड़े सभी लोगों को बेहतर कामकाज के लिए नवीनतम जीएसटी समाचारों से अवगत होना चाहिए।

नवीनतम जीएसटी अधिसूचना

जीएसटी अधिकारियों की सिफारिश के साथ देश की आर्थिक स्थिति जीएसटी अपडेट को एक आवश्यक कारक बनाती है। नवीनतम जीएसटी अधिसूचनाओं का संक्षिप्त विवरण नीचे टेबल में दिया गया है:

अधिसूचना संख्या

अधिसूचना की तिथि

जीएसटी पर नवीनतम सूचना का संक्षिप्त विवरण

07/2021-केंद्रीय कर

01/04/2021

जुलाई 2017 में जीएसटी की शुरुआत के बाद से, जीएसटी दरों को कई बार अपडेट किया गया है। इसलिए सभी दरों को एक साथ लाया गया है, जिसमें रेफरेंस की आसानी के लिए सभी अपडेट शामिल हैं। इसमें 31/03/2021 तक के सभी अपडेट शामिल हैं।

06/2021-केंद्रीय कर

30/03/2021

अधिसूचना संख्या 14/2020-सेंट्रल टैक्स दिनांक 21/03/2020 का पालन नहीं करने पर सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 125 के तहत लगाए गए दंड की छूट की तिथि 30 जून 2021 तक बढ़ा दी गई है। मतलब सरकार 30 जून 2021 तक कोई  जुर्माना नहीं वसूल करेगी।

05/2021-केंद्रीय कर

08/03/2021

2017-18 से किसी भी वर्ष में 50 करोड़ से अधिक का टर्नओवर  वाले करदाताओं के लिए B2B लेनदेन पर 01/04/2021 से ई-चालान जेनरेट करना आवश्यक होगा। 

04/2021-केंद्रीय कर

28/02/2021

वित्तीय वर्ष 2019-2020 के लिए वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की तय तिथि 31/03/2021 तक बढ़ा दी गई है।

03/2021-केंद्रीय कर

23/02/2021

धारा  25 (6B) या  (6C)  के अनुसार, आधार प्रमाणीकरण के प्रावधान उस व्यक्ति पर लागू नहीं होंगे जो,

(क) भारत का नागरिक नहीं है; या

(ख ) केंद्र या राज्य सरकार का विभाग या संस्थान; या

(ग ) लोकल अथॉरिटी; या

(घ ) स्टैचुटोरी बॉडी; या

(च ) एक सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम; या

(छ) सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 25(9) के प्रावधानों के तहत पंजीकरण के लिए आवेदन करने वाला व्यक्ति।

02/2021-केंद्रीय कर

12/01/2021

केंद्रीय कर अधिकारियों का अधिकार क्षेत्र बदलना

01/2021-केंद्रीय कर

01/01/2021

इस अधिसूचना का अर्थ है कि एक पंजीकृत व्यक्ति को फाइल करने की अनुमति नहीं दी जाएगी:

  1. मासिक GSTR-1 के लिए, अगर वह पिछले दो महीनों से फॉर्म GSTR-3B दाखिल नहीं करता है (उदाहरण के लिए - अगर दिसंबर 2020 और जनवरी 2021 का GSTR 3B फाइल नहीं किया गया है, तो फरवरी 2021 का GSTR 1 फाइल नहीं किया जा सकता है। दूसरे शब्दों में, आप केवल फरवरी का GSTR-1 तभी दाखिल कर सकते हैं जब दिसंबर 2020 और जनवरी 2021 का GSTR 3B दाखिल किया गया हो)
  2. तिमाही जीएसटीआर-1 के लिए, यदि आप पिछली कर अवधि के लिए फॉर्म GSTR-3B दाखिल नहीं करते हैं।
  3. इसके अलावा, एक पंजीकृत व्यक्ति जो 99% से अधिक के इलेक्ट्रॉनिक क्रेडिट बैलेंस का उपयोग करने के लिए नियम 86B के अंतर्गत आता है, उसे फॉर्म GSTR-1 या चालान फर्निश करने की सुविधा दर्ज करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि वह पिछले कर अवधि के लिए फॉर्म GSTR-3B में रिटर्न  भरने में विफल रहता है। 

इसलिए कानून उपरोक्त मामलों में GSTR 1 दाखिल करने के बाद ही GSTR 3B दाखिल करने की अनुमति देता है।

 

बजट 2021 की मुख्य बातें 

गतिशील अर्थव्यवस्था को देखते हुए भारत सरकार हर साल बदलते परिवेश के अनुरूप कानूनों को लाने के लिए एक बजट का प्रस्ताव करती है। इसी तरह, इस साल भी 2021-2022 के केंद्रीय बजट में जीएसटी में कुछ बदलाव का भी प्रस्ताव किया गया है। तो आइए जीएसटी अपडेट पर एक नज़र डालते हैं।

अनुभाग 

व्याख्या

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 का अनुभाग 7

सप्लाई (Supply) की परिभाषा में शामिल करने के लिए जीएसटी कानून की शुरुआत से एक बदलाव किया गया है। नकदी, डिफर्ड पेमेंट  या अन्य कीमती कन्सिडरैशन के लिए किसी इन्डविजूअल व्यक्ति के अलावा किसी अन्य व्यक्ति द्वारा अपने सदस्यों या निर्वाचित व्यक्ति या इसके विपरीत, वस्तुओं या सेवाओं की सप्लाई से संबंधित गतिविधियां या लेन-देन सप्लाई की परिभाषा में आते हैं।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 16(2)(एए)

आईटीसी का लाभ उठाने के लिए इस नए क्लॉज को एक शर्त के रूप में जोड़ा गया है। इसके अनुसार, आप आईटीसी को टैक्स इनवॉइस या डेबिट नोट पर तभी ले सकते हैं, जब सप्लायर ने अपने फॉर्म GSTR-1, इनवॉइस फर्निशिंग फेसिलिटी  (IFF), GSTR-2B में इस तरह के विवरण दिखाए हों और इसकी सूचना प्राप्तकर्ता को दी गई हो।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 35

यह अनुभाग  हटा दिया गया है। (जीएसटी के तहत वार्षिक खातों और रिकॉन्सिलिएशन स्टैट्मेंट का ऑडिट)

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 44

धारा 35  को हटाकर, सरकार ने वार्षिक रिटर्न फाइल करने के लिए चार्टर्ड एकाउंटेंट या कोस्ट एकाउंटेंट के बदले करदाताओ द्वारा सर्टिफिकेशन को मंजूरी देकर इस खंड में बदलाव किया है। कुछ करदाताओं को कमिशनर द्वारा इस धारा से छूट दी गई है। इसका मतलब है कि चार्टर्ड एकाउंटेंट या कोस्ट एकाउंटेंट जिम्मेदार नहीं हैं, और पंजीकृत व्यक्ति अपने सर्टिफिकेशन और जानकारी के तहत रिटर्न दाखिल कर रहा है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 50

यह करदाताओं के सामने आने वाली समस्याओ के निवारण के लिए सबसे अच्छे बदलावों में से एक है। इस बदलाव से पहले, करदाताओं को इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाए बिना कूल राशि पर ब्याज का भुगतान करना पड़ता था। हालांकि, इस बदलाव का मतलब है कि अब नेट कैश लायबिलिटी यानी आईटीसी लेने के बाद की राशि पर ब्याज वसूला जाएगा ।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 74

यह कर की वसूली से माल की जब्ती, वाहनों की जब्ती और सीजर को अलग करता है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 75

इस खंड में "सेल्फ एसेस्ड टैक्स (Self assessed tax)" टर्म  के लिए स्पष्टीकरण दिया गया है। इस टर्म में धारा 37 के अनुसार GSTR 1 में आउटवर्ड सप्लाई (Outward supply) के संबंध में देय कर शामिल है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 83

इस धारा को यह कहते हुए बदल दिया गया है कि प्रोविजनल अटैचमेंट धारा 83(1) के तहत पारित आदेश की तारीख से एक वर्ष पूरा होने तक वैध होगा ।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 129 (फाइनैन्स बिल  का क्लॉज़ 107)

अपीलकर्ता किसी आदेश के खिलाफ माल का डिटेन्शन और सीजर (Detention & Seizure) और ट्रांजिट में वाहन (Conveyance in transit)  के लिए 25% जुर्माना के साथ विवादित राशि जमा करने के बाद ही अपील दायर कर सकता है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 129 (फाइनैन्स बिल  का क्लॉज़ 108)

डिटेन्शन में लिए जाने, जब्ती और माल की रिहाई और ट्रांसिट में  वाहन के संबंध में लगाए गए पेनल्टी में बदलाव किया गया है।

1. जुर्माना माल पर देय कर का 200 प्रतिशत है।

2. जहां माल का मालिक सामने नहीं आता है, तो जुर्माना माल के मूल्य के 50% या देय कर के 200% ,दोनों  से जो  अधिक हो, वह होगा ।

आप इस पेनाल्टी का भुगतान बॉन्ड के तहत नहीं कर सकते हैं, इसलिए इसका  नकद में भुगतान करना होगा। यदि पंद्रह दिनों में जुर्माना भरा नहीं गया, तो माल को डीसपोज किया जा सकता है या बेंचा जा सकता है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 130

इस खंड को धारा 129 . से अलग किया गया है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 151

ज्यूरिडिक्शनल कमिश्नर को कानून से संबंधित किसी भी मामले पर जानकारी एकत्र करने का अधिकार दिया गया  है।

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 152

इस अनुभाग  द्वारा धारा 150 एवं 151 के लिए सुनवाई का अवसर अनिवार्य कर दिया गया है

सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 168

धारा 151 के तहत ज्यूरिडिक्शनल कमिश्नर को सूचना मांगने का अधिकार दिया गया है।

सीजीएसटी अधिनियम की अनुसूची II

इस अनुसूची को पूर्वप्रभावी प्रभाव से हटा दिया गया है।

आईजीएसटी अधिनियम की धारा 16

IGST अधिनियम बदल दिया गया है:

  • केवल अगर वस्तुओं या सेवाओं की सप्लाई स्पेशल इकनॉमिक ज़ोन डेवलपर  या इकनॉमिक ज़ोन यूनिट को अधिकृत संचालन के लिए की जाती है, तो इसे ज़ीरो रेटेड सप्लाई कहा जाता है 
  • करदाताओं के कुछ वर्गों या वस्तुओं या सेवाओं की सप्लाई के लिए इंटीग्रेटेड टैक्स के भुगतान पर शून्य-रेटेड सप्लाई  पर प्रतिबंध
  • रिफन्ड के साथ माल के निर्यात के मामले में, विदेशी मुद्रा के रेमिटन्स  के साथ लिंक करना

हमारे समाज में प्रचलित सामाजिक-आर्थिक मानदंडों को देखते हुए भारतीय बजट को गतिशील माना जाता है। जीएसटी की नवीनतम अधिसूचनाओं, जीएसटी समाचार और जीएसटी बिल की नवीनतम अपडेट पर सभी की नजर रखनी चाहिए। यह बेहतर पारदर्शिता सुनिश्चित करेगा और प्रक्रिया को परेशानी मुक्त बनाएगा।

न्यायिक फैसला 

आइए कुछ लैंडमार्क जजमेंट द्वारा जीएसटी में नए बदलाव पर एक नजर डालते हैं।

1.सफारी रिट्रीट प्राइवेट लिमिटेड बनाम सीजीएसटी के चीफ कमिश्नर (उड़ीसा उच्च न्यायालय)

मुद्दा - क्या माल या सेवाओं पर आईटीसी की अनुमति दी जाएगी जो प्राप्त किराए पर देय जीएसटी के खिलाफ मॉल के निर्माण में इस्तेमाल किया गया था?

निष्कर्ष  - उच्च न्यायालय ने माना कि मॉल के निर्माण में उपयोग की जाने वाली वस्तुओं या सेवाओं का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) जिसे उन्होंने न तो अपने लिए या बिक्री के लिए इस्तेमाल किया, बल्कि किराये की आय से कमाई करना  उनका व्यवसाय था। चूंकि यह व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए था, इसलिए आईटीसी लिया जा सकता है।

2. बाई ममुबाई ट्रस्ट बनाम सुचित्रा (बॉम्बे उच्च न्यायालय)

मुद्दा - क्या कोर्ट रिसीवर द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर जीएसटी लगाया जा सकता है?

निष्कर्ष - सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की अनुसूची III के अनुसार- कुछ ऐसे लेनदेन हैं जिन्हें न तो माल या सेवा की सप्लाई  माना जाता है। ऐसा एक उदाहरण है, किसी न्यायालय या ट्राइब्यूनल द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवा ,यह न तो माल का सप्लाई है न ही सर्विस का ।  इस आधार पर, कोर्ट रिसीवर को भुगतान किए गए शुल्क या शुल्क भुगतान के लिए, जीएसटी नहीं लगाया जाएगा।

3.अमित कॉटन इंडस्ट्रीज बनाम प्रधान आयुक्त सीमा शुल्क (गुजरात उच्च न्यायालय)

मुद्दा- क्या निर्यात किए गए सामान पर भुगतान किए गए आईजीएसटी के रिफंड को रोकने के लिए ड्यूटी ड्रॉबैक (DDB) का अधिक दावा एक कारण नहीं हो सकता है?

निष्कर्ष - उच्च न्यायालय ने माना कि आवेदक को माल के निर्यात के लिए आईजीएसटी के रिफंड के दावे का तुरंत हकदार होना चाहिए, क्योंकि अगर कोई व्यवसाय उच्च दर की वापसी का दावा करता है तो उस वक्त आईजीएसटी रिफंड को प्रतिबंधित करने के लिए कानून के तहत कोई प्रावधान, सर्कुलर या निर्देश नहीं था।

4.शबनम पेट्रोफिल्स प्राइवेट लिमिटेड बनाम यूओआई (UOI) (गुजरात उच्च न्यायालय)

मुद्दा - क्या इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर (Inverted Duty Infrastructure) के कारण नोटिफाइड गुड्ज़ का इनपुट टैक्स क्रेडिट अनयूटिलाइज्ड रह जाएगा?

निष्कर्ष - उच्च न्यायालय ने माना कि इनपुट टैक्स क्रेडिट लैप्स नहीं होगा, क्योंकि कोई इन्हेरन्ट पावर (Inherent Power) नहीं थी, जो अनयूटिलाइज्ड (Unutilised) आईटीसी को इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर के कारण लैप्स होने का अधिकार दे सकती थी।

5. DGAP VS नेस्ले इंडिया लिमिटेड (नेशनल एंटी-प्रॉफिटियरिंग अथॉरिटी या NAA)

मुद्दा - यदि दर में कमी का लाभ देने के लिए गलत पद्धति अपनाई जाती है तो क्या एंटी प्रॉफिटीयरिंग प्रावधान आकर्षित होंगे?

निष्कर्ष - निर्णय में कहा गया कि व्यवसाय एंटी प्रॉफिटीयरिंग प्रावधानों को आकर्षित करेगा, क्योंकि रेसपोनडेंट्स ने लाभ को समग्र स्तर पर पारित किया था, न कि उपभोक्ता स्तर पर, जो कि प्रावधानों के अनुसार नहीं था।

6. अरावली पॉलीआर्ट (प्रा.) लिमिटेड (एएआर- उत्तराखंड)

मुद्दा - क्या एक ही परिसर से संचालित रेस्तरां और मिठाई की दुकानों को रेस्तरां सेवाओं की 'कॉम्पोजिट सप्लाई ' के रूप में माना जा सकता है?

निष्कर्ष - एएआर ने माना कि रेस्तरां और मिठाई की दुकानें व्यवसाय के ऑर्डिनरी कोर्स में नेचूरली बंडल्ड नहीं हैं। रेस्तरां में आने वाला कोई भी व्यक्ति मिठाई की दुकान से खरीदने के लिए किसी भी तरह की सांठगांठ के बिना भोजन सेवाओं का लाभ उठा सकता है। इसलिए, दोनों सेवाएं एक-दूसरे से स्वतंत्र हैं और इन्हें कॉम्पोजिट सप्लाई के रूप में नहीं माना जा सकता है। इसके अलावा, रेस्तरां सेवाओं के लिए जीएसटी लागू होगा, लेकिन टैक्स क्रेडिट की अनुमति नहीं होगी। मिठाई की दुकानों के मामले में जीएसटी लगाया जाएगा, और व्यवसाय भी आईटीसी का दावा कर सकते हैं।

7. स्क्वायर वन होममेड ट्रीट्स (एएआर केरल)

मुद्दा - क्या भोजन और बेकरी उत्पादों का पुनर्विक्रय एक रेस्तरां सर्विस है?

निष्कर्ष - कोर्ट ने माना कि भोजन और बेकरी उत्पादों की पुनर्विक्रय को रेस्तरां सर्विस नहीं माना जा सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भोजन तैयार नहीं होता है, बल्कि ग्राहकों को परिसर में उपभोग के लिए केवल एक सुविधा दी जाती है जिसे रेस्तरां सर्विस के रूप में नहीं गिना जाएगा।

8.    रॉयल केयर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिमिटेड (एएआर तमिलनाडु)

मुद्दा- क्या चिकित्सा उपचार में उपयोग की जाने वाली दवाओं, इमप्लान्टस आदि को स्वास्थ्य सेवाओं की ‘कॉम्पोजिट सप्लाई ' के रूप में माना जाएगा?

निष्कर्ष - मरीजों को दवाओं की सप्लाई स्वास्थ्य सेवा के रूप में वर्गीकृत की जाएगी और इसे कॉम्पोजिट सप्लाई के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा। हालांकि, स्वास्थ्य सेवाओं को जीएसटी से छूट दी गई है, इसलिए इस पर टैक्स नहीं लगेगा।

निष्कर्ष

जीएसटी के शुरू होने के बाद से ही मीडिया में लगातार जीएसटी को लेकर खबरें आती रही हैं। पक्ष-विपक्ष को सामने लाया जाता है और कमियों को सुधारने के लिए सरकार आवश्यक कार्रवाई कर रही है। इसकी वजह यह है कि जीएसटी कानून को और अधिक पारदर्शी और उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के लिए लगातार बदलाव किए जा रहे हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1. 01/04/2021 से कितने एचएसएन कोड का उल्लेख किया जाना है?

1 अप्रैल 2021 से, 4 अंकों तक का एचएसएन कोड B2B लेनदेन के लिए 5 करोड़ रुपये से कम के कारोबार के लिए अनिवार्य कर दिया गया है और 5 करोड़ रुपये से अधिक (B2B और B2C) सभी  लेनदेन के  लिए 6 अंकों का HSN कोड अनिवार्य कर दिया गया।

2. राजस्थान में ई-वे बिल की नई सीमा क्या है?

राजस्थान सरकार ने 1 अप्रैल 2021 से ई-वे बिल जनरेट करने के लिए सीमा बढ़ाकर रु.1 लाख कर दिया है।    

3. क्या ई-चालान B2C लेनदेन के लिए लागू है?

वर्तमान में B2C लेन-देन के लिए कोई ई-चालान लागू नहीं है।

4. एचएसएन कोड कब अप्लाइ होता है?

01अप्रैल 2021 से सभी B2B और B2C लेनदेन के लिए HSN कोड अनिवार्य है।

5. 50 करोड़ रुपये से अधिक मे ई-चालान कब से लागू है?

वित्त वर्ष 2017-18 से, किसी भी वर्ष, यदि कारोबार 50 करोड़ रुपये से अधिक हो जाता है, तो B2B टैक्सेबल सप्लाई के लिए, 1 अप्रैल 2021 से ई-चालान लागू होता है।

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

gst for ppe

भारत में पीपीई पर जीएसटी: फेस मास्क, सैनिटाइज़र और हैंडवाश पर जीएसटी


einvoicing for business

50 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार वाले व्यवसायों के लिए ई-चालान


time place and value

जीएसटी के तहत वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति के लिए समय, मूल्य और स्थान


gst on motor cars

मोटर कारों और हल्के मोटर वाहनों पर जीएसटी के बारे में जानें


invoice furnishing

चालान प्रस्तुत करने की सुविधा (आईएफएफ) के प्रमुख पहलू


gst on cement industry

सीमेंट उद्योग पर जीएसटी दर का प्रभाव


gst amensty

जीएसटी सर्व-क्षमा योजना क्या है? GSTR-3B विलंब शुल्क राहत, लाभ, पात्रता और अंतिम तिथि


eway

ईवे बिल क्या है? पीडीएफ प्रारूप में ईवे बिल कैसे डाउनलोड करें?


gst on indian economy

भारतीय अर्थव्यवस्था पर जीएसटी का प्रभाव