written by khatabook | June 30, 2021

GST रजिस्ट्रेशन के लिए एग्रीगेट टर्नओवर का कैलकुलेशन कैसे करें?

गुड्ज़ एण्ड सर्विस टैक्स एक अप्रत्यक्ष कर है, जो भारत में वस्तुओं और सेवाओं पर लगाया जाता है। हालांकि इसका भुगतान विक्रेता द्वारा सरकार को किया जाता है, लेकिन अंततः उपभोक्ता द्वारा ऐसी वस्तुओं और सेवाओं का उपयोग करके टैक्स वहन किया जाता है। प्रत्येक व्यवसाय को जीएसटी कानून के तहत खुद को पंजीकृत कराने की आवश्यकता है। यदि उसका एग्रीगेट टर्नओवर जीएसटी रजिस्ट्रेशन लिमिट से अधिक है।

जीएसटी के अंतर्गत एग्रीगेट टर्नओवर क्या है?

सीजीएसटी अधिनियम की धारा 2(6) के अनुसार, एग्रीगेट टर्नओवर  सभी टैक्सेबल सप्लाई का कुल मूल्य है जिसका उपयोग जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिमिट कैलकुलेशन करने के लिए किया जाता है। इससे यह भी निर्धारित किया जाता है कि क्या करदाता कंपोजीशन स्कीम के लिए योग्य है। 

इसमें सभी छूट प्राप्त सप्लाई, वस्तुओं या सेवाओं का निर्यात, और एक ही पैन नंबर वाले व्यक्तियों की इंटर स्टेट सप्लाई शामिल है, जिसकी गणना पूरे भारत मे सप्लाई के आधार पर की जाती है।

हालांकि, इसमें इन्वर्ड सप्लाई (inward supplies) शामिल नहीं है, जिस पर RCM (रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म) का भुगतान किया जाता है।

जीएसटी के तहत एग्रीगेट टर्नओवर का महत्व

इसकी गणना कैसे करें, यह समझाने से पहले, आइए पहले जीएसटी कानून में एग्रीगेट टर्नओवर की प्रासंगिकता को समझें।

  • जीएसटी पंजीकरण सीमा की गणना के लिए एग्रीगेट टर्नओवर की अवधारणा ने कर संग्रह में सुधार किया है।
  • एग्रीगेट टर्नओवर सिस्टम का इस्तेमाल करते हुए पहले से छूट वाली कंपनियां भी अब जीएसटी के दायरे में आ गई हैं।
  • साथ ही, सरकार व्यवसायों का निरीक्षण कर सकती है और उन्हें GST कानून के तहत पंजीकृत करा सकती है। इससे करदाताओं का आधार भी बढ़ा है।

जीएसटी लिमिट की गणना के लिए एग्रीगेट टर्नओवर की गणना कैसे करें?

जीएसटी पंजीकरण सीमा की गणना करने और यह जांचने के लिए कि क्या सप्लाईअर को जीएसटी पंजीकरण के लिए पंजीकरण करना होगा इसके लिए एग्रीगेट टर्नओवर की आवश्यकता होती है। एन्टिटी के कुल कारोबार की गणना करते समय हम हमेशा पिछले वित्तीय वर्ष के आंकड़ों को ध्यान में रखते हैं।

इसकी गणना निम्न प्रकार से की जा सकती है:

भारत भर में अपने सभी व्यावसायिक संगठनों में समान पैन नंबर वाले व्यक्ति के लिए, कुल कारोबार होगा .. 

सभी टैक्सेबल सप्लाई, निर्यात, छूट प्राप्त सप्लाई और इंटर स्टेट सप्लाई  का मूल्य

घटाओ

रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म के तहत टैक्सेबल सप्लाई, इनवार्ड सप्लाई, शराब, पेट्रोल, आदि जैसी वस्तुओं या सेवाओं की नॉन टैक्सेबल सप्लाई।

आइए एक उदाहरण लेते हैं-

माया के पास पश्चिम बंगाल में एक कृषि संपदा है, जिसका सालाना टर्नओवर रु 2 करोड़ है। यह व्यवसाय कर से मुक्त है। लेकिन वह उपज की सप्लाई के लिए बैग के लिए चार्ज लेती है। ऐसे बैग की बिक्री से टर्नओवर रु. 4 लाख है जो जीएसटी के लिए उत्तरदायी है। क्या माया को जीएसटी कानून के तहत पंजीकरण कराना चाहिए?

उत्तर है, हाँ। जब आप विचार करते हैं कि क्या किसी व्यक्ति को जीएसटी कानून के तहत पंजीकरण करने की आवश्यकता है, तो हम कुल टर्नओवर पर विचार करते हैं न कि टैक्सेबल टर्नओवर पर। साथ ही, कृषि संपदा पश्चिम बंगाल में है जो एक सामान्य श्रेणी का राज्य है। इसलिए, छूट वाले टर्नओवर सहित माया का कुल टर्नओवर  40 लाख रुपये के जीएसटी पंजीकरण की सीमा से अधिक है। 

संक्षेप में, एक करदाता को भले ही कर का भुगतान करने से छूट मिली हो, उसे जीएसटी पंजीकरण नियमों का पालन करना होगा, बशर्ते उसका एग्रीगेट टर्नओवर आवश्यक सीमा से अधिक हो।

जॉब वर्क और एग्रीगेट टर्नओवर

ध्यान देने योग्य एक बात यह है कि जॉब वर्क के पूरा होने के बाद होने वाली वस्तुओं की सप्लाई जॉब वर्कर के लिए कुल टर्नओवर का हिस्सा नहीं होगी। ऐसी सप्लाई के उदाहरण हैं:

  • प्रिंसिपल को माल की वापसी
  • प्रिंसिपल के निर्देश पर दूसरे जॉब वर्कर को माल का भेजा जाना 
  • वह सामान जो प्रिंसिपल द्वारा सीधे जॉब वर्कर के परिसर से सप्लाई किया जाता है।

राज्य में कुल टर्नओवर बनाम टर्नओवर

बहुत से लोग जीएसटी के तहत कुल टर्नओवर को एक राज्य में टर्नओवर के साथ कन्फ्यूज़ करते हैं। दोनों एक दूसरे से अलग हैं। अब जब हमने कुल टर्नओवर को ऊपर परिभाषित कर दिया है, तो आइए समझते हैं कि किसी राज्य में टर्नओवर से हमारा क्या मतलब है।

एक राज्य में टर्नओवर का अर्थ है एक वर्ष में इकाई द्वारा किए गए व्यवसाय की कुल मात्रा। इसमें निम्नलिखित शामिल होंगे:

  • विभिन्न राज्यों और संस्थाओं के बीच सभी सप्लाई ।
  • जिन पर रिवर्स चार्ज लागू है, उन्हें छोड़कर सभी टैक्सेबल सप्लाई।
  • एक्सपोर्ट सप्लाई।
  • जीएसटी के तहत सभी छूट प्राप्त सप्लाई।
  • जीएसटी करों को छोड़कर सभी कर।
  • प्रिंसिपल के रूप में जॉब वर्कर से प्राप्त कोई भी गुड्ज़।
  • एक प्रिंसिपल के रूप में जॉब वर्कर को सप्लाई किया गया कोई भी गुड्ज़।
  • प्रिंसिपल की ओर से जॉब वर्कर को कोई सप्लाई।

एग्रीगेट टर्नओवर की गणना जीएसटी उद्देश्यों के लिए थ्रेसहोल्ड लिमिट और कंपोजिशन स्कीम के लिए करदाता की योग्यता की गणना करने के लिए की जाती है।

दूसरी ओर, सरकार को भुगतान की जाने वाली कंपोजिशन स्कीम के तहत कंपोजिशन लेवी की गणना के लिए राज्य में टर्नओवर की आवश्यकता होती है। दूसरे शब्दों में, भुगतान किए जाने वाले कंपोजीशन लेवी चार्ज की गणना के लिए राज्य में टर्नओवर को ध्यान में रखा जाता है न कि कुल टर्नओवर को।

कंपोजीशन लेवी छोटे करदाताओं के लिए डिज़ाइन किया गया एक कम कर वाला विकल्प है। इस योजना के तहत, छोटे करदाताओं को, यदि योग्य हैं, तो केवल टर्नओवर की एक निश्चित निर्दिष्ट दर पर ही जीएसटी का भुगतान करना होगा। साथ ही, करदाताओं को मासिक के बजाय तिमाही रिटर्न दाखिल करने का विकल्प मिलता है।

एग्रीगेट टर्नओवर की गणना के लिए सामान्य श्रेणी के राज्य कौन से हैं?

जीएसटी एक डेस्टिनेशन -आधारित कर है और यह उस राज्य द्वारा प्राप्त किया जाता है, जिसमें ऐसी वस्तुओं और सेवाओं का उपयोग किया जाता है, न कि जहां वे निर्मित होते हैं। कुछ राज्यों ने जीएसटी पंजीकरण के लिए नई लिमिट का विकल्प चुना और अन्य ने जीएसटी पंजीकरण की मौजूदा लिमिट को चुना। राज्यों में केंद्र शासित प्रदेश भी शामिल हैं। ये नीचे सूचीबद्ध हैं:

सामान्य श्रेणी के राज्य

- नई पंजीकरण सीमा

निम्नलिखित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने नई जीएसटी पंजीकरण सीमा का विकल्प चुना है, यानी 40 लाख रुपये की नई सीमा:

  • दिल्ली
  • बिहार
  • केरल
  • गुजरात,
  • हरियाणा,
  • पंजाब,
  • छत्तीसगढ़,
  • गोवा,
  • उत्तर प्रदेश,
  • आंध्र प्रदेश,
  • हिमाचल प्रदेश,
  • झारखंड,
  • उड़ीसा,
  • तमिलनाडु,
  • राजस्थान,
  • पश्चिम बंगाल,
  • लक्षद्वीप,
  • दादरा और नगर हवेली,
  • चंडीगढ़
  • अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह

- मौजूदा पंजीकरण सीमा

सामान्य श्रेणी के राज्य जो मौजूदा जीएसटी पंजीकरण 20 लाख रुपये की सीमा में है 

  • तेलंगाना

एग्रीगेट टर्नओवर की गणना करते समय विशेष श्रेणी के राज्य कौन से हैं?

सामान्य श्रेणी के राज्यों के अलावा, जीएसटी में कुछ विशेष श्रेणी के राज्य हैं। एक विशेष श्रेणी का राज्य वह होता है, जो जिसे उसके विकास और विकास में मदद करने के लिए केंद्र द्वारा दिया गया विशेष दर्जा प्राप्त होता है। इन राज्यों को पहाड़ी इलाकों, बुनियादी ढांचे के पिछड़ेपन और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं जैसी कुछ सीमाओं का सामना करना पड़ता है।

वे अन्य राज्यों के समान दर से विकास नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए केंद्र उन्हें इस संबंध में विशेष सहायता देता है। इन राज्यों में सामान्य श्रेणी के राज्यों की तुलना में जीएसटी की थ्रेसहोल्ड लिमिट कम है। सामान्य श्रेणी की तरह, ये राज्य भी जीएसटी पंजीकरण के लिए नई लिमिट में बदल सकते हैं। पुनः इन्हें भी दो भागों में बांटा गया है:

जीएसटी रजिस्ट्रेशन लिमिट 

विशेष श्रेणी के राज्य

नई रजिस्ट्रेशन लिमिट 20 लाख रुपये

जम्मू और कश्मीर

लद्दाख

असम

मौजूदा रजिस्ट्रेशन लिमिट10 लाख रुपये

पुदुचेरी

मेघालय

मिजोरम

त्रिपुरा

मणिपुर

सिक्किम

नगालैंड

अरुणाचल प्रदेश

उत्तराखंड

जीएसटी पंजीकरण लिमिट क्या है?

  • हाल ही में MSME (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) की ओर से जीएसटी पंजीकरण के लिए थ्रेसहोल्ड लिमिट बढ़ाने की कुछ मांगें की गई हैं। इसके तहत, राज्य या तो मौजूदा जीएसटी पंजीकरण सीमा या नई शुरू की गई जीएसटी सीमाओं के साथ जा सकते हैं।
  • दोनों ही मामलों में सामान्य श्रेणी के राज्यों और विशेष श्रेणी के राज्यों के लिए लिमिट अलग-अलग हैं. ध्यान देने वाली बात यह है कि शुरू की गई ये नई जीएसटी पंजीकरण लिमिट केवल वस्तुओं और सेवाओं देने वालों  के लिए हैं न कि केवल सेवा देने वालों  के लिए। दूसरे शब्दों में, सेवाओं के लिए जीएसटी की सीमा वही रहेगी।

जीएसटी पंजीकरण के लिए लिमिट:

31 मार्च 2019 तक जीएसटी पंजीकरण की मौजूदा सीमाएं 

  • यदि सामान्य श्रेणी के राज्यों में सप्लाईअर के लिए जीएसटी के तहत एग्रीगेट टर्नओवर 20 लाख रुपये से अधिक है, तो पंजीकरण अनिवार्य है।
  • यदि विशेष श्रेणी के राज्यों में में सप्लाईअर के लिए जीएसटी के तहत एग्रीगेट टर्नओवर 10 लाख रुपये से अधिक है, तो पंजीकरण अनिवार्य है।

1 अप्रैल 2019 से जीएसटी पंजीकरण के लिए नई सीमा सीमा (राज्यों के लिए ऑप्शनल )

(केवल माल की बिक्री के लिए)

  • यदि सामान्य श्रेणी के राज्यों में सप्लाईअर के लिए एग्रीगेट टर्नओवर 40 लाख रुपये से अधिक है, तो ऐसे सप्लाईअर के लिए जीएसटी पंजीकरण अनिवार्य है।
  • यदि विशेष श्रेणी के राज्यों में सप्लाईअर के लिए एग्रीगेट टर्नओवर 20 लाख रुपये से अधिक है, तो ऐसे सप्लाईअर के लिए जीएसटी पंजीकरण अनिवार्य है।

नई जीएसटी पंजीकरण लिमिट निम्नपर नहीं लगेगा 

केंद्र के अनुसार, कुछ सप्लायर भले ही उनका एग्रीगेट टर्नओवर 20 लाख रुपये से अधिक हो, उन्हें अनिवार्य रूप से जीएसटी कानून के तहत खुद को पंजीकृत कराना होगा। ऐसे सप्लायर 40 लाख रुपये की नई पंजीकरण सीमा के लिए योग्य  नहीं हैं:

  • जो तंबाकू या तंबाकू सब्सीटूट(substitute ) के निर्माण और सप्लाई में शामिल हैं।
  • जो आइसक्रीम या अन्य खाद्य बर्फ की सप्लाई  या निर्माण करते हैं, भले ही इसमें कोकोआ है या नहीं
  • जो पान मसाला बनाने और सप्लाई  में शामिल हैं।

कॉम्पोजिसन स्कीम के तहत जीएसटी पंजीकरण सीमा

कंपोजिशन स्कीम के तहत, करदाता श्रेणी के आधार पर सीमा भिन्न होती है। पंजीकरण के लिए उनकी योग्यता की जांच करते हुए पिछले वित्तीय वर्ष के लिए वार्षिक टर्नओवर की जांच की जाती है। विभिन्न करदाताओं पर लागू विभिन्न जीएसटी दरें निम्नलिखित हैं:

करदाता

ट्रेडर्स और मैन्युफैक्चरर

रेस्टोरेंट सर्विस प्रोवाइडर्स

अन्य दूसरे सर्विस प्रोवाइडर्स

पुराना वार्षिक टर्नओवर 

Rs 1 crore

Rs 1 crore

-

नया वार्षिक टर्नओवर

Rs 1.5 crore

Rs 1.5 crore

Rs 50 lakhs

जीएसटी दर

1%

5%

6%

जीएसटी पंजीकरण से विभिन्न समूहों को कैसे लाभ होता है?

  • सरकार के लिए, जीएसटी पंजीकरण उन्हें करदाताओं की पहचान करने और कुशलतापूर्वक कर अनुपालन सुनिश्चित करने की अनुमति देता है।
  • वस्तुओं और सेवाओं के सप्लायर्स को बेची गई वस्तुओं और सेवाओं पर भुगतान किए गए कर पर इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त करने और वस्तुओं और सेवाओं पर आउटपुट टैक्स को सेट ऑफ करने के लिए।
  • ग्राहकों के लिए वस्तुओं और सेवाओं के कानूनी रूप से अधिकृत विक्रेता के रूप में वस्तुओं और सेवाओं के सप्लाईअर की मान्यता
  • बाजार के लिए माल और सेवाओं का एक पारदर्शी, निर्बाध प्रवाह और इनपुट टैक्स क्रेडिट 

जीएसटी के लिए पंजीकरण कैसे करें?

जीएसटी के लिए खुद को पंजीकृत करना बहुत आसान है।

1. भारत सरकार के आधिकारिक जीएसटी पोर्टल www.gst.gov.in पर जाएं।

2. इसके बाद सर्विसेज पर क्लिक करें और रजिस्ट्रेशन पर जाएं।

 

GST registration steps

3. पंजीकरण टैब के तहत नए पंजीकरण पर क्लिक करें। अपना पैन, अन्य विवरण दर्ज करें और सबमिट पर क्लिक करें। अगले पेज पर ओटीपी को वेरिफाई करें और रजिस्टर करें।

 

GST registration steps

4. एक बार जब आप ओटीपी सत्यापित कर लेते हैं, तो एक टीआरएन या टेंपररी रेफरेंस नंबर जेनरेट होती है। उस टीआरएन के साथ फिर से पोर्टल में लॉग इन करें, अपने डैशबोर्ड पर जाएं, सेभ किए गए एप्लिकेशन पर क्लिक करें और अपना आवेदन पूरा करें।

 

Step-4

5. आवेदन को पूरा करने के लिए आपको बिजनस इन्कॉर्परैशन का प्रमाण, बैंक स्टैट्मन्ट , करदाता का फोटो और पते का प्रमाण और एक डिजिटल हस्ताक्षर संलग्न करना होगा।

GST-Registration-Promoter-Information

एक बार जब सरकार आवेदन को सत्यापित कर लेती है, तो केंद्र सरकार एक यूनीक 15 अंकों की पंजीकरण संख्या जारी करती है, जिसे GSTIN के रूप में जाना जाता है। आप जीएसटी पोर्टल में लॉग इन करके अपना जीएसटी सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकते हैं।

याद रखें कि प्रत्येक राज्य को एक अलग पंजीकरण संख्या की आवश्यकता होती है। यदि आप एक से अधिक राज्यों से काम करते हैं, तो आपको इन हर राज्यों से पंजीकरण संख्या प्राप्त करनी होगी।

किसे जीएसटी रजिस्ट्रेशन लेना आवश्यक है?

केंद्र ने कुछ ऐसे व्यक्तियों को सूचीबद्ध किया है, जिन्हें सीजीएसटी अधिनियम, 2017 की धारा 24 के अनुसार जीएसटी कानून के तहत पंजीकरण करना होगा, भले ही करदाता जीएसटी पंजीकरण के लिए लिमिट के अनुसार योग्य हो या नहीं। ऐसे व्यक्तियों की सूची निम्नलिखित है:

  • कैजुअल टैक्सेबल पर्सन का अर्थ है, जिनके पास व्यवसाय का कोई स्थान नहीं है, लेकिन जब वे कभी-कभी वस्तुओं और सेवाओं की सप्लाई में शामिल होते हैं और वे प्रिंसिपल या एजेंट की कपैसिटी में कार्य करते हैं।
  • रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म के तहत टैक्स का भुगतान करने के लिए आवश्यक सभी, यानी सामान्य जीएसटी के विपरीत, टैक्स का भुगतान वस्तुओं और सेवाओं की सप्लाई करने वाला व्यक्ति।
  • सभी व्यक्ति जो धारा 9(5) के तहत कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं।
  • नॉन रेसीडेंट टैक्सेबल पर्सन,दूसरे शब्दों में, एक व्यक्ति जो भारत का निवासी नहीं है या भारत में उसका सिर्फ व्यवसाय का एक स्थान है। यदि वे भारत में कोई व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, तो उन्हें भारत में ऐसा व्यवसाय शुरू करने से पहले न्यूनतम 5 दिनों के लिए आवेदन करना होगा।
  • ऐसे सभी व्यक्ति, जो इन्टर स्टेट टैक्सेबल सप्लाई से संबंधित लेनदेन में शामिल हैं।
  • इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर
  • कोई भी व्यवसाय जो भारत में  गैर-पंजीकृत व्यक्ति को भारत के बाहर से ऑनलाइन जानकारी की सप्लाई करता है या सूचना सेवाओं को पुनः प्राप्त करके भेजता है।
  • ऐसी सभी सप्लाईज, धारा 9 उप-धारा 5 के तहत उल्लिखित सप्लाईज के अलावा  जो भारत में  गैर-पंजीकृत व्यक्ति को ई-कॉमर्स ऑपरेटर के माध्यम से संचालित होती है, 
  • GST काउंसिल द्वारा रिकमेंडेड और सरकार द्वारा नोटिफाइड व्यक्तियों को जीएसटी कानून के तहत खुद को पंजीकृत करना होगा।

सीजीएसटी अधिनियम की धारा 24 के तहत जीएसटी पंजीकरण से छूट ऐसे सभी व्यक्ति जो 40 लाख रुपये के कुल टर्नओवर के साथ हस्तशिल्प वस्तुओं की सप्लाई में शामिल हैं। उन्हे इस अधिनियम के तहत 40 लाख के पंजीकरण से छूट दी गई है। विशेष श्रेणी के राज्यों जैसे मणिपुर, नागालैंड, त्रिपुरा और मिजोरम के लिए यह 20 लाख है।

रजिस्ट्रेशन न करने पर पेनल्टी 

यदि आप जीएसटी कानून के तहत पंजीकृत होने के लिए उत्तरदायी हैं और ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो संबंधित अधिकारियों द्वारा आपको जीएसटी कानून के तहत दंडित किया जाएगा। ऐसे करदाता 10,000 रुपये के जुर्माने या कर चोरी की राशि, जो भी अधिक हो, उसके लिए उत्तरदायी होंगे।

निष्कर्ष

उपरोक्त लेख को पढ़ने के बाद, हम आशा करते हैं कि आपको कुल कारोबार क्या है और इसकी गणना कैसे करें, यह जानने के लिए आपको जीएसटी कानून के तहत खुद को पंजीकृत कराने की आवश्यकता है या नहीं, इसकी उचित समझ हो गई होगी। यदि आपको जीएसटी सीमा या जीएसटी टर्नओवर सीमा के बारे में कोई और संदेह और प्रश्न हैं, तो आपको जीएसटी विशेषज्ञों या चार्टर्ड एकाउंटेंट से जुड़ना चाहिए और उनकी सलाह लेनी चाहिए।

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQS)

1. क्या कुल कारोबार की गणना करते समय केंद्रीय कर या राज्य कर शामिल है?

नहीं, जीएसटी सीमा के लिए कुल कारोबार की गणना करते समय केंद्रीय कर, राज्य कर, केंद्र शासित प्रदेश कर, एकीकृत कर और सैस को बाहर रखा गया है।

2. क्या व्यवसायों को कर भुगतान से छूट प्राप्त है, तो उन्हें भी जीएसटी कानून के तहत पंजीकृत होना आवश्यक है?

सभी व्यवसाय जिनका एग्रीगेट टर्नओवर, छूट वाले कारोबार सहित, सीमा से अधिक है, तो उन्हें जीएसटी अधिनियम के तहत पंजीकृत होना आवश्यक है।

3. क्या जीएसटी कानून के तहत पैन जरूरी है?

हाँ, जीएसटी के तहत पैन प्रमुख आवश्यकताओं में से एक है।

4. एग्रीगेट टर्नओवर की गणना करते समय किस वित्तीय वर्ष का उपयोग करने की आवश्यकता है?

थ्रेशोल्ड सीमा के लिए एग्रीगेट टर्नओवर की गणना करते समय पिछले वित्तीय वर्ष पर उपयोग करने की आवश्यकता है।

5. क्या जीएसटी पंजीकरण रद्द किया जा सकता है?

हाँ, करदाता फॉर्म REG-16 में पंजीकरण रद्द करने के लिए आवेदन कर सकता है

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

gst for ppe

भारत में पीपीई पर जीएसटी: फेस मास्क, सैनिटाइज़र और हैंडवाश पर जीएसटी


einvoicing for business

50 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार वाले व्यवसायों के लिए ई-चालान


time place and value

जीएसटी के तहत वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति के लिए समय, मूल्य और स्थान


gst on motor cars

मोटर कारों और हल्के मोटर वाहनों पर जीएसटी के बारे में जानें


invoice furnishing

चालान प्रस्तुत करने की सुविधा (आईएफएफ) के प्रमुख पहलू


gst on cement industry

सीमेंट उद्योग पर जीएसटी दर का प्रभाव


gst amensty

जीएसटी सर्व-क्षमा योजना क्या है? GSTR-3B विलंब शुल्क राहत, लाभ, पात्रता और अंतिम तिथि


eway

ईवे बिल क्या है? पीडीएफ प्रारूप में ईवे बिल कैसे डाउनलोड करें?


gst on indian economy

भारतीय अर्थव्यवस्था पर जीएसटी का प्रभाव