written by khatabook | July 13, 2021

भारत में लघु व्यवसाय के लिए शीर्ष पाँच सरकारी लोन स्कीम

2020 की पहली तिमाही की वर्ल्ड इकोनॉमी रिपोर्ट (World Economy Report) के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने संकेत दिया है कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है और भारत के सकल घरेलू उत्पाद का एक बड़ा हिस्सा SME द्वारा योगदान दिया जा रहा है। इसलिए सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण है। इसके लिए सरकार ने छोटे व्यवसायों के लिए ऋण की शुरुआत की है जिसके माध्यम से व्यवसाय के मालिक अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त कर सकते हैं। यह सहायता सरकार द्वारा सब्सिडी के रूप में और आगामी व्यावसायिक उपक्रमों को प्रभावी ऋण प्रदान करने के लिए बैंकों के लिए योजनाएं तैयार करने के माध्यम से भी है। 

यह वर्किंग कैपिटल, टर्म लोन, कच्चा माल की खरीद, बिल डिस्काउंटिंग, टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन स्कीम, मार्केटिंग में मदद के रूप में हो सकती है, जिन्हें सरकार समृद्ध बनाना चाहती है। ऐसी योजनाओं के संचालन की देखभाल के लिए सरकार विशेष ट्रस्ट फंड बना सकती है या संस्थान या विभाग स्थापित कर सकती है। यह बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि छोटे व्यवसायों को सरकार की इन योजनाओं के बारे में पता होना चाहिए, ताकि वे इसका लाभ उठा सकें और राष्ट्र के आर्थिक मूल्यवर्धन में योगदान कर सकें।

भारत में लघु व्यवसाय के लिए शीर्ष 5 सरकारी लोन स्कीम:

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY)

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) "फंड द अनफंडेड" के थीम पर काम करती है। भारत सरकार ने सूक्ष्म व्यवसायों को ऋण प्रदान करने के लिए एक सूक्ष्म-इकाई विकास और पुनर्वित्त एजेंसी (MUDRA) संगठन की स्थापना की है। कम लागत और ऋण की कीमत के साथ ये ऋण व्यवसायों के लिए बहुत मददगार साबित हुए हैं।

ऋणों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया गया है:

  • तरुण ऋण: 5 लाख से 10 लाख
  • किशोर ऋण: 50,000 से 5 लाख
  • शिशु ऋण: 50,000 तक

MUDRA के तहत बिना किसी बंधक के लोन कृषि, विनिर्माण, रीटेल और सर्विस के क्षेत्रों में प्रदान किए जाते हैं।

कौन योग्य है :

  • ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में छोटे व्यवसाय के मालिक।
  • गैर-कॉर्पोरेट लघु व्यवसाय (NCSB)। उदाहरण के लिए छोटे उद्योग, सेवा क्षेत्र की इकाइयाँ।

क्रेडिट गारंटी योजना (CGS)

क्रेडिट गारंटी योजना (CGS) बैंक को गारंटी शुल्क के भुगतान पर MSME को कोलेटरल फ़्री (collateral-free) वित्त प्रदान करती है। यह योजना सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) द्वारा कार्यान्वित की जाती है, जो बदले में MSMEs मंत्रालय और भारतीय लघु औद्योगिक विकास बैंक (SIDBI) द्वारा स्थापित की जाती है। ऋण की अधिकतम राशि 200 लाख है और महिलाओं को विशेष तरजीह दी जाती है।

लोन गारंटी कवर की अधिकतम राशि नीचे दिए गए सैंक्शन राशि जितनी होती है,

1. 500 लाख रुपये तक के क्रेडिट के लिए 75%

2. 100 लाख तक के क्रेडिट के लिए 85%

सैंक्शन राशि का 1% प्रतिवर्ष तक शुल्क के रूप में लिया जाता है।

कौन योग्य है:

  • विनिर्माण उद्योग
  • शैक्षिक संस्थानों, सेल्फ हेल्प ग्रुप और प्रशिक्षण संस्थानों को छोड़कर सभी सर्विस देने वाली संस्था।

59 मिनट में MSME लोन 

भारत में क्विक बिजनेस लोन भारत सरकार द्वारा प्रदान किए गए एक पोर्टल के माध्यम से प्रदान किया जाता है, जिसमें 1 लाख से 5 करोड़ तक की राशि का ऋण केवल 59 मिनट में स्वीकृत होता है और प्रोसेसिंग में 8-10 दिन लगते हैं। इस ऋण पर 8.5% का ब्याज दर है। यह नए और मौजूदा व्यवसायों के लिए ऋण सुविधा देता है।

कौन योग्य है:

  • सैलरी पाने वाला व्यक्ति
  • सभी व्यवसाय जैसे 

-प्रोपराइटरी कंसर्न

-पार्टनरशिप फर्म

-प्राइवेट लिमिटेड 

-पब्लिक लिमिटेड 

-अन्य कानूनी संस्थाएं

आवश्यक दस्तावेज़:

  • उधारकर्ता की आय
  • मौजूदा क्रेडिट फेसीलिटी 
  • बॉरोवर की रिपेमेंट कैपेसिटी
  • GST वेरिफिकेशन
  • इनकम टेक्स वेरिफिकेशन
  • पिछले 6 महीनों का बैंक खाता विवरण।
  • KYC विवरण
  • वित्तीय ऋणदाता द्वारा निर्धारित अन्य डीटेल।

स्टैंड-अप इंडिया

स्टैंड-अप इंडिया सरकार की एक योजना है, जिसे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और महिला उद्यमियों को वित्तीय सुविधा के लिए स्थापित किया गया है। इसकी स्थापना SIDBI बैंक ने की है। इस योजना के अनुसार प्रत्येक बैंक या बैंक की प्रत्येक शाखा को कम से कम एक अनुसूचित जाति (SC) या अनुसूचित जनजाति (ST) उधारकर्ता और कम से कम एक महिला उधारकर्ता को विनिर्माण, सेवाओं, व्यापारिक गतिविधियों या कृषि और संबद्ध गतिविधियों के किसी भी क्षेत्र में पहली बार उद्यम स्थापित करने के लिए वित्त या उधार देना आवश्यक है। 

यदि उधार लेने वाला एक नॉन इंडिविजुअल है तो ऐसे उधारकर्ता को फाइनैन्स करने के लिए उस उद्यम में कम से कम 51% हिस्सेदारी की आवश्यकता होती है। प्रदान किया गया ऋण 10 लाख रुपये से 100 लाख तक है जो कि टर्म लोन और वर्किंग कैपिटल फाइनेंस दोनों के रूप में हो सकता है।

वर्किंग कैपिटल सहित परियोजना का 85% लागत लोन कवर करेगा। हालांकि अगर मालिक के योगदान को अन्य उधारों के साथ शामिल किया जाता है, तो स्टैंड-अप इंडिया योजना परियोजना लागत के 15% से अधिक है। ऐसा होने पर अनुमानित ऋण लागू नहीं होगा। इस मामले में उधारकर्ता को परियोजना लागत का न्यूनतम 10% स्वयं के योगदान के रूप में लाना होगा।

ब्याज की दर संबंधित बैंक के लिए सबसे कम लागू दर है, जो MCLR से अधिक नहीं है (Marginal Cost of Fund-based Lending Rates यानी न्यूनतम दरें जिसके नीचे बैंकों को उधार देने की अनुमति नहीं है) प्लस 3% प्लस टेनर प्रीमियम और 18 महीने की अधिकतम मोरेटोरीयम पीरीअड के साथ 7 वर्षों में चुकाने योग्य है। ऋण के लिए बैंकों द्वारा तय की गई सिक्युरिटी या कॉलेटरल या गारंटी की आवश्यकता होती है। 

कौन योग्य है:

  • उधार लेने वाला अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति या 18 वर्ष और उससे अधिक की महिला होनी चाहिए।
  • ग्रीन-फील्ड परियोजना के लिए वित्त उधार दिया जाएगा। इसका मतलब यह है कि व्यापार, कृषि, संबद्ध गतिविधियों, विनिर्माण, या सेवाओं के किसी भी क्षेत्र में उधार लेने वाला लाभार्थी का पहली बार उद्यम होना चाहिए।
  • उधार लेने वाला किसी अन्य वित्तीय संस्थान के लिए डिफ़ॉल्ट नहीं होना चाहिए।
  • नॉन इंडिविजुअल उद्यम के मामले में कम से कम 51% हिस्सेदारी अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति या महिला के पास होनी चाहिए।

राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम सब्सिडी (NSIC)

NSIC एमएसएमई के तहत एक सरकारी उद्यम है, जो ISO द्वारा प्रमाणित है। इसका उद्देश्य देश भर में वित्त, मार्केट, तकनीकी उन्नति और अन्य व्यवसाय संबंधी सेवाओं सहित सेवाएं प्रदान करके MSMEs के विकास का समर्थन करना है। NSIC ने MSME के विकास को बढ़ावा देने के लिए दो योजनाएं शुरू की हैं, जो यह हैं:

  • मार्केटिंग सपोर्ट स्कीम - यह योजना कंसोर्टिया ओर टेंडर मार्केटिंग, सिंगल प्वाइंट रजिस्ट्रेशन, इंफोमेडियरी सर्विस, मार्केटिंग इंटीलोजेंस, स्पेस मार्केटिंग, मशीनों और उपकरणों की बिक्री, और अन्य डिजिटल सेवाओं जैसे क्षेत्रों के लिए योजनाएं तैयार करके किसी भी व्यवसाय के विकास का समर्थन करती है। इस तरह की योजना महत्वपूर्ण है, क्योंकि MSMEs को मौजूदा प्रतिस्पर्धी बाजार में बढ़ने के लिए उनकी सहायता करनी चाहिए।
  • क्रेडिट सपोर्ट स्कीम - NSIC का उद्देश्य कच्चे माल की खरीद के लिए सहायता के माध्यम से MSMEs को समर्थन देना है, जो MSME को उनकी मुख्य निर्माण गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। समर्थित क्रेडिट 180 दिनों तक है और स्वीकृत बैंकों से बैंक गारंटी के रूप में सुरक्षा आवश्यक है।

क्रेडिट सपोर्ट स्कीम के लिए ब्याज दरें नीचे दी गई हैं:

विवरण

प्रति वर्ष ब्याज की दर



 

180 दिनों तक

सूक्ष्म

 

लघु

मझोले 

1. वैलिड SME 1 रेटिंग वाली SME यूनिट

7.50%

8%

9%

2. वैलिड SME 2 रेटिंग वाली SME यूनिट

8%

8.50%

9%

3. अन्य यूनिट 

8.50%

9%

9%

180 दिनों से ऊपर के लिए

     

सभी SME यूनिट

1.25% प्रति तिमाही अतिरिक्त ब्याज

साथ ही क्रेडिट सपोर्ट स्कीम के तहत एक बिल डिस्काउंटिंग योजना है, जो केवल विनिर्माण और सर्विस SMEs पर लागू होती है न कि ट्रैडिंग SMEs पर। ब्याज दरें इस प्रकार हैं:

विवरण

प्रति वर्ष ब्याज की दर



 

180 दिनों तक

सूक्ष्म

 

लघु

मझोले

1. वैलिड SME 1 रेटिंग वाली SME यूनिट

6.50%

7%

8%

2. वैलिड SME 2 रेटिंग वाली SME यूनिट

7%

7.50%

8%

3. अन्य यूनिट 

7.50%

8%

8%

180 दिनों से ऊपर के लिए

     

सभी SME यूनिट

1.25% प्रति तिमाही अतिरिक्त ब्याज

PMEGP (प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम)

यह योजना दो स्तरों पर काम करती है। इसे राष्ट्रीय स्तर पर अनुमोदन प्राप्त होता है जहां खादी और ग्राम उद्योग आयोग (KVIC) नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करते है। यह स्वीकृत ऋण खाताधारक को राज्य स्तरीय एजेंसी, राज्य KVIC निदेशालय, राज्य खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड (KVIBs), जिला उद्योग केंद्र (DICs) और बैंक के माध्यम से वितरित किया जाता हैं।

स्वीकार्य क्षेत्र में अधिकतम परियोजना लागत 25 लाख रुपये है और व्यापार क्षेत्र में यह 10 लाख रुपये है। परियोजना लागत के निम्नलिखित प्रतिशत की राशि पर सब्सिडी के रूप में ऋण प्रदान किया जाता है जबकि शेष ऋण बैंकों द्वारा प्रदान किया जाता है।

श्रेणियाँ

शहरी 

ग्रामीण 

जेनरल 

15%

25%

स्पेशल 

25%

35%

कौन योग्य है:

  • 18 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति।
  • विनिर्माण के लिए 10 लाख रुपये से अधिक और व्यवसाय या सेवा क्षेत्र के लिए 5 लाख रुपये से अधिक की लागत वाली परियोजनाओं के लिए न्यूनतम योग्यता 8वीं कक्षा पास।
  • सब्सिडी केवल नई परियोजनाओं के लिए उपलब्ध है।
  • पहले से ही किसी अन्य सरकारी योजना से सब्सिडी प्राप्त करने वाली यूनिट योग्य नहीं हैं।

टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन के लिए क्रेडिट लिंक कैपिटल सब्सिडी योजना

इस योजना का उद्देश्य MSEs में टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन प्रदान करना है। इसका मतलब है कि स्वीकृत 51 उप-क्षेत्रों में 15% की अग्रिम सब्सिडी प्रदान की जाती है। यह व्यवसायों को उचित तकनीक के साथ तकनीकी संचालित सिस्टम और प्लांट और मशीनरी स्थापित करने में मदद करता है। 

कौन योग्य है:

  • सूक्ष्म और लघु उद्यम (MSEs) जिनके पास वैलिड UAM संख्या है।

बैंकों से किसी भी सरकारी ऋण का लाभ उठाने के लिए कुछ बुनियादी योग्यता का मानदंड

योजनाओं के लिए विशिष्ट योग्यता मानदंड के अलावा बैंक आमतौर पर निम्नलिखित मानदंडों के आधार पर ऋण प्रदान करते हैं जिन्हें पूरा करने की आवश्यकता होती है चाहे यह उल्लेख किया गया हो या नहीं। ये भिन्न हो सकते हैं लेकिन सबसे आम नीचे उल्लिखित हैं। आइए एक नजर डालते हैं उन पर:

व्यापार के प्रकार

आर्किटेक्ट, डॉक्टर, CAs आदि जैसे पेशेवरों सहित व्यापार, निर्माण और सेवा क्षेत्र में लगे सभी सूक्ष्म उद्यम।

आवेदक/लाभार्थी की आवासीय स्थिति

भारत के निवासी

आयु सीमा

आम तौर पर 18 साल से ऊपर।

25 साल से 66 साल के बीच

व्यवसाय की स्थिति

नए या मौजूदा उद्यम

आवश्यक दस्तावेज़:

आवेदन पत्र

यह बैंकों द्वारा प्रदान किया जाता है। फॉर्म भरा हुआ और हस्ताक्षरित होना चाहिए।

KYC दस्तावेज

बिजनेस एंटीटी का प्रमाण, पार्ट्नर्शिप डीड, इन्कॉर्परैशन या रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, शॉप ऐक्ट लाइसेंस, और स्थापना प्रमाण पत्र, आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन (AOA), प्रॉस्पेक्टस कॉपी, और संबंधित अधिकारियों द्वारा जारी कोई अन्य लाइसेंस।

PAN कार्ड 

डायरेक्टर/प्रोपराइटर्स/प्रमोटर्स/पार्टनर्स का 

बिजनेस एंटिटी का

फाइनैन्शल 

अनुमानित टर्नोवर और करंट ईयर का परफॉरमेंस

  • टैक्स ऑडिट रिपोर्ट, बैलेंस शीट, प्रॉफ़िट एण्ड लॉस रिपोर्ट, वैट रिटर्न, ऑडिट एंड प्रोविजनल फाइनेंशियल स्टेटमेंट, और प्रोजेक्ट रिपोर्ट, आदि।

निवास प्रमाण पत्र

  ● बिजनेस एंटिटी का

  ● डायरेक्टर/प्रोपराइटर्स/प्रमोटर्स/पार्टनर्स की

बैंक विवरण

पिछले 6 महीनों से

फोटो

आवेदक/सह-आवेदकों का पासपोर्ट आकार का फोटो

आवेदन कैसे करें?

छोटे पैमाने के व्यवसायों के लिए सरकारी लोन प्राप्त करने से आपको अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ेगा। चूंकि अधिकांश सरकारी लोन बैंकों और वित्तीय संस्थानों के माध्यम से दिए जाते हैं इसलिए आप लोन लेने के लिए सीधे उनसे संपर्क कर सकते हैं। आप बैंक या वित्तीय संस्थान की निकटतम शाखा में जा सकते हैं जो आपको लोन आवेदन प्रक्रिया के बारे मे बताएंगे।

कुछ ऋणदाता आपको अपनी संबंधित वेबसाइटों पर व्यवसाय लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की अनुमति भी देंगे। आप उनकी वेबसाइट पर जा सकते हैं, मौजूद आवेदन पत्र भर सकते हैं, संबंधित दस्तावेज अपलोड कर सकते हैं और जमा कर सकते हैं। एक बार जब आप प्रक्रिया पूरी कर लेते हैं और बैंक की ओर से वेरीफीकेशन हो जाता है, तो लोन की राशि सीधे आपके द्वारा आवेदन प्रक्रिया के दौरान प्रदान किए गए बैंक खाते में जमा कर दी जाएगी।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs): 

1. MSME क्या है?

MSME एक सूक्ष्म, लघु और मध्यम स्तर का मंत्रालय है, जिसे उनके वार्षिक टर्नोवर और व्यावसायिक उद्यमों में किए गए निवेश के आधार पर वर्गीकृत किया गया है।

2. बैंक द्वारा लोन स्वीकृत करने के लिए किन बिंदुओं पर विचार किया जाता है?

  • लोन लेने वाले की आयु
  • परियोजना में निवेश की गई पूंजी
  • प्रोजेक्ट नया है या मौजूदा
  • व्यवसाय का प्रकार
  • अनुमानित वार्षिक टर्नोवर 
  • व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर
  • मांगे गए लोन की राशि और परियोजना की लागत।

3. योजनाओं के तहत उपलब्ध न्यूनतम और अधिकतम लोन क्या हैं?

कोई न्यूनतम सीमा नहीं है।  हालांकि विभिन्न अन्य कारकों के आधार पर संबंधित योजनाओं के अनुसार अधिकतम सीमा निर्धारित की जाती है।

4. सरकारी सब्सिडी और सरकारी लोन में क्या अंतर है?

सब्सिडी एक प्रकार की सहायता है जो उधारकर्ता पर वित्तीय बोझ को कम करने के लिए दी जाती है। यह फंड देना या ब्याज दरों में कमी आदि के रूप में हो सकता है। इसमें सरकारी लोन भी शामिल हैं। हालांकि सरकारी लोन सरकार द्वारा लोन के रूप में स्वीकृत राशि है जिसे लोन लेने वाले द्वारा लोन की शर्तों के अनुसार चुकाया जाता है।

5. भारत सरकार द्वारा शुरू की गई लोन स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

लोन स्कीम के आवेदन के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन किया जा सकता है:

1. पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराएं

2. लॉगिन के लिए प्रमाणीकरण प्रक्रिया को पूरा करें

3. नियम और शर्तों से सहमत हों

4. पोर्टल में आवश्यक अन्य जानकारी दर्ज करें

5. आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें।

Related Posts

None

CGTMSE योजना के बारे में जाने


None

भारत में लघु उद्योग (SSI) और उनके रजिस्ट्रेशन के बारे में सब कुछ


None

कम निवेश के साथ छोटे स्तर के बिजनेस सुझाव