written by khatabook | July 13, 2021

भारत में लघु उद्योग (SSI) और उनके रजिस्ट्रेशन के बारे में सब कुछ

शुरुआत करने से पहले यहां कुछ अचंभित करने वाले नंबर दिए गए हैं। CII (कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज) के अनुसार लघु उद्योग पूरे घरेलू उत्पाद में 30% से अधिक का योगदान करते हैं। लघु उद्योग भारत के विनिर्माण उत्पादन का लगभग 33.4% हिस्सा बनाते हैं। सीधे भाव से कहा जाए तो इसमें निश्चित रूप से कुछ भी छोटा नहीं है। अब यदि आप छोटे पैमाने के साथ-साथ सूक्ष्म पैमाने के उद्योग पर विचार करने के इच्छुक हैं, तो स्केल थोड़ा आगे बढ़ जाता है। नवीनतम सर्वे के अनुसार इनमें से 55% इकाइयाँ ग्रामीण भारत में स्थित हैं।

लघु उद्योग की परिभाषा

स्वाभाविक रूप से कहा जाए तो पहले यह परिभाषित करना होगा कि लघु-स्तरीय उद्योग का गठन किन चीजों से होता है। यह जानना महत्वपूर्ण होगा कि सरकार लघु उद्योग को किस प्रकार से परिभाषित करती है:

जुलाई 2020 में जारी किए गए नए वर्गीकरण दिशानिर्देशों से पहले भारत सरकार विनिर्माण में लघु उद्योगों और सेवाओं में शामिल लघु उद्योगों को अलग-अलग वर्गीकृत करती थी। जुलाई 2020 में सरकार द्वारा एक आधिकारिक अधिसूचना के आधार पर इसको बदला गया।

अब नई अधिसूचना के अनुसार यदि मैन्युफैक्चरिंग प्लांट या मशीनरी में पूंजी निवेश 10 करोड़ और वार्षिक आय 50 करोड़ से अधिक नहीं है , तो उसे मैन्युफैक्चरिंग या सर्विस में शामिल  लघु उद्योगों को  लघु उद्योग के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा

लघु उद्योग रोजगार के स्तंभों में से एक के रूप में 

कुछ छोटे पैमाने के व्यवसाय श्रम प्रधान हो सकते हैं और कुछ अन्य मामलों में वे एक छोटे कार्यबल को नियुक्त करते हैं। बहरहाल, भारत में लघु उद्योग देश भर में एक बड़ी आबादी को रोजगार देते हैं। हाल के एक सर्वेक्षण के अनुसार लघु उद्योग लगभग 2.5 करोड़ लोगों को रोजगार देता है।

आप देखेंगे कि लघु उद्योग में से कई असंगठित क्षेत्र में स्थापित है। हालांकि लघु उद्योग के पंजीकरण के प्रावधान तो बनाए गए हैं, लेकिन यह पूरी तरह से इच्छा के ऊपर निर्भर करता है। यदि एंटरप्राइज एक निश्चित कर्मचारियों की संख्या के साथ मैन्युफैक्चरिंग व्यवसाय में है, तो मालिक के लिए फैक्ट्रीज ऐक्ट के तहत व्यवसाय को पंजीकृत करना अनिवार्य हो जाता है।

लघु उद्योग के प्रकार

किए गए कार्य की प्रकृति के आधार पर SSI को 3 प्रकार में वर्गीकृत किया गया है।

  • मैन्युफैक्चरिंग/असेंबली/प्रोसेसिंग इंडस्ट्री

इस प्रकार के उद्योग उपभोग के लिए तैयार माल का मैन्युफैक्चरिंग करते हैं या प्रोसेसिंग में आगे उपयोग किए जाते हैं। ऐसे लघु उद्योगों के कुछ उदाहरण पावर लूम, फूड प्रोसेसिंग यूनिट, इंजीनियरिंग इकाइयाँ हैं।

  • सहायक उद्योग

सहायक उद्योग फीडर उद्योग हैं, जो अन्य निर्माताओं के लिए कंपोनेंट्स का निर्माण करते हैं। ये निर्माता तब अंतिम उत्पाद को इकट्ठा या शामिल करते हैं। एक अच्छा उदाहरण एक छोटी इकाई का है,  जो विभिन्न आकारों के नट और बोल्ट बनाती है। आप ऐसे उद्योगों पर भी विचार कर सकते हैं, जो इलेक्ट्रॉनिक अवयव या इंजनों का निर्माण करते हैं।

  • सर्विस इंडस्ट्री 

सेवा-आधारित उद्योग किसी भी प्रकार के निर्माण में शामिल नहीं हैं। वे ज्यादातर बिक्री के बाद उत्पादों की मरम्मत, रखरखाव और देखभाल करते हैं।

कुछ और कम उपयोग की जाने वाली श्रेणियां का भी उल्लेख होना जरूरी हैं।

  • एक्स्पोर्ट यूनिट 

एक लघु उद्योग को एक निर्यात इकाई के रूप में माना जाता है। यदि वह अपने उत्पादन का 50% से अधिक निर्यात कर रहा है।

  • कुटीर उद्योग

इन छोटी इकाइयों में एक सम्पूर्ण सुविधा शामिल नहीं होती है और इन्हें मालिकों या संचालन करने वालों के घरों या रहने की जगहों से संचालित किया जाता है।

  • ग्राम उद्योग 

ग्रामीण क्षेत्रों में कई उद्योग जो संगठित क्षेत्र का हिस्सा नहीं हैं उन्हें ग्राम उद्योग के तहत माना जा सकता है। आमतौर पर ये उद्योग उत्पादन के लिए पूरी तरह से मानव श्रम पर निर्भर करते हैं।

लघु उद्योगों का रजिस्ट्रेशन

लघु उद्योगों का रजिस्ट्रेशन स्वैच्छिक यानि वॉलेंटरी है। यदि आपका व्यवसाय लघु उद्योग के रूप में पंजीकृत है, तो सरकार द्वारा योजनाओं, प्रोत्साहनों और सब्सिडी के रूप में लाभ प्राप्त कर सकते हैं। हम उन लाभों और सरकारी योजनाओं के बारे में थोड़ी देर बाद बात करेंगे।

आपके व्यवसाय को लघु उद्योग के रूप में पंजीकृत करने के लिए आपको सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSMEs) से संपर्क करना होगा।

हम निम्नलिखित अनुभागों में ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया से गुजरेंगे। यहाँ कई ऑनलाइन फेसिलेटर हैं, जो किसी भी उद्योग की पंजीकरण प्रक्रिया में मदद करने के लिए अपनी सेवाएं देते हैं।

ऑनलाइन पंजीकरण के लिए एकमात्र सरकारी पोर्टल निम्नलिखित वेबसाइट पर उपलब्ध है- https://udyamregistration.gov.in/Government-India/Ministry-MSME-registration.htm

वेबसाइट पर सरकारी अधिसूचना के अनुसार, कोई अन्य निजी संस्था पंजीकरण करने या पंजीकरण की प्रक्रिया से संबंधित किसी भी गतिविधि को करने के लिए अधिकृत नहीं है। कृपया इन ऑनलाइन फेसिलेटरसे संपर्क करने से पहले अधिसूचना को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

MSMEs के विस्तृत वर्गीकरण के लिए, मंत्रालय द्वारा https://udyamregistration.gov.in/docs/Udyam%20Registration%20Booklet.pdf पर एक संपूर्ण दस्तावेज उपलब्ध कराया गया है।

आप केवल स्व-घोषणा यानि की सेल्फ डिक्लेरेशन के आधार पर दस्तावेजों या प्रमाणों को पोस्ट किए बगैर उद्यम पंजीकरण पोर्टल (Udyam registration portal) का उपयोग करके अपने लघु व्यवसाय को पंजीकृत कर सकते हैं। उद्यम पोर्टल से पंजीकरण पर कोई फीस नहीं लिया जाता है।

उद्यम पोर्टल का उपयोग करके लघु उद्योग को पंजीकृत करने के चरण

  • विजिट करें- https://udyamregistration.gov.in/Government-India/Ministry-MSME-registration.htm
  • उस बटन पर क्लिक करें जिसमें लिखा है- नए उद्यमियों के लिए जो अभी तक MSME के रूप में पंजीकृत नहीं हैं या जो EM-II वाले हैं

जैसा कि नीचे दी गई छवि में हाइलाइट किया गया है:

  • अगले पेज पर आधार के अनुसार अपने आधार का विवरण यानी अपना आधार नंबर और अपना नाम दर्ज करें। याद रखें कि आपके द्वारा दर्ज किया गया आधार नंबर और नाम उस व्यक्ति का होना चाहिए जिसके पास बिजनेस यूनिट स्वामित्व हो, या मैनेजिंग पार्टनर या HUF की स्थिति में कर्ता का हो।

  • वेलिडेट या जेनरेट OTP पर क्लिक करें।
  • वेलीडेसन के बाद  निवेश पर PAN और GST से जुड़े विवरण स्वचालित रूप से सरकारी डेटाबेस से लिए जाएंगे।
  • आपको एक स्थायी पंजीकरण संख्या जारी की जाएगी।
  • प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरी होने के बाद पंजीकरण का सर्टिफिकेट ऑनलाइन जारी किया जाता है।

इस प्रकार जारी किया गया पंजीकरण प्रमाणपत्र समाप्त नहीं होता है। याद रखें यह प्रक्रिया पूरी तरह से नि:शुल्क और पेपरलेस है। साथ ही पंजीकरण प्रक्रिया के तहत जिला उद्योग केंद्र और चैंपियंस कंट्रोल रूम के अधिकारी आप से संपर्क कर सकते हैं।

यहां पहले से पंजीकृत उन व्यवसायों के लिए कुछ महत्वपूर्ण दिशानिर्देश दिए गए हैं  

  • सभी मौजूदा EM-II या UAM पंजीकृत व्यवसायों को जुलाई 2020 को या उसके बाद उद्यम पोर्टल के माध्यम से फिर से पंजीकरण करने की आवश्यकता होगी।
  • कोई भी व्यवसाय जो 30 जून 2020 से पहले पंजीकृत है और उद्यम के तहत पंजीकरण का नवीनीकरण (Renew) नहीं किया गया है, तो  वह केवल 31 मार्च 2021 तक वैध रहेगा।
  • MSME मंत्रालय के तहत पंजीकृत किसी भी व्यवसाय को उद्यम पंजीकरण के तहत पंजीकरण करना होगा।

SSI पंजीकरण के लाभ

आपके लघु उद्योग के पंजीकृत होने से अब आप विभिन्न योजनाओं, कर छूट और छूट का लाभ उठाने के योग्य हो जाते हैं।

बैंकिंग और वित्तीय संस्थान आपको छोटे व्यवसायों के लिए निर्दिष्ट ऋण योजनाओं के तहत ऋण प्रदान कर सकते हैं। आप सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न टेंडर में भाग लेने के लिए भी योग्य हो जाते हैं।

इनके कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

  • पंजीकृत लघु उद्योग खरीद या कच्चे माल के लिए कोलेटरल फ़्री ऑटोमैटिक लोन से लाभान्वित होते हैं और ऑपरेशनल लायबिलिटी को पूरा करते हैं या व्यवसाय को फिर से शुरू करते हैं।
  • भारत में बने उत्पादों में सुधार के लिए केंद्र सरकार की पहल आत्म निर्भर कार्यक्रम पर ध्यान देने के साथ स्थानीय व्यवसायों के लिए अवसर पैदा करने के लिए ग्लोबल टेंडर की अनुमति नहीं है।
  • इस तरह की कई योजनाएँ हैं जो सरकार लघु उद्योगों के समर्थन में चलाती हैं। संक्षिप्त विवरण के साथ इन योजनाओं को नीचे सूचीबद्ध किया गया है।

प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम और अन्य ऋण सहायता योजनाएं

  • PMEGP योजना (प्राइम मिनिस्टर एम्प्लॉयमेंट जेनरेशन प्रोग्राम) का उद्देश्य लघु उद्योगों के माध्यम से रोजगार के अवसर पैदा करना है। छोटे पैमाने के उद्योगों को धन की समस्या से निपटने में मदद के लिए CGTMSE और CLCSS जैसी विभिन्न क्रेडिट सपोर्ट योजनाएं चलाई जा रही हैं।
  • CGTMSE या सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट की स्थापना लघु उद्योगों को संस्थागत ऋण देने के लिए की गई है। अधिक जानने के लिए https://www.cgtmse.in/ पर जाएं।
  • CLCSS या क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना लघु उद्योगों में प्रौद्योगिकी के उन्नयन के लिए ऋण का एक विस्तार है, जो संस्थागत वित्त के लिए 1 करोड़ रुपये तक का 15% की अग्रिम पूंजी सब्सिडी प्रदान करती है। अधिक जानने के लिए https://clcss.dcmsme.gov.in/ पर जाएं।
  • खादी, ग्राम एवं जूट उद्योग का विकास

इस कार्यक्रम के तहत सूचीबद्ध विभिन्न योजनाएं जिनमें शामिल हैं,

  • MPDA (मार्केट प्रोमोशन एंड डेवलपमेंट स्कीम)

इस योजना के तहत सरकार खादी और ग्राम उद्योग उत्पादों के मार्केटिंग नेटवर्क का विस्तार करने में मदद करने के लिए मार्केटिंग कॉम्प्लेक्स/खादी प्लाजा स्थापित करने का खर्च उठाती है। अधिक जानने के लिए देखें- https://msme.gov.in/sites/default/files/Khadi_MPDA_Guidelines.pdf

  • SFURTI (रीवैंप स्कीम ऑफ फंड फॉर रीजेनरेशन ऑफ ट्रेडिशनल इंडस्ट्री)

एक ऐसी योजना जिसका उद्देश्य ग्रामीण उद्यमों में पारंपरिक उद्योग में श्रमिकों और कारीगरों के रोजगार को बनाए रखना है। अधिक जानने के लिए देखें- https://sfurti.msme.gov.in/SFURTI/Home.aspx

  • टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन एंड क्वालिटी सर्टिफिकेशन

इस कार्यक्रम के तहत चल रही कुछ योजनाएं इस प्रकार हैं:

  • ZED सर्टिफिकेट प्राप्त करने में लघु उद्योगों को वित्तीय सहायता।

इस योजना का उद्देश्य ज़ीरो डिफेक्ट और ज़ीरो इफेक्ट सिद्धांतों और प्रथाओं का पालन करते हुए ज़ीरो डिफेक्ट प्राप्त करते हुए मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा देना है।

  • ASPIRE (नवाचार, ग्रामीण उद्योग और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए एक योजना)

इस योजना का उद्देश्य अधिक रोजगार सृजित करना, बेरोजगारी कम करना और उद्यमिता संस्कृति को बढ़ावा देना है।

  • NMCP(राष्ट्रीय विनिर्माण प्रतिस्पर्धात्मकता कार्यक्रम)

यह योजना निम्न का समर्थन करती है:

1. टेक अपग्रेड के लिए पूंजी निवेश पर क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी

2. मार्केटिंग फ्रन्ट पर समर्थन

3. लिन मैन्युफैक्चरिंग प्रथाओं को बढ़ावा देना

4. लघु उद्योगों के लिए डिजाइन में सहायता करना 

5. क्वालिटी के अपग्रेडेशन के लिए सहायता

6. उद्यमशीलता और प्रबंधकीय विकास के लिए इनक्यूबेशन कार्यक्रम

SSI के लिए मार्केटिंग प्रोमोशन स्कीम

इस कार्यक्रम के तहत सूचीबद्ध कुछ योजनाएं हैं:

  • अंतर्राष्ट्रीय सहयोग

यह योजना टेक्नोलॉजी अपग्रेडेशन की खोज के लिए अन्य देशों में प्रतिनिधिमंडल की व्यवस्था करती है और विदेशी राज्यों में क्रेता-विक्रेता बैठक की सुविधा प्रदान करती है।

  • मार्केटिंग सहायता योजना

यह योजना विदेशी प्रदर्शनियों, अभियानों और अन्य पर्मोशनल गतिविधियों की व्यवस्था करने की अनुमति देती है।

  • P&MS (खरीद और मार्केटिंग सहायता योजना)

इस योजना का उद्देश्य घरेलू बाजारों में सुधार करना और नए बाजार तक पहुंच को बढ़ावा देना है।

उद्यमिता और कौशल विकास कार्यक्रम

इस कार्यक्रम के तहत शामिल विभिन्न योजनाओं में शामिल हैं:

  • ESDP (उद्यमिता कौशल विकास कार्यक्रम)

इस योजना का उद्देश्य उन युवाओं में उद्यमशीलता कौशल विकसित करना है जो लघु उद्योग स्थापित करने के इच्छुक हैं

  • ATI (प्रशिक्षण संस्थानों को सहायता)

यह योजना राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण संस्थानों को पूंजी अनुदान की सुविधा प्रदान करती है जो निरंतर कौशल विकास के लिए कौशल विकास और प्रशिक्षण कार्यशालाएं संचालित करते हैं।

  • इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट प्रोग्राम

इस कार्यक्रम के तहत एक योजना MSE-CDP (सूक्ष्म और लघु उद्यम क्लस्टर डेवलपमेंट) है। यह योजना सामान्य सुविधा केंद्रों के विकास के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है जिसका उपयोग अनुसंधान और विकास या परीक्षण के लिए किया जा सकता है, जिससे लघु उद्योगों के लिए उपलब्ध ईन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट को बढ़ाने में मदद मिलती है।

लघु और मध्यम उद्योगों के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली योजनाओं की पूरी सूची के लिए आप Infrastructure Development Programme विज़िट कर सकते हैं-

छोटे स्तर के उद्यमों के लिए प्रशासनिक बॉडी 

कई प्रशासनिक बॉडी हैं जो छोटे और मध्यम उद्योगों को बनाए रखने और प्रोत्साहित करने में मदद करने के लिए समय के साथ स्थापित होते हैं। ये सभी लघु और मध्यम स्तर के उद्यम मंत्रालय के तहत संचालित होते हैं। इनमें से कुछ सरकारी प्रशासनिक बॉडी यहां सूचीबद्ध हैं।

  • विकास आयुक्त कार्यालय (MSME)
  • खादी ग्राम उद्योग आयोग (KVIC)
  • कॉयर बोर्ड(Coir Board)
  • राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड (NSIC)
  • राष्ट्रीय सूक्ष्म, लघु और मछोध्यम उद्यम संस्थान (NIMSME)

निष्कर्ष

मेक इन इंडिया जैसी पहल के साथ, व्यापार करने में आसानी में सुधार हुआ है। सबसे अच्छी बात यह है कि आपको अपने व्यवसाय को ऑनलाइन पंजीकृत करने के लिए एक पैसा भी नहीं देना पड़ता है। इसके अलावा, यह अब एक पेपरलेस प्रक्रिया है। भारत में अनेक प्रकार के लघु उद्योग हैं। हमें उम्मीद है कि इस लेख के माध्यम से हम लघु उद्योगों की सूची और पंजीकरण के तरीकों से अवगत कराने में सफल हुए हैं। इस लेख में उद्योगों के लिए उपलब्ध विभिन्न योजनाओं पर भी प्रकाश डाला गया है। आप सभी को सफलता की कामना!

सुझाव

  • छोटे या मध्यम स्तर के उद्यम को पंजीकृत करने के लिए आपको कोई पैसा देने की आवश्यकता नहीं है।
  • आपके लघु या मध्यम उद्योग का पंजीकरण अब ऑनलाइन और पूरी तरह से कागज रहित है।
  • छोटे और मझोले उद्योगों के लिए या तो पूंजी डालने या टेक्नॉलजी अपग्रेड से लेकर यहां तक मार्केटिंग सपोर्ट तक का लाभ उठाने के लिए कई योजनाएं हैं।
  • याद रखें एक लघु उद्योग का पंजीकरण स्वैच्छिक है, लेकिन यदि आपका व्यवसाय एक मैन्युफैक्चरिंग सेटअप में निर्धारित न्यूनतम संख्या में लोगों को नियुक्त करता है, तो आप अपने उद्यम को फैक्ट्री ऐक्ट के तहत पंजीकृत करने के लिए उत्तरदायी हैं।
  • ध्यान दें कि जुलाई 2020 से लघु और मध्यम उद्योगों का वर्गीकरण बदल गया है।
  • यदि आप GST के दायरे में हैं, तो अपने GST स्लेट को साफ रखने से आपको MSME के लिए कई सरकारी योजनाओं में से किसी से सहायता प्राप्त करने में मदद मिलेगी।
  • युवाओं पर आधारित सरकारी प्रशिक्षण कार्यक्रमों का लाभ उठाएं जो लघु और मध्यम उद्योगों में स्टार्टअप करने के इच्छुक हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):

लघु उद्योग क्या हैं?

भारत में लघु उद्योग जैसा कि MSME मंत्रालय द्वारा वर्णित है, ऐसे व्यवसाय हैं, जो या तो मैन्युफैक्चरिंग या सर्विस में शामिल हैं और मशीनरी और उपकरणों में निवेश  10 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है और जिनका वार्षिक आय 50 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

क्या सूक्ष्म और लघु उद्योग एक ही हैं?

कोई भी सूक्ष्म और लघु उद्योग मंत्रालय द्वारा परिभाषित किए जाने के संदर्भ में समान नहीं हैं, लेकिन सामान्य अर्थ में उन्हें एक साथ माना जा सकता है।

क्या लघु उद्योग और मध्यम उद्योग को एक साथ माना जाता है?

हालांकि वे राजस्व और निवेश पूंजी के मामले में भिन्न हैं, सूक्ष्म, लघु और मध्यम स्तर के उद्यमों को उसी तरह से माना जाता है जहां तक ​​​​सरकारी नीतियां और योजनाएं चलती हैं।

क्या सेवाओं को लघु उद्योगों के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है?

हाँ, सेवा-आधारित व्यवसाय को मैन्युफैक्चरिंग की तरह ही लघु उद्योग माना जा सकता है। नए वर्गीकरण कोड के अनुसार दोनों के बीच कोई अंतर नहीं है।

मैं अपने लघु व्यवसाय का पंजीकरण कैसे करूँ?

किसी भी छोटे पैमाने के व्यवसाय को पंजीकृत करने का एकमात्र तरीका उद्यम (Udyam) पोर्टल का उपयोग करना है।

क्या मैं एक छोटे पैमाने के व्यवसाय को पंजीकृत करने के लिए एक निजी संस्था के माध्यम से जा सकता हूँ?

सरकार दृढ़ निश्चय के साथ कहती है कि सूक्ष्म, लघु या मध्यम स्तर के व्यवसाय को पंजीकृत करने का एकमात्र अधिकार सरकार का है। यह उद्यम पोर्टल के माध्यम से किया जाता है।

एक छोटे पैमाने के व्यवसाय को पंजीकृत करने की लागत क्या है?

कुछ नहीं। हां, किसी भी सूक्ष्म, लघु या मध्यम स्तर के व्यवसाय को पंजीकृत करने की लागत शून्य या ज़ीरो है।

मुझे अपने रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट को कितनी बार नवीनीकृत (renew) करना चाहिए?

रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट एक आजीवन दस्तावेज है और यह तब तक वैध है जब तक व्यवसाय चलता है।

मैं अपने लघु व्यवसाय को ऑनलाइन कहां रजिस्टर कर सकता हूँ?

आप अपने लघु व्यवसाय को उद्यम पोर्टल (Udyam portal) के माध्यम से ऑनलाइन रजिस्टर कर सकते हैं।

Related Posts

None

भारत में शेफ कैसे बनें


None

भारत में बिजनेस लाइसेंस कैसे प्राप्त करें?


None

मैं भारत में ड्रॉपशीपिंग व्यवसाय कैसे शुरू करूँ?


None

केरल में टॉप 10 सफल और लाभदायक छोटे व्यवसाय विचार


None

तमिलनाडु में 9 सर्वश्रेष्ठ छोटे और लाभदायक व्यावसायिक विचार


None

CGTMSE योजना के बारे में जाने


None

कम निवेश के साथ छोटे स्तर के बिजनेस सुझाव


None

भारत में लघु व्यवसाय के लिए शीर्ष पाँच सरकारी लोन स्कीम


None

भारत में ग्रामीण क्षेत्रों, गांवों, छोटे शहरों के लिए सर्वश्रेष्ठ लघु व्यवसाय विचार