written by Sourish | June 9, 2021

व्यापार के लिए टीडीएस

प्रस्तावना

टीडीएस कर का एक रूप है, जो भारत सरकार द्वारा एकत्र किया जाता है और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) द्वारा प्रबंधित किया जाता है। आयकर अधिनियम के अनुसार, नौकरी या सर्विस के लिए भुगतान करने वाले किसी भी व्यक्ति को टीडीएस काटना आवश्यक है। यदि भुगतान आयकर विभाग द्वारा निर्धारित टीडीएस कटौती सीमा को पार करता है।

वह व्यक्ति या कंपनी जो टैक्स काटता है, उसे डिटेक्टर कहा जाता है और जिस कंपनी या व्यक्ति से टीडीएस काटा जाता है, उसे डिडक्टी कहा जाता है। डिटेक्टर को सरकार को कर का भुगतान करना आवश्यक है और डिडक्टी फॉर्म 26AS के आधार पर कर कटौती का हकदार होगा।

व्यापार के लिए टीडीएस

  • पिछले वर्ष के लिए किसी व्यक्ति की कुल आय उचित निर्धारण वर्ष में टैक्सेबल है। हालांकि, पिछले वर्ष में ही टीडीएस के माध्यम से निर्धारिती(Assesee) से आयकर की वसूली की जाती है। 
  • भुगतानकर्ता निर्धारिती की आय से कर की कटौती करने और निर्धारित समय के भीतर इसे सरकार को जमा करने के लिए जिम्मेदार है। यदि वह कर नहीं काटता है या उसे काटने के बाद, पूरे या कर के किसी भी हिस्से को जमा नहीं करता है, तो वह इस तरह के डिफॉल्ट के संबंध में ब्याज, पेनाल्टी, शुल्क के लिए जिम्मेदार होगा।
  • टीडीएस केवल एक धारा के तहत चार्जेबल होना चाहिए। यदि कर एक से अधिक अनुभागों के अंतर्गत कटौती योग्य हो जाता है, तो उस अनुभाग के अंतर्गत कर की कटौती की जाएगी जिसका भुगतान की प्रकृति से बेहतर संबंध है।
  • टीडीएस कब काटना है: सामान्य तौर पर, वास्तविक भुगतान के समय टीडीएस की कटौती की जानी चाहिए, लेकिन कुछ अनुभागों में  या तो डिडक्टी को राशि क्रेडिट करते समय या वास्तविक भुगतान के समय जो भी पहले हो, टीडीएस काटा जाता है।

बिजनेस प्रमोशन खर्चों पर टीडीएस

इनकम टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल (Income Tax Appellate Tribunal) के मुताबिक, बिजनेस प्रमोशन के खर्च पर टीडीएस लागू नहीं होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि आईआरएस किसी व्यवसाय को बढ़ावा देने की लागत को व्यावसायिक लागत मानता है,जब तक यह सामान्य और आवश्यक है। हालांकि प्रमोशन खर्चों को राइट ऑफ करने के लिए कंपनियां केवल वस्तुओं और सेवाओं के प्रमोशन से जुड़ी लागतों में कटौती कर सकती हैं, न कि उनके बाजार मूल्य से।

टीडीएस काटने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें

1.भुगतान करने वाले व्यक्ति के पास एक वैध पैन नंबर होना चाहिए और उसके पास आय प्राप्त करने वाले व्यक्ति का पैन नंबर भी होना चाहिए। यदि प्राप्तकर्ता (निवासी या अनिवासी) भुगतानकर्ता को अपना पैन प्रस्तुत नहीं करता है, तो कर की कटौती निम्नलिखित से उच्चतम दर पर की जाएगी।

  • वर्तमान कर की दर 
  • आयकर अधिनियम के अनुसार दर
  • 20% की दर से

2. टीडीएस केवल तभी कटौती योग्य है जब अनुभाग इसके लिए प्रावधान करता है। इसलिए, यदि कोई विशिष्ट धारा लागू नहीं है, तो कोई कर कटौती नहीं होगी।

3. यदि आय को धारा 10 के तहत छूट दी गई है, तो कोई टीडीएस नहीं काटा जाएगा और और इनकम टैक्स रिटर्न फाइल की भी आवश्यकता नहीं है। हालांकि, यदि आय में छूट है लेकिन रिटर्न फाइल  करना आवश्यक है या यदि छूट वापस ले ली गई है, तो यह लाभ उपलब्ध नहीं होगी।

4. सरकार, केंद्रीय अधिनियम के तहत स्थापित निगम, आरबीआई, या म्यूचुअल फंड को किसी भी भुगतान के लिए कोई टीडीएस कटौती नहीं की जाएगी।

5. यदि वेतन आय पर कर शून्य है तो कोई कर कटौती योग्य नहीं है।

6. टीडीएस की दर आयकर अधिनियम, 1961 में प्रदान की गई उचित अनुभाग के अनुसार ली जानी चाहिए।

7. विभिन्न चीज जैसे वेतन, ब्याज, कमीशन, लॉटरी विजेता, लाभांश, आदि, सभी की अलग-अलग टीडीएस दरें हैं।

कुछ मुख्य टीडीएस कटौती हैं:

1. धारा 192 - वेतन पर टीडीएस: वेतन पर टीडीएस संबंधित वर्ष के लिए आयकर स्लैब की दर से काटा जाता है। एंप्लॉयर को कर्मचारी से कटौतियों/छूटों/हानि के समायोजन (सेटऑफ) के दावे के संबंध में साक्ष्य प्राप्त करना चाहिए।

2. धारा 193 – प्रतिभूतियों (Securities) पर ब्याज: आयकर अधिनियम की धारा 193 के अनुसार, प्रतिभूतियों के ब्याज पर टीडीएस 10% की दर से काटा जाएगा। पब्लिक कंपनी द्वारा डिबेंचर जारी किए जाने पर निवासी व्यक्ति/एचयूएफ को भुगतान किए गए डिबेंचर पर ब्याज के मामले में कोई टीडीएस नहीं काटा जाएगा अगर ब्याज का भुगतान अकाउंट पेयी चेक द्वारा किया जाता है और ब्याज राशि 5000 रुपये से अधिक नहीं होती है।

3. धारा 194 - घरेलू कंपनी द्वारा भुगतान किया गया लाभांश (Dividends): घरेलू कंपनी द्वारा भुगतान किए गए लाभांश पर टीडीएस 10% की दर से काटा जाता है। यदि प्राप्तकर्ता एक व्यक्तिगत शेयरधारक है, और भुगतान नकद में नहीं किया गया है और लाभांश की राशि 5000 रुपये से अधिक नहीं है, तो कोई टीडीएस नहीं काटा जाएगा।

4. धारा 194 B - लॉटरी ,क्रॉसवर्ड पहेली या कार्ड गेम आदि से जीत: लॉटरी , क्रॉसवर्ड पहेली या कार्ड गेम से जीत पर टीडीएस 30% की  फ्लैट दर से काटा जाएगा।

5. धारा 194BB -घुड़दौड़ से जीत: घुड़दौड़ से जीतने पर टीडीएस 30% की दर से काटा जाएगा। धारा 194BB के तहत टीडीएस कटौती के लिए न्यूनतम राशि 10000 रुपये है।

6. धारा 194EE - नेशनल सेविंग स्कीम की निकासी पर टीडीएस: अगर एनएसएस से निकासी 2500 रुपये की सीमा को पार करता हैं तो टीडीएस 20% से कटौती की जानी चाहिए। 

7. धारा 194I – किराए (Rent) पर टीडीएस: टीडीएस प्लांट और मशीनरी पर 2% और भूमि और भवन पर 10% से लागू होता है यदि राशि प्रति वर्ष 2,40,000 रुपये से अधिक है। 

टीडीएस रिटर्न जमा करना और दाखिल करना

  • टीडीएस जमा करने की समय अवधि: नियम 30 के अनुसार, भुगतान उस महीने के अंतिम दिन से 7 दिनों के भीतर होना चाहिए जिसमें कटौती की जाती है। कुछ मामलों में, निर्धारण अधिकारी(Assessing Officer) तिमाही आधार पर भुगतान की अनुमति दे सकता है।
  • टीडीएस का त्रैमासिक विवरण(Quarterly statement) दाखिल करना: टीडीएस काटने वाले प्रत्येक व्यक्ति को स्रोत पर काटे गए कर का एक त्रैमासिक विवरण जमा करना होता है। विवरण संबंधित तिमाही के बाद महीने की 31 तारीख तक जमा किया जाना चाहिए लेकिन मार्च को समाप्त तिमाही के लिए विवरण 31 मई तक जमा किया जा सकता है।
  • टैक्स डिडक्शन अकाउंट नंबर: टीडीएस काटने वाले प्रत्येक व्यक्ति को टैक्स डिडक्शन अकाउंट नंबर (TAN) के आवंटन के लिए आवेदन करना होता है और आवेदन ,फॉर्म नंबर 49B में उस महीने के अंत से एक महीने के भीतर जिसमें पहली बार कर काटा गया था, देना होता है।  
  • टैक्स सर्टिफिकेट : फॉर्म 16 - वेतन पाने वालों के लिए ,फॉर्म 16A- किसी अन्य स्रोत से आय प्राप्त करने वाले व्यक्तियों के लिए और फॉर्म 16B- किसी भी अचल संपत्ति की बिक्री के लिए ।

निष्कर्ष

टीडीएस कर वसूली का सिर्फ एक तरीका है न कि अंतिम कर है, इसलिए भुगतानकर्ता द्वारा उचित दर पर टीडीएस की कटौती के बाद भी कुछ कर अभी भी देय हो सकता है। आपको लागू टैक्स पेबल की गणना करने और उसके अनुसार भुगतान करने की आवश्यकता है।यदि अतिरिक्त टीडीएस काट लिया जाता है, और आपकी कोई अन्य टैक्स लायबिलिटी नहीं है, तो आप रिफंड प्राप्त करने के लिए क्लेम फाइल कर सकते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न(FAQS)

1. क्या प्राप्तकर्ता भुगतानकर्ता से टीडीएस नहीं काटने और टीडीएस काटे बिना राशि का भुगतान करने का अनुरोध कर सकता है?

एक प्राप्तकर्ता भुगतानकर्ता से टीडीएस की कटौती न करने के लिए कह सकता है, लेकिन भुगतानकर्ता को फॉर्म नंबर 15G /15H में नोटिस देना होगा जो यह बताता है कि जिस आय पर टीडीएस काटा जाना है, उसे शामिल करने के बाद वर्ष की उनकी अनुमानित कुल आय शून्य है।

फॉर्म नंबर 15G व्यक्ति (कंपनी या फर्म को छोड़कर) के लिए है और फॉर्म नंबर 15H, 60 से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों के लिए है।

2. किन शर्तों के तहत, यदि कोई कटौतीकर्ता टीडीएस नहीं काटता है या कटौती के बाद उसे सरकार के खाते में जमा करने में विफल रहता है, तो उसे डिफ़ॉल्ट निर्धारिती (Assessee in default) के रूप में नहीं माना जाएगा?

निम्नलिखित शर्तें हैं:

  • धारा 139 के तहत अपनी आय की विवरणी;
  • आय की ऐसी विवरणी में आय की गणना के लिए ऐसी राशि को ध्यान में रखा गया है; तथा
  • अपने रिटर्न में घोषित वेतन पर काटे गए टीडीएस का भुगतान किया
  • कटौतीकर्ता ने एक चार्टर्ड एकाउंटेंट से फॉर्म संख्या 26A में इसका सर्टिफिकेट जमा किया।

3. मैं प्राप्तकर्ता द्वारा अपनी आय से टीडीएस कटौती कैसे जान सकता हूं?

भुगतानकर्ता द्वारा टीडीएस कटौती जानने के लिए, आप भुगतानकर्ता से उसके द्वारा काटे गए टीडीएस के लिए आपको टीडीएस सर्टिफिकेट जारी करने के लिए कह सकते हैं। इसके अलावा, आप www.incometaxindia.gov.in पर उपलब्ध कराए गए " View Your Tax Credit " अनुभाग का उपयोग कर सकते हैं

4. मुझे टीडीएस प्रमाणपत्र के साथ क्या करना चाहिए?

वेबसाइट (www.tdscpc.gov.in) से टीडीएस सर्टिफिकेट (फॉर्म 16/16A/27D) को यूनिक टीडीएस सर्टिफिकेट नंबर के साथ डाउनलोड करें और इसे देय तिथि से पहले करदाताओं को जमा करें।

5. अगर फॉर्म 26AS में टीडीएस क्रेडिट नहीं दिख रहा है तो मुझे क्या करना चाहिए ?

फॉर्म 26AS में टीडीएस क्रेडिट नही दिखने के भिन्न कारण हो सकते है जैसे भुगतानकर्ता द्वारा टीडीएस विवरण दाखिल न करना, भुगतानकर्ता द्वारा दायर टीडीएस विवरण में कटौती करने वाले का गलत पैन प्रदान करना। इस प्रकार, प्राप्तकर्ता को फॉर्म 26AS में नहीं दिखाए गए टीडीएस क्रेडिट के उचित कारणों को प्राप्त करने के लिए भुगतानकर्ता से संपर्क करना होगा।

Related Posts

None

ग्रेच्युटी कैलकुलेटर- देय ग्रेच्युटी को ऑनलाइन कैसे कैलकुलेट करें?


None

व्यक्तियों के लिए वेतन से आय पर आयकर कैसे बचाएं


None

आईटीआर (आयकर रिटर्न) ऑनलाइन कैसे फाइल करें- वित्त वर्ष 2020-21 के लिए आयकर ई-फाइलिंग गाइड