Home जीएसटी जीएसटी वार्षिक रिटर्न दाखिल करने के लिए मार्गदर्शिका (जीएसटीआर -9)

जीएसटी वार्षिक रिटर्न दाखिल करने के लिए मार्गदर्शिका (जीएसटीआर -9)

by Abhimanyu Dhamija

जीएसटीआर 9 क्या है?

जीएसटीआर 9 को एक पंजीकृत करदाता को हर साल एक बार फाइल करने की आवश्यकता होती है। इस स्टेटमेन्ट में उन सभी सप्लाई की माहिती का उल्लेख किया जाता है, जो संबंधित करदाता को विविध कर प्रमुखों (सीजीएसटी, एसजीएसटी और आईजीएसटी) के तहत वर्ष भर में प्राप्त हुई हैं। इसमें टर्नओवर की माहिती और ऑडिट भी शामिल हैं।

सरकार ने GSTR 9C ऑडिट फॉर्म भी पेश किया है। जिस करदाताओं के पास 2 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार है, उन्हें यह जीएसटी वार्षिक रिटर्न दाखिल करना होता है। यह वार्षिक रिटर्न के बीच सामंजस्य का एक स्टेटमेन्ट है जिसे करदाता ने जीएसटीआर 9 और उसके वार्षिक ओटिड में दर्ज किया है।

भारत के वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में 37 वीं बैठक 20 सितंबर, 2019 को गोवा में आयोजित किया गया था। इस बैठक में, परिषद ने प्रस्ताव दिया कि 2 करोड़ रुपये तक के कारोबार (वित्तीय वर्ष 2017-18 और 2018-19 के लिए)के लिए GSTR 9 फाइल नहीं करने का विकल्प चुन सकते हैं। Central Board of Indirect Taxes and Customs (CBIC) तारीख से संबंधित एक अधिसूचना जारी करेंगे जब से इस GST वार्षिक रिटर्न को दाखिल करना बंद कर सकते हैं।

परिषद ने यह भी निर्णय लिया कि स्टेटमेन्ट को दर्ज करने का अंतिम दिन अगले वर्ष की 31 दिसंबर है। इसलिए, यदि आप इसे 2019 के लिए दाखिल कर रहे हैं, तो आपको इसे 31 दिसंबर, 2020 तक कर देना होगा।

यदि आप निर्धारित समय के भीतर जीएसटी वार्षिक रिटर्न दाखिल करने में विफल रहते हैं, तो आपको पेनल्टी का भुगतान करना होगा जिसमें सीजीएसटी के तहत 100 रुपये / दिन और एसजीएसटी के तहत 100 रुपये / दिन। जुर्माने की ऊपरी सीमा 5000 रुपये है। आपको बकाया कर भुगतान पर 18% ब्याज भी देना होगा।

जीएसटीआर 9 दाखिल करने की आवश्यकता किसे है?

व्यवसायी के रूप में, आपको निम्नलिखित नियम और शर्तों को पूरा करते है तो आपको GSTR 9 दाखिल करने की आवश्यकता होगी :

• आपने खुद को GST के तहत करदाता के रूप में पंजीकृत किया है, और आपके पास 15 अंकों का GSTIN है या आप अनिवासी करदाता हैं। जिन व्यवसायियों के पास युनिक आइडेंटिफीकेशन नंबर (UIN) है उन्हें यह रिटर्न दाखिल करने की आवश्यकता नहीं है।
• आपके व्यवसाय का कारोबार 20 लाख रुपये से अधिक है।
• आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपने चालान स्तर पर पूरे वर्ष में किए गए लेन-देन से संबंधित सभी प्रासंगिक बातो को ठीक से नोट किया है। इंट्रा-स्टेट, इंटर-स्टेट, बी 2 बी, बी 2 सी – ये सभी लेनदेन इसके दायरे में आते हैं। यदि आपने विभिन्न राज्यों में अपने कई व्यावसायिक स्थानों के बीच स्टॉक हस्तांतरित किया है या आपका लेन-देन छूट वाली वस्तुओं से संबंधित है, तो आपको उनकी माहिती को भी एकत्र करने की आवश्यकता है।
GSTR 9 फोर्म के प्रकार :

फार्म नंबर द्वारा भरा जाएगा
GSTR9 : करदाताओं जो GSTR-1
और GSTR-3 बी फाइल करते हैं ।
GSTR-9 A : करदाताओं जिसने जीएसटी संरचना योजना को चुना है
GSTR-9 B : ई-कॉमर्स व्यवसाय जो GSTR 8 फाइल करते हैं
GSTR-9 C : करदाताओं जिसका टर्नओवर 2 करोड़ रुपए से अधिक है।

GSTR 9 कैसे फाइल करें :

जब आप फाइल करते हैं, तो आपको कई प्रकार की जानकारी प्रदान करनी होती है जैसे की अपनी आवक और जावक सप्लाई, इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC), कर भुगतान और एक साल के सभी करो के बारे में जानकारी प्रदान करनी होती हैं।

इस फार्म के छह भाग हैं। अब हम इस बात पर ध्यान देंगे कि आपको किस हिस्से में कोन सी माहिती भरने की जरूरत है।

भाग 1 :
इस भाग में, आपको मूल जानकारी दर्ज करनी होगी – जैसे कि विचाराधीन वित्तीय वर्ष, आपका जीएसटीआईएन, कानूनी नाम और व्यापार नाम (यदि आपके पास कोई है)।

भाग 2 :
यहां, आपको पूरे वित्तीय वर्ष के दौरान आपके द्वारा घोषित आवक और जावक सप्लाई से संबंधित माहिती प्रदान करना है। इस भाग के दो भाग हैं – 4 और 5.

धारा 4 में, आपको बी 2 बी और बी 2 सी सप्लाई की माहिती दर्ज करनी होगी, कर के भुगतान पर स्पेश्यल इकोनोमिक झोन (एसईजेड) सप्लाई, आवक सप्लाई जो रिवर्स चार्ज टैक्स को बढ़ावा देती हैं, निर्यात, डेबिट या क्रेडिट नोट उपर्युक्त लेनदेन के लिए जारी किए गए।

धारा 5 में, आपको छूट प्राप्त बिक्री सप्लाई, गैर-जीएसटी सप्लाई, कर के भुगतान के बिना एसईजेड को सप्लाई, बाहरी सप्लाई जो रिवर्स चार्ज कर, डेबिट या क्रेडिट नोट जो की उपर्युक्त लेनदेन के लिए जारी किए गए हो उसकी माहिती प्रदान करना आवश्यक है।

भाग 3
इस भाग में, आपको वित्तीय वर्ष के दौरान घोषित की गई आईटीसी की माहिती प्रस्तुत करना होगा। इस भाग के तीन भाग हैं – 6, 7 और 8।

भाग 6 में, आपको आईटीसी की माहिती प्रदान करना है जो आपने वित्तीय वर्ष में आवक सप्लाई पर लिया है, जैसे कि बी 2 बी, बी 2 सी, आयात, इत्यादि। इनपुट, इनपुट सेवाओं और पूंजीगत सामानों की माहिती भी आवश्यक है।

भाग 7 में, आपको रिवर्स आईटीसी की माहिती प्रदान करना है, जैसे कि छूट की सप्लाई, गैर-व्यावसायिक उपयोग आदि जैसे कारणों के लिए, आपको आईटीसी का माहिती भी देनी होगी।

भाग 8 में, आपको आईटीसी से संबंधित अन्य जानकारी प्रदान करनी होगी। GSTR-2A के अनुसार ITC ऑटो-पोप्युलेटेड है। आपको आईटीसी से संबंधित माहिती प्रस्तुत करनी होगी जिसे आपने बी 2 बी आवक सप्लाई और पुनः प्राप्त आईटीसी पर प्राप्त किया है। आपको उपलब्ध आईटीसी के बारे में भी जानकारी देनी होगी, जिसका लाभ नहीं लिया है।

भाग 4 :
इस भाग में, आपको उस कर की माहिती दर्ज करनी होगी जो आपने भुगतान की है और वित्तीय वर्ष में आपने जो रिटर्न दाखिल किया है। आपको देय कर के ब्रेक-अप को प्रस्तुत करने की आवश्यकता है, जो कर आपने नकद में या फीर आईटीसी के माध्यम से भुगतान किया है।

भाग 5 :
इस भाग में, आपको उन लेन-देन की माहिती प्रदान करनी होगी, जो पिछले वित्तीय वर्ष से संबंधित हों, लेकिन जो आपने चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-सितंबर के रिटर्न में घोषित किए हो, या पिछले वित्तीय वर्ष के जीएसटी वार्षिक रिटर्न भरने की तारीख – इनमें से जो भी पहले हो।

भाग 6 :
GSTR 9 के अंतिम भाग में, आपको अब तक प्रदान नहीं की गई जानकारी प्रस्तुत करनी होगी – जैसे कि रिफंड (रिफंड का दावा, स्वीकृत, अस्वीकृत और लंबित सहित)। आपको मांगों के लिए समान माहिती प्रदान करनी होगी। आपको आवक और जावक सप्लाई, और देर से शुल्क (यदि कोई हो) एचएसएन- मुताबिक (Harmonized System of Nomenclature) की माहिती दर्ज करने की आवश्यकता है।

जीएसटी ऑनलाइन दर्ज करने के लिए, https://www.gst.gov.in/ पर जाएं और वार्षिक रिटर्न चुनें। फॉर्म डाउनलोड करें GSTR-1, GSTR-3B और GSTR 9 और फिर, प्रासंगिक कर की माहिती दर्ज करें। ड्राफ्ट फॉर्म GSTR-9 का पूर्वावलोकन करें, देनदारियों की गणना करें और देर से शुल्क (लेट फी) का भुगतान करें (यदि लागू हो तो)।

Related Posts

Leave a Comment