written by khatabook | July 1, 2021

महत्वपूर्ण जीएसटी तिथियां– जीएसटी कैलेंडर 2021

गुड्ज़ एण्ड सर्विस टैक्स (जीएसटी) कैलेंडर सभी जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए महत्वपूर्ण तिथियों की सूची है जिसमें जीएसटी भुगतान की देय तिथियां शामिल हैं। यह व्यवसायों और पेशेवरों के लिए समय से पहले तैयार होने में बहुत मददगार साबित होता है। भारत में व्यवसायों को सरकार की आवश्यकताओं के अनुसार, कर का भुगतान करना आवश्यक है। कर का भुगतान करने के सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक सरकार की समय सीमा का पालन करना है। अनुपालन नहीं करने से दंड और/या कानूनी कारवाई भी हो सकती हैं।

जीएसटी कैलेंडर क्या है और इसका महत्व क्या है?

जीएसटी कैलेंडर सभी जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए महत्वपूर्ण तिथियों की सूची है। किसी भी ब्याज या देर से दंड का भुगतान करने से बचने के लिए प्रत्येक करदाता को जीएसटी रिटर्न और निर्धारित फॉर्म को समय पर पूरा करने के लिए जीएसटी तिथियों के बारे में पता होना चाहिए। अकाउंटेंट को जीएसटी की देय तिथियों के बारे में पता होना चाहिए, ताकि वे अपना डेटा तैयार कर सकें और जीएसटीआर 1 की अंतिम तिथि पर रिटर्न दाखिल करने की प्रतीक्षा न करें।

जीएसटी रिटर्न फाइलिंग का अवलोकन

नियमित करदाता (रेगुलर टॅक्सपेयर )

GST के तहत पंजीकृत नियमित करदाताओं को GSTR-1 फॉर्म में GST रिटर्न दाखिल करना होता है, जो एक सेल्स रिटर्न है, जिसमें सभी आउटवार्ड सप्लाई का विवरण शामिल होता है। GSTR-3B सभी इनवार्ड यानी खरीद और आउटवार्ड यानि बिक्री का एक समेकित सारांश है, यानी हर महीने की गई बिक्री यदि वित्तीय वर्ष के दौरान उनका वार्षिक कुल कारोबार 5 करोड़ रुपये से अधिक है (दिसंबर 2020 तक सीमा 1.5 करोड़ रुपये थी।)।

  • वे करदाता जिनका वार्षिक कुल कारोबार उक्त सीमा से कम है, वे दिसंबर 2020 तक मासिक GSTR-3B फाइल करना जारी रखते हुए तिमाही GSTR-1 फाइलिंग का चयन कर सकते हैं।
  • करदाता जो वार्षिक बिक्री में रु.5 करोड़ तक कमाते हैं, वे 2021 की पहली तिमाही में शुरू होने वाली तिमाही रिटर्न मासिक भुगतान (QRMP) योजना का विकल्प चुन सकते हैं। मासिक अनुमानित कर भुगतान करते समय, वे GSTR-1 और GSTR 3 B (तिमाही में एक बार) दोनों दाखिल कर सकते हैं।
  • GSTR-1 के त्रैमासिक फाइलरों के लिए, एक इन्वाइस फर्निश की फसिलिटी (IFF) को उनके व्यवसाय से व्यवसाय (B2B) की आउटवार्ड सप्लाई के दस्तावेज़ अपलोड करने के लिए भी सुलभ बनाया गया है। इस बीच, करदाता अपने GSTR-3B में अपने इनपुट टैक्स क्रेडिट का दावा करने के लिए GSTR-2A और GSTR-2B जैसे ऑटो-ड्राफ्ट फॉर्म का उपयोग कर सकते हैं।

कॉम्पोजीशन टैक्सेबल व्यक्ति

कंपोजिशन स्कीम के तहत पंजीकृत व्यक्ति को CMP-08 फॉर्म का उपयोग करके तिमाही कर का भुगतान करना होगा, जिसमें बुनियादी जानकारी होती है। साथ ही, उसे वित्त वर्ष 2019-20 के बाद  लिए हर साल 30 अप्रैल तक GSTR-4 का नया संस्करण दाखिल करना होगा। वित्त वर्ष 2018-19 तक, कंपोजीशन स्कीम के तहत पंजीकृत करदाता को फॉर्म GTSR-4 में तिमाही रिटर्न और GSTR-9A के रूप में वार्षिक रिटर्न दाखिल करना होता था।

सितंबर 2021 तक जीएसटी रिटर्न की देय तिथियां

जीएसटी परिषद ने मार्च 2021 तक विभिन्न जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की तय तारीखों को अधिसूचित किया है।

प्रत्येक रिटर्न के लिए जीएसटी कैलेंडर नीचे सूचीबद्ध है:

GSTR -1

कर योग्य वस्तुओं और सेवाओं की सभी आउटवार्ड सप्लाई के विवरण के लिए फॉर्म।

तिमाही(क्वार्टरली) फाइलिंग के लिए

(अगर आपका सालाना टर्नओवर 1.5 करोड़ रुपये से कम है, तो आप तिमाही फाइल कर सकते हैं**)

तिमाही

तय तिथि 

अक्टूबर से दिसंबर 2020

13 जनवरी 2021

जनवरी से मार्च 2021

13 अप्रैल 2021

अप्रैल से जून 2021

13 जुलाई 2021*

जुलाई से सितंबर 2021

13 अक्टूबर 2021*

नोट: *अप्रैल 2021 से GSTR-1 और GSTR-3B के लिए कर अवधि की नियत तारीखों को 31 मार्च 2021 तक केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) द्वारा अधिसूचित किया जाना बाकी है।

**ऐसे करदाता हर महीने बी2बी इनवॉइस या दस्तावेज अपलोड करने के लिए इनवॉइस फर्निशिंग सुविधा (IFF) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

मासिक फाइलिंग के लिए

(सालाना 1.5 करोड़ रुपये से ज्यादा का टर्नओवर होने पर हर महीने रिटर्न भरना होगा)

महीना

तयतिथि

दिसंबर 2020

11 जनवरी 2021

जनवरी 2021

11 फरवरी 2021

फरवरी 2021

11 मार्च 2021

मार्च 2021

11 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

11 मई 2021*

मई 2021

11 जून 2021*

जून 2021

11 जुलाई 2021*

जुलाई 2021

11 अगस्त 2021*

अगस्त 2021

11 सितंबर 2021*

नोट: *अप्रैल 2021 से GSTR-1 और GSTR-3B के लिए देय तिथियां 31 मार्च 2021 तक CBIC द्वारा अधिसूचित की जानी बाकी हैं।

GSTR -2

जीएसटी परिषद द्वारा आगे की अधिसूचना तक कर योग्य वस्तुओं और सेवाओं की सभी आउटवार्ड सप्लाई को रिकॉर्ड करने के लिए फॉर्म फिलहाल रोक दिया गया है।

GSTR -3

मासिक रिटर्न के विवरण के लिए फॉर्म संचालन को जीएसटी परिषद ने अनिश्चित काल के लिए अगली सूचना तक स्थगित कर दिया है।

GSTR-3B

जीएसटीआर-3बी एक मासिक सारांश रिटर्न है, जिसे सभी करदाताओं को फाइल करना होगा, जो कि कंपोजीशन सिस्टम के तहत पंजीकृत हैं। QRMP प्रोग्राम को  चुनने वाले 5 करोड़ रुपये तक के वार्षिक एग्रीगेट टर्नओवर वाले करदाताओं को 1 जनवरी, 2021 से तिमाही रिटर्न दाखिल करना होगा।

जनवरी 2021 से सितंबर 2021 तक

पिछले वित्तीय वर्ष में 5 करोड़ रुपये से अधिक के एग्रीगेट टर्नओवर के लिए

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

20 फरवरी 2021

फरवरी 2021

20 मार्च 2021

मार्च 2021

20 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

20 मई 2021*

मई 2021

20 जून 2021*

जून 2021

20 जुलाई 2021*

जुलाई 2021

20 अगस्त 2021*

अगस्त 2021

20 सितंबर 2021*

सितंबर 2021

20 अक्टूबर 2021*

 

नोट: *अप्रैल 2021 से GSTR-1 और GSTR-3B के लिए कर अवधि की तय तारीखों को 31 मार्च 2021 तक केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) द्वारा अधिसूचित किया जाना बाकी है।

पिछले वित्तीय वर्ष के लिए 5 करोड़ रुपये तक का एग्रीगेट टर्नओवर तिमाही रिटर्न मासिक भुगतान (QRPM) योजना का विकल्प नहीं चुनने वालों के लिए, जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की तय तारीखें इस प्रकार हैं:

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

20 फरवरी 2021

फरवरी 2021

20 मार्च 2021

मार्च 2021

20 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

20 मई 2021*

मई 2021

20 जून 2021*

जून 2021

20 जुलाई 2021*

जुलाई 2021

20 अगस्त 2021*

अगस्त 2021

20 सितंबर 2021*

सितंबर 2021

20 अक्टूबर 2021*

 

नोट: *अप्रैल 2021 से GSTR-1 और GSTR-3B के लिए देय तिथियां 31 मार्च 2021 तक CBIC द्वारा अधिसूचित की जानी बाकी हैं।

QRMP योजना का विकल्प चुनने वालों के लिए

तिमाही 

तय तिथि 

जनवरी से मार्च 2021

केटेगरी  "A" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

22 अप्रैल 2021

केटेगरी "B" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

24 अप्रैल 2021

अप्रैल से जून 2021*

केटेगरी"A" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

22 जुलाई 2021

केटेगरी "B" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

24 जुलाई 2021

जुलाई से सितंबर 2021*

केटेगरी "A" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

22 अक्टूबर 2021

केटेगरी"B" राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के लिए:

24 अक्टूबर 2021

 

नोट: *अप्रैल 2021 से GSTR-1 और GSTR-3B के लिए देय तिथियां 31 मार्च 2021 तक CBIC द्वारा अधिसूचित की जानी बाकी हैं।

केटेगरी A: मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, तमिलनाडु, गोवा, तेलंगाना, गुजरात, आंध्र प्रदेश या केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी, दमन और दीव और दादरा और नगर हवेली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप।

केटेगरी B: हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, नागालैंड, पंजाब, त्रिपुरा, हरियाणा, असम, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, बिहार, सिक्किम, मेघालय, झारखंड, मणिपुर, मिजोरम, पश्चिम बंगाल, या ओडिशा या केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और नई दिल्ली।

GSTR-4

यह कंपोजिशन डीलरों के लिए वार्षिक रिटर्न फॉर्म है। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए GSTR-4 दाखिल करने की नियत तारीख 30 अप्रैल 2021 है।

GSTR-5

आउटवार्ड टैक्सेबल सप्लाई और नॉन रेसीडेंट टैक्सेबल( non-resident taxable persons) व्यक्तियों द्वारा देय कर को निम्नानुसार संक्षेपित किया गया है:

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

20 फरवरी 2021

फरवरी 2021

20 मार्च 2021

मार्च 2021

20 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

20 मई 2021

मई 2021

20 जून 2021

जून 2021

20 जुलाई 2021

जुलाई 2021

20 अगस्त 2021

अगस्त 2021

20 सितंबर 2021

सितंबर 2021

20 अक्टूबर 2021

GSTR-5A

ऑनलाइन सूचना और डेटाबेस एक्सेस या रिट्रीवल सर्विसेज (OIDAR) देने वाले के द्वारा आउटवार्ड टैक्सेबल सप्लाई और बकाया कर का सारांश:

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

20 फरवरी 2021

फरवरी 2021

20 मार्च 2021

मार्च 2021

20 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

20 मई 2021

मई 2021

20 जून 2021

जून 2021

20 जुलाई 2021

जुलाई 2021

20 अगस्त 2021

अगस्त 2021

20 सितंबर 2021

सितंबर 2021

20 अक्टूबर 2021

GSTR-6

इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर (ISD) की रसीद और इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) के वितरण का विवरण:

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

13 फरवरी 2021

फरवरी 2021

13 मार्च 2021

मार्च 2021

13 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

13 मई 2021

मई 2021

13 जून 2021

जून 2021

13 जुलाई 2021

जुलाई 2021

13 अगस्त 2021

अगस्त 2021

13 सितंबर 2021

सितंबर 2021

13 अक्टूबर 2021

GSTR-7

जीएसटी कानून के तहत काटा गया और जमा किया गया टीडीएस(TDS) का सारांश निम्नानुसार है:

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

10 फरवरी 2021

फरवरी 2021

10 मार्च 2021

मार्च 2021

10 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

10 मई 2021

मई 2021

10 जून 2021

जून 2021

10 जुलाई 2021

जुलाई 2021

10 अगस्त 2021

अगस्त 2021

10 सितंबर 2021

सितंबर 2021

10 अक्टूबर 2021

 

GSTR-8

ई-कॉमर्स ऑपरेटरों द्वारा जीएसटी से संबंधित एकत्रित किया गए टीसीएस (TCS) का सारांश

महीना

तय तिथि

जनवरी 2021

10 फरवरी 2021

फरवरी 2021

10 मार्च 2021

मार्च 2021

10 अप्रैल 2021

अप्रैल 2021

10 मई 2021

मई 2021

10 जून 2021

जून 2021

10 जुलाई 2021

जुलाई 2021

10 अगस्त 2021

अगस्त 2021

10 सितंबर 2021

सितंबर 2021

10 अक्टूबर 2021

GSTR-9

यह सामान्य करदाताओं के लिए वार्षिक रिटर्न फॉर्म है। इसमें केंद्रीय माल और सेवा कर (CGST), राज्य माल और सेवा कर (SGST) और एकीकृत माल और सेवा कर (IGST) जैसे विभिन्न कर शीर्षकों के तहत प्रासंगिक वित्तीय वर्ष के दौरान सभी आउटवार्ड सप्लाई और प्राप्त इनवार्ड सप्लाई की जानकारी शामिल है। यह प्रत्येक HSN कोड के तहत रिपोर्ट की गई सप्लाई के कुल मूल्य की एक सूची है, साथ ही देय और भुगतान किए गए कर की जानकारी भी है। यह 2 करोड़ रुपये से अधिक के वित्तीय वर्ष के टर्नओवर वाले व्यवसायों पर लागू होता है। 2 करोड़ रुपये से कम टर्नओवर वाले लोगों के लिए फाइलिंग ऑप्शनल है। वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए GSTR-9 दाखिल करने की समय सीमा 31 मार्च, 2021 है।

GSTR-9C

यह रिकॉन्सिलिएशन स्टेटमेंट है, जो सभी जीएसटी-पंजीकृत करदाताओं को प्रदान करना होगा। यदि उनका वार्षिक कारोबार 5 करोड़ रुपये से अधिक है। वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए GSTR-9 दाखिल करने की समय सीमा 31 मार्च, 2021 है।

CMP-08

देय कर का सारांश प्रस्तुत करने और किसी तिमाही के लिए भुगतान करने के लिए कॉम्पोजिसन डीलरों के लिए फॉर्म।

अवधि

तय तिथि 

अक्टूबर से दिसंबर 2020

18 जनवरी 2021

जनवरी से मार्च 2021

18 अप्रैल 2021

अप्रैल से जून 2021

18 जुलाई 2021

जुलाई से सितंबर 2021

18 अक्टूबर 2021

ITC-04

किसी जॉब वर्कर को भेजी या प्राप्त की गई वस्तुओं के सारांश की रिपोर्ट करने के लिए एक निर्माता (manufacturer) को यह फॉर्म भरना होगा:

तिमाही 

तय तिथि 

अक्टूबर से दिसंबर 2020

25 जनवरी 2021

जनवरी से मार्च 2021

25 अप्रैल 2021

अप्रैल से जून 2021

25 जुलाई 2021

जुलाई से सितंबर 2021

25 अक्टूबर 2021

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)

1. क्या पंजीकृत डीलरों को जीएसटी प्रणाली में भी अपंजीकृत डीलरों की बिक्री की रिपोर्ट देनी होगी?

आम तौर पर नहीं, लेकिन यह इन्टर स्टेट सप्लाई (inter-State supplies) के मामले में आवश्यक है, जिसका चालान मूल्य 2.50 लाख रुपये से अधिक है।

2. क्या GSTR-9 में बदलाव करना संभव है?

GSTR-9 वन टाइम (one-time) सबमिशन है। एक बार GSTR-9 को सफलतापूर्वक जमा करने के बाद, आप इसे फिर से संशोधित नहीं कर सकते।

3. GSTR-9 जमा करने के लिए क्या आवश्यकताएं हैं?

GSTR-9 जमा करने के लिए निम्नलिखित दो मूलभूत शर्तें हैं:

  • एक सामान्य/नियमित करदाता (नॉर्मल/रेगुलर टैक्स्पेयर) रूप में, करदाता के पास संबंधित वित्तीय वर्ष के लिए एक सक्रिय GSTIN होना चाहिए।
  • करदाता ने वार्षिक रिटर्न दाखिल करने से पहले लागू वित्तीय वर्ष के लिए सभी लागू रिटर्न, जैसे GSTR-1 और GSTR-3B, दाखिल किए हो।

4. तिमाही रिटर्न मासिक भुगतान योजना (QRPM) के लिए कौन योग्य है?

पंजीकृत व्यक्ति जिसका पूर्ववर्ती वित्तीय वर्ष (preceding financial year) में एग्रीगेट टर्नओवर 5 करोड़ रुपये तक है और उसे फॉर्म GSTR-3B प्रस्तुत करना आवश्यक है, वह तिमाही रिटर्न मासिक भुगतान योजना (QRMP) योजना के लिए योग्य है।

5. क्यूआरएमपी (QRMP) स्कीम के लागू होने की प्रभावी तिथि क्या होगी?

क्यूआरएमपी योजना 1 जनवरी, 2021 से लागू होगी। करदाता के कुल वार्षिक टर्नओवर की गणना माल और सेवा कर नेटवर्क (GSTN) प्रणाली का उपयोग करके की जाएगी। सिंगल पोर्टल के माध्यम से स्कीम का लाभ लेने की क्षमता पूरे वर्ष उपलब्ध रहेगी। एक पंजीकृत व्यक्ति पिछली तिमाही के दूसरे महीने के पहले दिन से तिमाही के पहले महीने के अंतिम दिन तक किसी भी तिमाही के लिए ऑप्ट-इन कर सकता है।

6. पंजीकृत व्यक्ति को त्रैमासिक रूप से कौन सी जानकारी देनी चाहिए और इनवॉइस फर्निशिग फसिलिटी (IFF) का क्या अर्थ है?

पंजीकृत व्यक्ति जो स्कीम में भाग लेने का विकल्प चुनते हैं, उन्हें फॉर्म GSTR-1 में त्रैमासिक रूप से आउटवार्ड सप्लाई विवरण प्रदान करने की आवश्यकता होगी। तिमाही के पहले दो महीनों के लिए, पंजीकृत व्यक्तियों को प्रदान की गई सप्लाई की जानकारी के लिए चालान प्रस्तुत करने के लिए इनवाइस फर्निशिग फसिलिटी ('IFF') लागू की गई थी। सप्लायर इन चालानों को मासिक रूप से अपलोड कर सकता है। विशेष रूप से, करदाता तिमाही के प्रत्येक दो महीनों में अधिकतम 50 लाख रुपये के चालान अपलोड कर सकता है।

IFF सुविधा एक वैकल्पिक सुविधा है। पहले दो महीनों में इस सुविधा के माध्यम से प्रदान किए गए चालानों के विवरण को फिर से फॉर्म GSTR-1 में शामिल करने की आवश्यकता नहीं है। यह रेखांकित किया गया है कि सभी पंजीकृत व्यक्ति जिनका वित्त वर्ष 2019-20 के लिए कुल कारोबार 5 करोड़ रुपये तक है और जिन्होंने 30 नवंबर 2020 तक अक्टूबर 2020 के लिए फॉर्म GSTR-3B में रिटर्न प्रस्तुत किया है, वे स्वचालित रूप से सामान्य पोर्टल पर माइग्रेट हो जाएंगे।

7. क्या इनवॉइस फर्निशिग फसिलिटी (आईएफएफ) का उपयोग करना आवश्यक है?

यह क्यूआरएमपी (QRMP) स्कीम  के तहत पंजीकृत व्यक्तियों को प्रदान की जाने वाली एक वैकल्पिक सेवा है, और यह अनिवार्य नहीं है।

8. कर का मासिक भुगतान कैसे करें, और भुगतान की देय तिथि क्या है?

QRMP स्कीम के तहत पंजीकृत व्यक्ति को तिमाही के पहले दो महीनों में प्रत्येक में फॉर्म GST PMT-06 में देय कर जमा करना होगा। आपको अगले महीने की 25 तारीख तक टैक्स जमा करना होगा।

9. GSTR-3B की त्रैमासिक फाइलिंग (Quarterly Filing) का विकल्प चुनने वाले पंजीकृत व्यक्ति के लिए तय की गई तारीख क्या है?

प्रत्येक तिमाही के लिए, त्रैमासिक रिटर्न फाइलिंग और मासिक कर भुगतान (क्यूआरपीएम) योजना का विकल्प चुनने वाले पंजीकृत करदाताओं को क्लास A राज्यों और क्लास Bराज्यों के लिए तिमाही के बाद महीने के 22 वें या 24 वें दिन क्रमशः या उससे पहले फॉर्म जीएसटीआर -3 बी जमा करना होगा। 

10. इस योजना से बाहर निकलने की प्रक्रिया क्या है?

कोई भी व्यक्ति जिसने पिछली तिमाही में इस योजना को चुना है, वह अगली तिमाही में ऑप्ट-आउट कर सकता है।

11. क्या प्रत्येक चालान पर 6 अंकों का HSN कोड प्रदान करना आवश्यक है?

1 अप्रैल, 2021 से, अधिसूचना संख्या 78/2020 - केंद्रीय कर, दिनांक 15 अक्टूबर 2020 के अनुसार, 5 करोड़ रुपये से कम टर्नओवर के मामले में बिजनेस टू बिजनेस या (B2B) इनवॉइस के लिए नामकरण की 4 अंकों वाली सामंजस्यपूर्ण प्रणाली या (HSN कोड) रखना अनिवार्य है। और सभी इनवॉइस  बिजनेस टू बिजनेस (B2B) और बिजनेस टू कंज्यूमर (B2C) में जिनका टर्नओवर 5 करोड़ रुपये से अधिक होने की स्थिति में 6 अंक का HSN कोड रखना अनिवार्य है ।

12. मिसिंग इनवॉइस  क्या है?

मिसिंग इनवॉइस एक इनवॉइस या डेबिट नोट है, जिसे सप्लायर द्वारा अपलोड नहीं किया गया था, लेकिन खरीददार द्वारा इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का दावा करने के लिए उपयोग किया गया । यदि सप्लायर निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर लापता चालान अपलोड करता है, तो ग्राहक अपना आईटीसी ले सकता है; अन्यथा, क्रेडिट उनसे वसूल किया जाएगा। एक संशोधित रिटर्न दाखिल करके आप किसी भी छूटे हुए चालान को ठीक कर सकते हैं।

13. पेमेंट डेक्लरैशन फॉर्म क्या है?

छोटे करदाता पेमेंट डेक्लरैशन फॉर्म का उपयोग करके अपने कर का भुगतान करते हैं। पेमेंट डेक्लरैशन फॉर्म में स्व-मूल्यांकन किया हुआ लाइबिलिटी और सेल्फ डिक्लेर्ड इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) शामिल हैं। चूंकि पेमेंट डेक्लरैशन फॉर्म कोई रिटर्न नहीं है और इसमें मामूली गलती होने के परिणामस्वरूप कानूनी कन्सर्न नहीं होंगी, इस तरह यह छोटे करदाताओं के लिए कम्प्लाइन्स लागत को कम करती है।

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

None

जीएसटी के तहत रिफंड प्रक्रिया: -वह परिस्थितियाँ, जो जीएसटी रिफंड के दावों के लिए बन सकती हैं


None

भारत में जीएसटी का इतिहास - जीएसटी कार्यान्वयन लाभ


None

HSN कोड के साथ भारत में जीएसटी के तहत छूट प्राप्त सामानों की सूची