written by khatabook | July 1, 2021

जीएसटी का फुल फॉर्म और उसका अर्थ

जीएसटी वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री, निर्माण और खपत पर लगाया जाने वाला कर है।  गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) भारत में विभिन्न अप्रत्यक्ष करों जैसे उत्पाद शुल्क, बिक्री कर, वैट, सेवा कर इत्यादि के बदले लाया गया है। इसे पुरानी प्रणाली के तहत केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा लागू अप्रत्यक्ष कर के जटिल चक्रव्यूह को सरल बनाने के लिए लाया गया था।

जीएसटी क्या है

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) जम्मू और कश्मीर राज्य सहित भारत में वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति पर लगाया जाता है।  इसे उत्पादन से लेकर अंतिम खपत तक सभी चरणों में सेट ऑफ के लिए उपलब्ध सभी पिछले चरणों में भुगतान किए गए कर के क्रेडिट के साथ लिया जाता है।

जीएसटी एक ऐसा कर है, जो निर्माता से लेकर अंतिम उपभोक्ता तक हर मूल्यवर्धन पर लगाया जाता है।  इसके अलावा, इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) पिछले सभी चरणों में उपलब्ध है, ताकि दोहरे कराधान वाले व्यापक प्रभाव से बचा जा सके।

भारत में माल और सेवा कर की प्रयोज्यता

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) वस्तुओं और सेवाओं की खपत पर एक गंतव्य-आधारित कर है। अतः कर का अंतिम भार अंतिम उपभोक्ता को वहन करना होता है। चूंकि जीएसटी केवल मूल्य की बढ़त पर लगाया जाता है, तो यह कर के व्यापक प्रभाव यानी कर-पर-कर को रोकता है।  जीएसटी वस्तुओं और सेवाओं के बीच अंतर नहीं करता है और इस प्रकार, दोनों पर एक ही दर से कर लगाया जाता है।

सभी मौजूदा अप्रत्यक्ष करों का प्रतिस्थापन

माल और सेवा कर (जीएसटी) की शुरूआत ने 'एक राष्ट्र एक कर' की अवधारणा को लाया।  जीएसटी लगभग सभी मौजूदा राज्य और केंद्रीय अप्रत्यक्ष करों जैसे केंद्रीय उत्पाद शुल्क, केंद्रीय बिक्री कर, अधिभार और उपकर, वैट, विलासिता कर, प्रवेश कर, लॉटरी और सट्टेबाजी पर कर, मनोरंजन कर और सेवा कर आदि के बदले लगाया जाता है।

 पहले के अप्रत्यक्ष कर की समस्याएँ

पहले की कर प्रणाली विभिन्न समस्याओं से ग्रस्त थी। माल के निर्माता से माल के उत्पादन पर उत्पाद शुल्क और बिक्री पर मूल्य वर्धित कर (वैट) दोनों लगाया जाता है।  इसके अलावा, सेवा कर छूट प्राप्त सेवाओं की नकारात्मक सूची में सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाओं पर देय था।

उदाहरण के लिए, जब माल का निर्माण और बिक्री की जाती है, तो केंद्रीय स्तर के उत्पाद शुल्क और राज्य-स्तरीय वैट दोनों लगाए जाते थे। हालांकि दोनों अप्रत्यक्ष कर थे, एक कर को दूसरे कर के क्रेडिट से सेट ऑफ करना संभव नहीं था; क्योंकि उत्पाद शुल्क एक केंद्रीय कर था और वैट एक राज्य स्तरीय कर था।  इसके अलावा, उत्पाद शुल्क केवल विनिर्माण स्तर पर लागू था, लेकिन वितरण के स्तर पर नहीं।

वैट में कमी होने की वजह से जीएसटी आया

एकाधिक अप्रत्यक्ष कर

टैक्स कैस्केडिंग, यानी दोहरा कराधान

जटिल सिस्टम

 कराधान के कई स्तर

विभिन्न कानून, नियम और दरें

लेन-देन की प्रकृति का निर्धारण करने में कठिनाई - माल बनाम सेवाएं

सेवा कर लगाने में राज्यों की अक्षमता

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) प्रणाली इन समस्याओं का समाधान करते हैं। माल के निर्माण या बिक्री या सेवाओं के प्रतिपादन की अवधारणा अब लागू नहीं है, क्योंकि कर अब वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति पर लगाया जाता है।

दोहरा जीएसटी मॉडल

भारत ने दोहरे माल और सेवा कर (जीएसटी) मॉडल को अपनाया है। वस्तुओं और सेवाओं की अंतर-राज्य आपूर्ति पर केंद्र और राज्य सरकार दोनों द्वारा लगाए गए जीएसटी को केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) कहा जाता है।

राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा लगाए गए जीएसटी को राज्य वस्तु और सेवा कर (एसजीएसटी) / केंद्र शासित प्रदेश माल और सेवा कर (यूटीजीएसटी) कहा जाता है।  इसी तरह केंद्र द्वारा वस्तुओं और सेवाओं की प्रत्येक अंतर-राज्यीय आपूर्ति पर एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर (आईजीएसटी) लगाया जाता है।  आईजीएसटी सीजीएसटी और एसजीएसटी/यूटीजीएसटी का योग है।

 जीएसटी वेबसाइट

जीएसटी वेबसाइट - www.gst.gov.in - सरकार द्वारा करदाता के लिए इकलौता वेबसाइट स्थापित करने के लिए बनाया गया था। यह केंद्र और राज्य सरकार के बीच एक साझा आईटी अवसंरचना भी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का प्रबंधन जीएसटी (GSTN) द्वारा किया जाता है।

माल और सेवाओं का वर्गीकरण

गुड्स को गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) सिस्टम के तहत एचएसएन कोड पर वर्गीकृत किया गया है।  सेवाओं को सेवा लेखा कोड (एसएसी) के तहत वर्गीकृत किया गया है।

जीएसटी से छूट

मानव उपभोग के लिए मादक शराब को छोड़कर सभी वस्तुओं और/या सेवाओं की आपूर्ति पर जीएसटी लगाया जाएगा। सरकार की अधिसूचना जारी होने तक निम्नलिखित उत्पादों पर जीएसटी नहीं लगाया जाएगा।

 • पेट्रोलियम क्रूड

 • डीज़ल

• मोटर स्पिरिट (पेट्रोल)

• प्राकृतिक गैस

 • टर्बाइन ईंधन

भारत में निर्मित या उत्पादित उपरोक्त उत्पादों, तंबाकू और तंबाकू उत्पादों पर उत्पाद शुल्क लगाने की क्षमता केंद्र सरकार के पास है।

पंजीकरण

प्रत्येक आपूर्तिकर्ता को उस राज्य / केंद्र शासित प्रदेश में पंजीकरण प्राप्त करने की आवश्यकता होती है, जहाँ से माल की आपूर्ति होती है। यदि एक वित्तीय वर्ष के दौरान कुल व्यवसाय 20 लाख रुपये से अधिक है।

हालांकि, यह सीमा 10 लाख रुपये तक कम हो जाएगी, अगर व्यक्ति जम्मू और कश्मीर राज्य को छोड़कर विशेष श्रेणी के राज्यों में व्यापार कर रहा है।

• 01•04•2019 से मिल के लिए  20 लाख रूपये और 10 लाख रुपये को की सीमा को 40 लाख रूपये और  20 लाख रूपये कर दिया गया है।  हालांकि, सेवाओं की सीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

संरचना योजना

छोटे व्यवसायों को राहत देने के लिए कंपोजिशन टैक्स (कर) उपलब्ध है।  यह कर का भुगतान करने का एक सरल और आसान तरीका है। इस योजना को कोई भी करदाता चुन सकता है। यदि उसका कुल कारोबार 1•5 करोड़ रुपये से कम है।  माल और सेवा कर (जीएसटी) टर्नओवर की एक निश्चित दर पर लगाया जाएगा

कंपोजिशन डीलर को जहां भी लागू हो, रिवर्स चार्ज के तहत कर का भुगतान करना होगा।  केंद्र और राज्य सरकारें कुछ वस्तुओं या सेवाओं पर करों के भुगतान से छूट देने के लिए कुछ प्रावधान भी प्रदान करती हैं

 माल और सेवा कर (जीएसटी) के तहत पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज

एकमात्र स्वामित्व/पंजीकरण विलेख या व्यवसाय के निगमन के व्यवसाय प्रमाण के लिए पैन कार्ड प्रमाण।

एकमात्र स्वामित्व/पंजीकरण विलेख या व्यवसाय के निगमन के प्रमाण के लिए पहचान  प्रमाण।

 रद्द किया गया चेक या बैंक स्टेटमेंट की कॉपी

 पंजीकृत कार्यालय दस्तावेज जैसे:

      ० बिजली बिल/लैंडलाइन फोन बिल/पानी बिल की कॉपी

      मालिक का अनापत्ति प्रमाण पत्र

      ० रेंट एग्रीमेंट (यदि परिसर किराए पर लिया गया है)

इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी)

सीजीएसटी और एसजीएसटी / यूटीजीएसटी का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) पूरी उत्पादन प्रक्रिया में उपलब्ध है, लेकिन इनपुट क्रेडिट की क्रॉस सेटिंग संभव नहीं है, यानी एसजीएसटी के भुगतान के लिए सीजीएसटी क्रेडिट का उपयोग नहीं किया जा सकता है।  साथ ही, सीजीएसटी के भुगतान के लिए एसजीएसटी क्रेडिट का उपयोग नहीं किया जा सकता है।

सीजीएसटी/एसजीएसटी/आईजीएसटी के बीच क्रॉस-यूटिलाइजेशन की अनुमति है, यानी आईजीएसटी के क्रेडिट का इस्तेमाल सीजीएसटी/एसजीएसटी/यूटीजीएसटी और इसके विपरीत के भुगतान के लिए किया जा सकता है।

 जीएसटी की प्रासंगिकता

 • आसान अनुपालन :- सभी करदाता सेवाएं जैसे पंजीकरण, रिटर्न, भुगतान आदि करदाताओं के लिए ऑनलाइन उपलब्ध हैं।  इसने जीएसटी भुगतान और रिटर्न दाखिल करने की पूरी प्रणाली को आसान और पारदर्शी बना दिया है

  कर दरों और संरचनाओं की एकरूपता : - जीएसटी निश्चितता और व्यापार करने में आसानी को बढ़ाता है।  नियम और दरें पूरे देश में समान हैं।

 • व्यापक प्रभाव को हटाना : - मूल्य श्रृंखला में और राज्यों की सीमाओं के पार निर्बाध कर क्रेडिट की एक प्रणाली ने यह सुनिश्चित किया है कि कर का न्यूनतम कैस्केडिंग हो। इससे व्यापार करने की छिपी लागत कम हो गई है।

व्यवसायों के लिए फायदेमंद : - जीएसटी राज्यों के बीच अस्वास्थ्यकर प्रतिस्पर्धा को रोकता है और यह एकल कर प्रणाली लाता है, जिससे अंतरराज्यीय व्यापार करना आसान हो जाता है।

आसान टैक्स फाइलिंग और दस्तावेज़ीकरण : - जीएसटी में, अनुपालन और दस्तावेज़ीकरण बहुत आसान है।  एक ही वेबसाइट www.gst.gov.in से रिटर्न फाइलिंग, कर भुगतान और रिफंड प्रक्रिया को परेशानी-मुक्त बनाया गया है।

 •अधिक रोजगार : - जीएसटी से निर्मित उत्पादों की लागत कम हो जाती है।  उससे उत्पाद की मांग  बढ़ाती है और मांग को पूरा करने के लिए आपूर्ति को बढ़ाना पड़ता है। अधिक आपूर्ति की आवश्यकता को रोजगार बढ़ाने से ही पूरा किया जा सकता है।

 सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि :- जैसे-जैसे मांग बढ़ेगी, उत्पादन भी बढ़ेगा। फलस्वरूप यह सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) को बढ़ाता है।

कर चोरी में कमी: - जीएसटी एक एकल कर सुधार है, जिसमें विभिन्न कर शामिल हैं, जो प्रणाली को कुशल और लोगों को कर से बचने में मुश्किल बनाते हैं।

 अधिक प्रतिस्पर्धी उत्पाद :- चूंकि जीएसटी कर के व्यापक प्रभाव को कम करता है।  यह व्यवसायों और अंतिम उपभोक्ता के लिए अधिक लाभ लाता है।

 जीएसटी की दरें

वर्तमान समझौते के अनुसार, जीएसटी 4 मुख्य स्लैब में 5% से 28% तक लागू होगा। जीएसटी भारत में बेचे जाने वाले हर सामान और सेवा पर लगेगा।

 0% कर की दर - खाद्यान्न, चावल और गेहूं जैसी सभी वस्तुएँ इस स्लैब के अंतर्गत आती हैं।

 • जीएसटी 5% कर  - मसाले, चाय, चीनी, तेल जैसी सभी वस्तुएँ इस श्रेणी में आती हैं

 जीएसटी 12% कर - ब्रेड, पनीर, रेडीमेड भोजन, दूध, मक्खन जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ इस टैक्स स्लैब में आएंगे।

 जीएसटी 18% कर - इस टैक्स स्लैब के तहत साबुन, तेल, टूथपेस्ट, रेफ्रिजरेटर और स्मार्टफोन जैसे सामान  शामिल हैं।

 •  जीएसटी 28% कर - इस टैक्स स्लैब में लग्जरी उत्पाद, लग्जरी कारें, तंबाकू और तंबाकू उत्पाद, पान मसाला, गुटखा आदि शामिल हैं। उच्चतम कर दर पर अतिरिक्त उपकर और स्वच्छ ऊर्जा उपकर लगेगा।

 निष्कर्ष

अंततः, हम कह सकते हैं कि जीएसटी की शुरूआत सरकार द्वारा लिए गए सर्वोत्तम निर्णयों में से एक है। जीएसटी के लागू होने से सरकार की ओर राजस्व का प्रवाह सुचारू रूप से हो रहा है।  साथ ही, पिछले सभी चरणों में भुगतान किए गए कर के क्रेडिट के साथ अंतिम उपभोक्ता को सस्ती कीमत पर वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति की जाती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न(FAQs)

 प्र. जीएसटी क्या है?

 उ. जीएसटी का अर्थ है वस्तु एवं सेवा कर।  जीएसटी वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री, निर्माण और खपत पर लगाया जाने वाला एकल उपभोग-आधारित कर है, जिसने सेनवैट, चुंगी, वैट, बिक्री कर और उत्पाद शुल्क आदि सहित विभिन्न मौजूदा करों की जगह ले ली  है।

 प्र. आपूर्ति का क्या अर्थ है?

 . आपूर्ति का अर्थ है माल और सेवाओं की बिक्री, हस्तांतरण, विनिमय, लाइसेंस, किराया, पट्टा या निपटान।

 प्र. जीएसटी के अंतर्गत वस्तु एवं सेवा कर कितने प्रकार के होते हैं?

 .जीएसटी  निम्नलिखित 3 प्रकार का होता है:-

 1. सीजीएसटी: केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर, केंद्र द्वारा प्रबंधित

 2. एसजीएसटी: राज्य माल और सेवा कर, राज्यों द्वारा प्रबंधित

 3. आईजीएसटी: सभी अंतर-राज्यीय लेनदेन पर भुगतान किया गया एकीकृत माल और सेवा कर,केंद्र द्वारा प्रबंधित 

 प्र. जीएसटी कब लागू हुआ?

 . जीएसटी 1 जुलाई, 2017 को लागू हुआ।

 प्र. मैं जीएसटी का भुगतान कैसे कर सकता हूँ?

 उ. जीएसटी का प्रबंधन जीएसटीएन नेटवर्क, GSTN - http://gstn.org/ के माध्यम से किया जाएगा।  सभी कर का भुगतान ऑनलाइन किया जाएगा और रिटर्न की कोई मैन्युअल फाइलिंग नहीं होगी।  चालान ऑनलाइन निकलने  के बाद, आप निम्नलिखित में से किसी एक तरीके से जीएसटी का भुगतान कर सकते हैं - एक्सिस डेबिट / क्रेडिट कार्ड, एक्सिस इंटरनेट बैंकिंग, या किसी भी एक्सिस बैंक शाखा में नकद / चेक।

 प्र. इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) का क्या अर्थ है?

 . आप इनपुट वस्तुओं/सेवाओं पर जो कर चुकाते हैं, उसका उपयोग आउटपुट टैक्स देनदारियों के बदले इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के रूप में किया जा सकता है।

 प्र. इनपुट टैक्स क्रेडिट कैसे लागू किया जा सकता है?

 . इनपुट टैक्स क्रेडिट( ITC) का उपयोग निम्नानुसार किया जा सकता है:

1. CGST इनपुट टैक्स क्रेडिट का उपयोग CGST और IGST का भुगतान करने के लिए किया जा सकता है।

2 . SGST इनपुट टैक्स क्रेडिट का उपयोग  SGST और IGST का भुगतान करने के लिए किया जा सकता है।

3 . IGST इनपुट टैक्स क्रेडिट का उपयोग CGST, SGST और IGST का भुगतान करने के लिए किया जा सकता है।

mail-box-lead-generation

Got a question ?

Let us know and we'll get you the answers

Please leave your name and phone number and we'll be happy to email you with information

Related Posts

all about gst

जीएसटी के तहत क्षतिपूर्ति उपकर क्या है?


invoice under gst

जीएसटी के तहत प्रो फॉर्मा चालान क्या है - अर्थ, टेम्पलेट और उपयोग


impact of gst rate

घरेलू उपकरणों और विद्युत मशीनरी पर जीएसटी दर का प्रभाव


gst liability

जीएसटी पोर्टल पर सीएमपी-08 में जीएसटी देयता का भुगतान: स्टेप-बाय-स्टेप गाइड


gst on labour

भारत में श्रम शुल्क पर जीएसटी के बारे में जानिए


exemptions under gst

जीएसटी के तहत किन वस्तुओं को छूट दी गई है?


quaterly returns

जीएसटी: त्रैमासिक रिटर्न फाइलिंग और कर का मासिक भुगतान (क्यूआरएमपी)


gst supply of goods

जीएसटी के तहत माल की आपूर्ति का स्थान


gstr-1

जीएसटी पोर्टल पर शून्य जीएसटीआर 1 रिटर्न कैसे दाखिल करें?