जीएसटी

GST संशोधन अधिनियम 2018 की विशेष समजूती

भारत सरकार के वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल ने 7 अगस्त, 2018 को लोकसभा में केंद्रीय गुड्स एंड सर्विस टैक्स (संशोधन) विधेयक, 2018 पेश किया। सेन्ट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स अधिनियम, 2017 में बिल के तहत कुछ संशोधनों के बारे में बताया गया था।

इस अधिनियम में केंद्र सरकार इसे कीस तरह लागू करेगी और राज्यों के बीच माल और / या सेवाओं की सप्लाई पर जीएसटी एकत्र करने के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। अधिकांश प्रावधान 1 फरवरी, 2019 से लागू कर दिए गए है और वे 1 जुलाई, 2017 से लागू हैं – पूर्वव्यापी प्रभाव के साथ। अब हम कुछ मुख्य संशोधनों पर एक नज़र डालेंगे :

परिभाषाएँ :

1. Central Board of Indirect Taxes and Customs (CBIC) का स्थान Central Board of Excise & Customs (CBEC) ने ले लिया है।
2. संशोधन ने बिजनेस वर्टिकल परिभाषा को हटा दिया है।
3. संशोधन व्यवसाय के दायरे में एक रेस क्लब की गतिविधियों को लाता है। ये गतिविधियाँ एक टोटलाइज़र (एक उपकरण जो कि किए गए दांवों की संख्या और मात्रा का विवरण देता है, और बाद में विजेताओं के बीच कुल सट्टेबाजी के धन को विभाजित करने की सुविधा देता है), या ऐसे क्लब के भीतर एक लाइसेंस प्राप्त सट्टेबाज की गतिविधियों का उपयोग हो सकता है।
4. संशोधन ने यह भी स्पष्ट किया है कि “सेवाओं” का अर्थ लेनदेन की सुविधा भी होगा।

कंपोजिशन स्कीम :

पिछले सीजीएसटी अधिनियम 2017 के तहत, जिन करदाताओं का वार्षिक कारोबार 1 करोड़ रुपये तक था, उन्हें गुड्स एंड सर्विसेज के मूल्य के बजाय टर्नओवर पर
कर चुकाना पडता था। लेकिन जीएसटी संशोधन के प्रावधानों के तहत सरकार ने इस राशि की सीमा बढ़ाकर 1.5 करोड़ रुपये कर दी है।

सेवाओं के सप्लायर – पात्रता :

मौजूदा अधिनियम के तहत, केवल रेस्तरां सेवा सप्लायर (सेवा आपूर्तिकर्ताओं के बीच) इस संरचना योजना के
तहत आ सकते हैं। लेकिन इस जीएसटी संशोधन ने अन्य सेवा सप्लायर को भी पात्रता दी है; इस शर्त के अधीन कि इन सेवाओं का मूल्य पिछले वित्तीय वर्ष में उनके टर्नओवर के 10% से कम या बराबर होना चाहिए और वह भी राज्य के भीतर; या 5 लाख रु, जो भी कम हो।

रिवर्स चार्ज :

यह हो सकता है कि एक अपंजीकृत (जीएसटी के तहत) व्यक्ति पंजीकृत व्यक्ति को सामान या सेवाएं प्रदान करता है। ऐसे मामले में, गुड्स एंड सर्विस रिवर्स चार्ज के
तहत कर योग्य होगी। लेकिन यह शुल्क केवल उन वस्तुओं और सेवाओं पर लागू होगा जिन्हें सरकार अधिसूचित करेगी।

जीएसटी पंजीकरण :

सीजीएसटी अधिनियम के 2017 के तहत, एक व्यक्ति एक ही राज्य के भीतर एक ही व्यवसाय के लिए एक से ज्यादा पंजीकरण नहीं करा सकता। वह ऐसा तभी कर सकता है जब व्यावसायिक कार्यक्षेत्र अलग-अलग हों। लेकिन इस GST संशोधन के तहत, व्यवसायी एक ही राज्य के भीतर एक ही व्यवसाय के लिए कई पंजीकरण का विकल्प चुन सकते हैं। इस तरह के प्रत्येक पंजीकरण को एक अलग व्यक्ति माना जाएगा। इसके अलावा, अगर किसी की SEZ (विशेष आर्थिक क्षेत्र) में व्यावसायिक युनिट है, तो व्यवसायी को इस विशेष युनिट के लिए अलग से पंजीकरण करने की आवश्यकता है।

मौजूदा अधिनियम के तहत, ई-कॉमर्स व्यवसायों के लिए जीएसटी के तहत पंजीकरण करना अनिवार्य था। हालांकि, संशोधन के बाद, यह केवल उन लोगों के लिए अनिवार्य है, जो स्रोत पर भुगतान और अतिरिक्त कर जमा करते हैं (जो कि मूल्य का <= 1% है)।

अधिनियम में किसी भी व्यवसायी का टर्नओवर 40 लाख रुपये प्रति वर्ष से अधिक है, अगर वह माल की सप्लाई करता है, तो 20 लाख रुपये या उसके सेवाओं की सप्लाई करने पर उसके प्रावधानों के तहत पंजीकरण करने के लिए। हालांकि, जम्मू और कश्मीर को छोड़कर, एक विशेष श्रेणी के तहत आने वाले राज्यों के लिए सीमा 10 लाख रुपये थी। लेकिन जीएसटी संशोधन के साथ, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मेघालय, असम, सिक्किम और उत्तराखंड के लिए यह सीमा 20 लाख रुपये हो गई है। संशोधन में एक प्रावधान भी है, जिसके तहत जीएसटी परिषद एक विशेष श्रेणी के तहत शेष राज्यों के लिए अधिक सीमा 20 लाख रुपये तक बढ़ा सकती है।

इनपुट टैक्स क्रेडिट – स्कोप

मौजूदा अधिनियम के तहत, इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) मोटर वाहनों और संप्रेषण के अन्य तरीकों पर लागू था – बशर्ते, उनका उपयोग माल परिवहन सहित विशिष्ट उद्देश्यों के लिए किया जाता हो। हालांकि संशोधन के तहत मोटर वाहनों (जो अधिकतम 13 लोगों को सीट दे सकता है) और जहाजों और विमानों के बीच एक स्पष्ट अंतर बनाता है।

संशोधन में उल्लेख किया गया है कि केवल जहाज और विमान माल परिवहन के लिए ITC का लाभ उठा सकते हैं। यह भी निर्दिष्ट करता है कि जो कर्मचारी छुट्टी पर या घर की यात्रा पर कन्सेशन जैसे यात्रा लाभ प्राप्त करते हैं, वे आईटीसी का लाभ नहीं उठा सकते हैं – जब तक कि उस व्यक्ति को इन लाभों की पेशकश करने के लिए कानून द्वारा अनिवार्य नहीं किया जाता है।

फर्निशिंग रिटर्न

संशोधन ने एक नया प्रावधान पेश किया है। इसके तहत, जीएसटी के तहत पंजीकृत व्यक्ति अपने रिटर्न में पंजीकृत स्पलायरो द्वारा पंजीकृत सप्लाई की माहिती को मान्य, संपादित या हटा सकते हैं। इसके अलावा, पंजीकृत व्यक्तियों की कुछ कैटिगरी में तिमाही रिटर्न फाइलिंग प्रणाली भी की जा सकती हैं।

संघटित नोट्स

मौजूदा अधिनियम के तहत, अतिरिक्त कर की प्राप्ति, या सप्लाई की गई वस्तुओं या सेवाओं की वापसी की स्थिति में, एक पंजीकृत सप्लायर को प्रत्येक चालान के लिए डेबिट या क्रेडिट नोट को प्राप्तकर्ता को अलग करना पड़ता था। लेकिन जीएसटी संशोधन के तहत, एक सपलायर एक से अधिक चालान के लिए संघटित नोट जारी कर सकता है।

सप्लाई का स्थान :

यदि व्यवसायी भारत के बाहर किसी स्थान पर माल परिवहन करता है, तो अधिनियम सप्लाई के स्थान को माल का अंतिम स्थान माना जाता है। इसलिए, इस तरह के सामान जीएसटी के दायरे में नहीं आते। इसके अलावा, मौजूदा अधिनियम की धारा 13 के तहत, एक प्रावधान था – जिससे, यदि मरम्मत के लिए सामानों को अस्थायी रूप से भारत में आयात किया जाता है और व्यवसायी मरम्मत को पूरा करने के बाद सामानों का निर्यात किया जाता है , तो इन वस्तुओं पर भी जीएसटी नहीं लागू होता।

हालांकि, संशोधन के अनुसार, इस तरह के सामान के किसी भी प्रकार के उपचार या प्रक्रिया (केवल मरम्मत तक सीमित नहीं) को कर छूट का लाभ मिलेगा। इस प्रकार, जीएसटी संशोधन ने कई मामलों में छूट दी गई है।

निष्कर्ष की बात करे तो, जीएसटी लागू करने का पूरा उद्देश्य कर प्रक्रिया को आसान बनाना और समस्याओ को कम करना था। इसे व्यापार के अनुकूल बनाने के लिए लगातार बदलाव किए जा रहे है। यह संशोधन उस लक्ष्य की ओर एक और कदम है।