जीएसटी

जीएसटी क्या है और हमने इसे क्यों चुना?

GST या गुड्स सर्विसेज टैक्स 1 जुलाई, 2017 से लागू हो गया है। उस से पहले तक भारत की कर प्रणाली बेहद जटिल थी।

पिछले एक दशक नए कर के रूप में सर्विस टैक्स की शुरूआत हुई थी। इसके अलावा, केंद्र और राज्य करों के लिए अलग चालान (चालान) की आवश्यकता थी। जिसकी वजह से कर चोरी और उसमें से बचने की गुंजाइश अधिक थी इसलिए विवाद और मुकदमेबाजी की संभावनाएं रहती थी।

साल 2007 में, तत्कालीन वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने 2010 तक जीएसटी लागू करने की बात कही थी। बड़े पैमाने पर देरी के बाद जैसे-जैसे तौर-तरीकों पर धीरे-धीरे काम किया गया और आखिरकार नई कर व्यवस्था लागू हुई।

लेकिन अभी तक बहुत लोगो को जीएसटी के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं है। यही कारण है कि हमने उन 10 तरीकों के बारे में लिखा है जो छोटे व्यवसायों और उनके मालिकों को प्रभावित करता है।

विभिन्न कर को एक बनाता है:

1. पिछली प्रणाली के तहत, कर पर कर था। उदाहरण के तौर पर बात करें तो, मान लिजिए एक्स नाम के एक निर्माता ने वाई नाम के रिटेलर को एक 10,00 रूपये का फोन बेचा और बिक्री कर 5% चार्ज लगाया।

यदि Y ने 10% मुनाफ़ा लगाकर उसने 10,500 रूपये में बेचा (उसकी कुल खरीद मूल्य) + 10,000 रूपये पर 10% मुनाफ़ा + 5% बिक्री कर = 12,075 रूपये पर अपने ग्राहकों को बेचा।

इसके कारण किंमते बढ़ती थी। Y ने 5% X को भुगतान किया था, उसने उस पर भी फिर से कर लगाया।

जीएसटी इस विसंगति को इनपुट टैक्स क्रेडिट सिस्टम के साथ दूर करता है।

Y केवल उसके (उसके लाभ) द्वारा किए गए मूल्य पर कर का भुगतान करेगा।

तो ग्राहक 10,000 रूपये + 10% मुनाफ़ा + 5% GST = 11,550 रूपये का भुगतान करेगा।

Y सरकार को कर के रूप में 550 रूपये का भुगतान करेगा और 500 रूपये का रिफंड प्राप्त करेगा। X भी GST के रूप में 500 रूपये का भुगतान करेगा।

सरकार को कर के रूप में 11,000 रूपये पर 5%
या फीर ये कहो की 550 रूपये प्राप्त होंगे।

VAT, CENVAT की उलझनों को दूर करता है :

कई करों से बचने के लिए 15 साल पहले वैट को भारत में राज्य स्तर पर पेश किया गया था।

हालांकि, यह पूरी तरह से काम नहीं करता था क्योंकि
CENVAT (एक्साइज ड्यूटी और सर्विस टैक्स सहित) के खिलाफ स्थापित नहीं किया जा सकता था। क्योंकि एक टैक्स राज्य और एक केंद्र सरकार द्वारा प्रबंधित किया जाता था।

जीएसटी के बारे में बड़ी बात यह है कि यह पेट्रोलियम और अल्कोहल को छोड़कर लगभग सभी चीजों पर लगाए जाते कई कर को एक ही कर में शामिल करता है।


  • राज्य वैट
    • राज्य उपकर
    • खरीद कर
    • केंद्रीय उत्पाद शुल्क (सेन्ट्रल एक्साइज ड्यूटी)
    • अतिरिक्त उत्पाद शुल्क (विशेष महत्व का सामान)
    • सेवा कर
    • केंद्रीय बिक्री कर
    • मनोरंजन कर

जीएसटी का स्लैब :


जीएसटी को लेकर सबसे भ्रामक विशेषताओं में से एक यह है कि इसमें बहुत अधिक स्लैब हैं। इसमें नमक से लेकर शैंपेन तक सब पर एक कर लगाने की कल्पना की गई थी।

जीएसटी को 4 स्लैब 5%, 12%, 18% और 28% में वर्गीकृत किया गया हैं। कुछ सामान जैसे कि कार, लक्जरी चीजों को एक अतिरिक्त उपकर का सामना करना पड़ता है।

दवाओं सहित सभी आवश्यकताओं पर 5% जीएसटी लगाया जाता है।

कुछ वस्तुएं, जैसे की दूध पर जीएसटी नहीं लगाया जाता।

तीन-स्तरीय जीएसटी के लिए 12 और 18% स्लैब को मर्ज किया जा सकता है।

भारत को छोड़कर लगभग हर देश में जीएसटी की दर लगभग 16% है।

हालांकि, बहुत गरीबों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए, 5% होना आवश्यक था और लक्जरी चीजों के लिए 28% का स्लैब रखा गया है ।

सीजीएसटी, एसजीएसटी, आईजीएसटी :

तीन अलग-अलग तरह के जीएसटी टैक्स हैं – सेंट्रल जीएसटी, स्टेट जीएसटी, और इंट्रा स्टेट जीएसटी।

यदि आप किसी राज्य के अंदर माल बेचते हैं, तो आपको CGST और SGST दोनों चार्ज करने होंगे। अगर आप 18% GST पर हेयर ऑयल बेचते हैं तो इसे 9% और 9% के बराबर विभाजित किया जाएगा।

लेकिन क्या होगा अगर आप गुजरात में हेयर ऑयल का निर्माण करते हैं और बिहार में बेचते हैं? किसी भी अंतरराज्यीय लेनदेन पर उचित स्लैब के साथ उसे केंद्र सरकार के पास GST (18% पर हेयर ऑयल के मामले में) की राशि जमा की जाएगी।

GST पंजीकरण :

20 लाख रुपये से अधिक का कारोबार करने वाले प्रत्येक व्यवसाय को GST के लिए पंजीकरण करवाना आवश्यक है।

विशेष श्रेणी के राज्यों के मामले में 10 लाख रुपये से अधिक का कारोबार करने वाले प्रत्येक व्यवसाय को GST के लिए पंजीकृत करना होगा।

किसी भी व्यवसाय को सेवाएं प्रदान करने वाले को टर्नओवर नजर में रखे बिना भी पंजीकरण करना होगा।

इसके अलावा, राज्य की सीमाओं के पार माल या सेवा बेचने वाले किसी भी व्यवसाय को जीएसटी के लिए तहत अनिवार्य रूप से पंजीकरण करना होगा।

जीएसटी लेजर :

हर व्यवसाय को एक जीएसटी खाता बही (या एक सेटर्स) बनाए रखना होता है जो निम्नलिखित जानकारी प्रदर्शित करता हो।
• इनपुट एसजीएसटी
• इनपुट सीजीएसटी
• इनपुट आईजीएसटी
• आउटपुट एसजीएसटी
• आउटपुट सीजीएसटी
• आउटपुट आईजीएसटी
इसके अलावा, एक इलेक्ट्रॉनिक कैश लेज़र को भी बनाए रखना जरूरी है।

रिकार्ड रखना :

जब भी कर अधिकारियों द्वारा पूछा जाए तब निम्नलिखित जीएसटी डेटा के बारें में बताना जरूरी है।

• मिल और सेवाओं की खरीद और बिक्री
• माल का निर्माण
• स्टॉक रिकॉर्ड
जीएसटी देय और जीएसटी प्राप्य के लिए अलग-अलग खाते होना जरूरी है।

रखरखाव की अवधि :

रिकॉर्ड्स की सभी अकाउंट को वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि से लेकर कम 6 साल तक बनाए रखा जाना चाहिए।

यदि खाते और रिकॉर्ड को संभाल कर रखा नहीं जाता, तो कर अधिकारियों द्वारा तय किए गए अनुसार जुर्माना भरना पड़ सकता है।

फ्रीक्वेंसी :

जीएसटी रिटर्न में जीएसटी भुगतान के बारे में, जीएसटी रिफंड के साथ-साथ खरीद और बिक्री की माहिती भी शामिल करनी जरूरी हैं।

जीएसटीआर फॉर्म 1, 2, 3 को मासिक और जीएसटीआर 9 को सालाना दाखिल करना होगा। GSTR 9 वित्तीय वर्ष की समाप्ति के बाद 31 दिसंबर को दाखिल करना है। जैसे कि 2018-19 की अवधि के लिए 31 दिसंबर, 2019 को जीएसटीआर 9 दायर किया जाएगा।

GST संरचना योजना :

संरचना योजना काफी सरल स्किम्ड है, जिसके द्वारा पिछले वर्ष में 50 लाख रूपये से अधिक की बिक्री नहीं करने वाले करदाता केवल त्रैमासिक रिटर्न दायर कर सकते हैं।

प्रमुख लाभ कम डिग्री पर किया जाता पालन है। इसका नुकसान यह है कि माल राज्य के बाहर बेचा नहीं जा सकता है, और कोई इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ भीं उठाया जा सकता।

निष्कर्ष :

इस समय, जीएसटी एक शुरुआती अवस्था में है। इन प्रभावों को अभी भी समझा जा रहा है और सरकार को यह पता लगाने की कोशिश कर रही कि जीएसटी अधिक या कम कमाई कर रहा है।

मासिक आधार पर कानून में बदलाव होते हैं क्योंकि क्योंकि प्रोटोकॉल को अभी भी अंतिम रूप दिया जा रहा है।

व्यवसाय समुदाय को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। अधिकांश समस्या सरकार द्वारा कर वापसी की कमी और विक्रेताओं द्वारा जीएसटी की लूट (जीएसटी एकत्र नहीं बल्कि जमा) के कारण है।

अगस्त में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वादा किया है कि एमएसएमई को लंबित सभी जीएसटी को 30 दिनों में मंजूरी दे दी जाएगी। उम्मीद है, एक साल के भीतर, इन सारी कमियों को सिस्टम से बाहर कर दिया जाएगा।